बीएफ मां बेटे का

छवि स्रोत,गढ़वाली सेक्स बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

हिंदी बीएफ एचडी दिखाइए: बीएफ मां बेटे का, कहानी के पिछले भागमेरी गांड मारने वाल पुराना दोस्त मिलामें आपने पढ़ा था कि सोनी तापोश और मैं कॉलेज के दोस्त थे.

गांड की सेक्सी बीएफ

मैं- बीवी के हरदम कुढ़े रहने से, उसको सन्धिवात और दिल की बीमारी हो गयी. हिंदी बीएफ फुल सेक्सी फुल एचडीमैंने उसकी ओर देखा, तो उसने कहा- चलो चलो …उसने जीभ चिढ़ाई लेकिन कर क्या सकते थे.

उसकी चूत से अभी भी रस बह रहा था, जिसे मैंने जीभ से चाट कर साफ किया. हिंदी बीएफ नंगा सीनमैं चूंकि चाची के साथ ही रहता था तो चाची अपना हर काम मुझसे ही करवाने लगी थीं.

तूने आज मेरी बहुत ज़बरदस्त ठुकाई की है … तेरी इस ख़तरनाक ठुकाई ने तो मेरी चूत की हालत ख़राब कर दी है और जो तूने आज मेरी गांड की सील तोड़ चुदाई की है, उसमें मुझे बहुत मज़ा आया.बीएफ मां बेटे का: एक बार जब हम सब नशे में थे, तब किशन ने मुझसे पूछा कि कोई फंसाई?तो मैंने उसे अपनी सारी फीलिंग चाची के बारे में बता दी.

फिर मैदान साफ़ देख कर मैं सीधा उसके घर के फाटक खोल कर अन्दर घुसा तो वो सामने खड़ी थी.वो भी बाजारू रंडी की तरह अपने गालों पर मेरे लंड की मलाई से मालिश करने लगी.

सेक्सी बीएफ 2 साल - बीएफ मां बेटे का

करीब पांच मिनट तक किस होने के बाद हम अलग हुए, तो टॉप अभी भी उसकी आंखों पर ही जहां रुका था, वहीं था.मैंने कहा- चल ठीक है, तुझे तेरी गलती का अहसास हो गया है, तो माफ़ किया.

आज मैं आपको अपने जीवन की एक सच्ची सेक्स कहानी सुनाने जा रहा हूँ जिसमें मैंने अपनी चचेरी बहन को चोदा!मैं कॉलेज में पढ़ता था और तब मेरे एग्जाम चल रहे थे. बीएफ मां बेटे का मेरी गलती न होने पर भी, मैं जब तक बीवी के पाँव पकड़कर माफ़ी नहीं मांग लेता, उसका गुस्सा शांत नहीं होता.

लगभग 10 मिनट तक डिल्डो से गांड मारने के बाद लड़कों से बर्दाश्त करना मुश्किल हो गया तो सब हाथ जोड़कर हमसे और ज्यादा ना करने को कहने लगे.

बीएफ मां बेटे का?

मैंने उसके साथ हाथ लगा कर उसका टॉप अलग किया और एक बार फिर किस किया. लड़कियां भी पूरे मज़े लेने के मूड में थी इसलिए कोई भी विरोध नहीं कर रही थी. मॉम को देखकर मेरा मन तो कर रहा था कि मैं मॉम के सारे कपड़े फाड़कर उन्हें यहीं चोद दूँ.

थोड़ी बाद जब कोमल शांत हो गई तो मैं कोमल आंखों से निकलते हुए आंसुओं को अपने होंठों से चूसने लगा. मेरी चूत की जीभ से सफाई कर के शेखर उठा तो मैं घुटने पर आ गई और शेखर की चड्डी उतारने लगी. कुछ मिनट तक चाची की गांड की अच्छे से ठुकाई करने के बाद मैंने लंड को गांड से बाहर निकाला और चूत में घुसा दिया.

उसकी और मेरी जीभ का मिलन हो रहा था।मैं उसकी गांड को थोड़ा सा उठा के अपने लंड से उसकी चुदाई करने लगा।मेरी चुदाई से वो एकदम पगला गयी और मेरे होंठ पर काट लिया. पटियाला सलवार मेरी कमर पर एकदम से कसी हुई फिटिंग वाली थी जिससे मेरे नितंब बहुत ही सेक्सी और बड़े दिख रहे थे. अगले दो दिन तक तो मेरी इतनी बुरी हालत रही कि पेशाब करते ही मेरी गुच्छी में जलन होने लगती थी.

मैं भी बोली- हाँ जीजू, साली बहुत परेशान कर रही थी कल से! आज क़त्ल कर दो इस हरामजादी का!अब जीजू के धक्के तेज होने लगे और गन्दी गन्दी बातें करते हुए जीजू मुझ पर जोर जोर से कूदने लगे- ले हरामजादी, आज तेरी बुर का भोसड़ा बना दूंगा … तेरी चूत में आग लगा दूंगा … साली रंडी. मेरी नीचे को नजर गई तो कोमल भाभी की हाई हील्स से बाहर झांकती हुई गुलाबी एड़ियों को देखकर मैं सोचने लगा था यदि इसकी एड़ियां इतनी गुलाबी हैं, तो चूत कितनी गुलाबी होगी.

माधुरी की पैंटी और लेगिंग्स को मैंने अभी तक पूरा उतारा नहीं था, सिर्फ उन्हें जांघों तक नीचे करके मैं इतनी देर से उसे चूस रहा था, मसल रहा था.

नीना बहुत उत्तेजित हो गयी- रवि बहुत मजा आ रहा है, मेरी एक और इच्छा पूरी करोगे प्लीज!मैं- नीना बोलो, मेरे बस में होगा तो जरूर करूँगा.

ज्यादातर लोगों की निगाहें मेरी उठी हुई गांड और तने हुए मम्मों पर ही टिकी रहती हैं. गोटी कटते ही उसने मायूस चेहरा नीचे गिरा लिया और कुछ देख रुककर अपनी जींस से बनियान निकाल उतारने को हुई. तुमको अपनी ननद का दुःख कहां देखा जाता है?वो बोली- आप क्या चाहती हो दीदी?मैंने कहा- वो सब बाद में बताती हूँ.

दोस्तो, एक बात तो आपको माननी पड़ेगी कि काफी परिवारों में चाची-भतीजा, भाभी-देवर, बुआ-भतीजा इन सबके बीच सेक्स संबंध बन जाते हैं और ये बात छिपी रहती है. मैं आंटी को आगे बताता गया कि उनके बदन में मुझे क्या क्या सुन्दर लगता है. थक कर मैंने उनको रुकने को कहा और अपने हाथ से उनका लण्ड पकड़ कर खुद ही चूसने लगी.

थोड़ा मक्खन अपने लंड के सुपारे पर लगाया और लंड को भाभी की फुद्दी पर टिका दिया.

मैंने बची हुई तेल की बोतल चाची के हाथ में थमाई और लंड की मालिश करने और मुठ मारने को कहा. मैंने मॉम के रसीले होंठों पर अपने होंठ रख दिए और मैं उनके सेक्सी होंठों को चूसने लगा. पता नहीं औरतें लंड चूसने में और वीर्य पीने में नखरे क्यों करती हैं?कुछ वीर्य जलालुद्दीन के लण्ड पर भी लगा हुआ था तो मैंने लण्ड एक बार फिर मुंह में डाला और उसे भी चाट कर साफ़ कर दिया.

उसके बाद मैंने और जोर से उनकी पीठ को रगड़ते हुए अपना पूरा लंड उनकी पीट पर टच कर दिया और ज़ोर ज़ोर मसाज करने लगा. इस समय मैंने सेक्स टाइम बढ़ाने वाली क्रीम लगा रखी थी इसलिए एक घंटे तक मैंने मामी की चूत मारी. मेरी उंगली चलने से वह बहुत ज्यादा मचल रही थी और अपने हाथ से मेरे लौड़े को पकड़ना चाह रही थी.

क्यूंकि हम सबने ये पहले से ही तय किया हुआ था कि लड़कों की गांड अन्दर बाहर दोनों तरफ से फाड़ देनी है.

आपको मेरे Xxx गे पोर्न स्टोरी के लिए क्या कुछ कहना है, प्लीज़ मेल करें. मैं डर गयी और भैया को मना करने लगी पर वो बोले- आज नहीं चुदेगी तो शादी के बाद तो चुदाई करेगी ही, तो आज ही क्यों नहीं.

बीएफ मां बेटे का ये सुनकर आंटी ने कहा- हम्म … मेरा बेटा अपनी आंटी के साथ 69 चाहता है. चूंकि सलीम का लंड पतला था, जो आसानी से मेरे छेद के अन्दर प्रवेश कर गया.

बीएफ मां बेटे का मैंने अपने दोनों हाथों से पहले माधुरी की बड़ी गांड को सहलाया, फिर उसकी चूत को किस करके गांड पर एक थप्पड़ मारा. मैंने एक उंगली उसकी बुर में घुसा दी, तो वो बिन पानी की मछली के जैसे तड़पने लगी.

अब वो मचलने, तड़पने लगी थी और बोली- रवि, मेरी यह चूत तुम्हारे लंड के बिना मर जाएगी, इसमें अपना लंड घुसा कर फाड़ दो.

देसी हिंदी सेक्स बीएफ

इस बार जब हिजड़ा मेरे नीम्बू मसल रहा था तो मुझे बहुत अच्छा लग रहा था, अपने आप ही मेरा हाथ भी मेरे नीम्बुओं पर चला गया और मैं भी उनको मसलने मैं हिजड़े का साथ देने लगी. अभी मैं टहल ही रहा था कि माधुरी की आवाज आयी- आर्यन कहां थे … तुम सुबह से दिखे ही नहीं. वो जैसे ही मेरे सोफे के नीचे जमे कचरे को निकालने के लिए झुकीं तो कसम से ऐसा लगा जैसे मैं आम के पेड़ पर बैठा हूँ और ताज़े रसीले आम मेरे सामने लटक रहे हैं.

उसके बाद जब सब सो जाते तो पापा मुझे कभी छत पर तो कभी किचन में चोदने लगे।जब मैं अपनी ससुराल आई तो कुछ दिन बाद मेरा महीना नहीं आया।मैंने अपनी सास को बताया तो वो बहुत खुश हुई और मुझे गले लगाकर बोली- बहू खुशखबरी है।घर मैं सब बहुत खुश थे. साली उससे भी तेज थी, वो बोली- दोअर्थी बात मत करो जीजा, मैं सब समझती हूँ. जलालुद्दीन आलिम अपना मुंह मेरे पिछवाड़े तक लाए और अपनी जीभ मेरे पिछवाड़े के छेद पर फिराने लगे.

उसने आगे बढ़ कर साली को बेड के पास पहुंचाया और बिस्तर पर लिटा दिया.

मैंने उसकी आंखों में देखा, उसने मुझे अन्दर आने की मौन स्वीकृति दे दी. समीर भी मेरे पीछे बाथरूम में आ गया और हमने एक बार फिर बाथरूम में चुदाई की. पोर्न चाची फक स्टोरी के अगले भाग में मैं लिखूंगा कि चाची की चूत के बाद गांड कैसे मारी और उसके बाद क्या क्या हुआ.

मैंने मॉम से कहा- रुक जा बहन की लौड़ी, आज मैं तेरी चूत अच्छे से बजाऊंगा. फिर उसी रात को या फिर कहें कि अगले दिन सुबह मेरी आंख फिर 4:30 बजे के आसपास खुल गई थी. मैं भी अपनी चाची को जमकर चोद रहा था और थप्प थप्प की आवाज के साथ अब मेरी सिसकारियां निकलने लगी थीं.

उन्होंने मेरे लंड को अपने हाथ में पकड़ा और धीरे धीरे टोपे को सहलाने लगीं. गांव की शुद्ध हवा और तनाव मुक्त जीवन से हम दोनों की जवानी लौट आयी थी.

एक दो बार तो उसने अपना चेहरा हटा लिया, फिर शान्त होकर खड़ी हो गई और मैं उसके होंठ चूमने लगा. आपा अपने घुटने पर बैठ गई और उसने जीजू का लंड अपने हाथ में पकड़ लिया और बड़े प्यार से चूम लिया. आप मुझे बताएं कि आपको मजा आया मेरी हॉट गांड Xxx कहानी पढ़ कर?nagmakhanfro[emailprotected].

मैंने कोमल को पास में लगी दीवार से सटा दिया और उसकी आंखों में देखते हुए उसके चेहरे पर अपने हाथ की उलटी तरफ से टच करने लगा.

अगर तू गांव जाएगी, तो न तेरी पढ़ाई हो पाएगी और न ही तेरे भैया के लिए खाना बनाने वाला कोई रहेगा. वो आगे बोली- कभी-कभी मन करता है कि किसी से अपनी चुदाई करवा लूं, लेकिन डरती हूं कि कहीं जमाना मुझे रंडी ना समझ ले, इसलिए अपने ही में ही खोई रहती हूं. मैं समझ गया कि ये एक बार लंड रगड़वा कर भी नहीं हटी, इसका मतलब कुछ जम सकता है.

फिर मेरे पास तुम्हारा नंबर ही नहीं था और इसी वजह से तुम्हें कॉल भी न कर सकी. ऐसे ही पहले एक हफ्ता गुजरा, फिर एक महीना लेकिन उसने कभी मुझे गलत निगाह से नहीं देखा.

लंड झड़ जाने के बाद भी आंटी ने लंड चूसना बंद नहीं किया और मेरे लंड को दोबारा चाट चाट कर खड़ा करने लगीं. गाली देते देते और चुदाई करते करते उनके धक्के तेज होते गए और मैं भी नीचे से जोर जोर से उछलने लगी थी. आंटी- आह जान अब रुकना मत, मैं इस चुदाई से पागल हो रही हूं … मुझे जोर जोर से चोदो … आह मुझे चोदो.

बीएफ वीडियो पिक्चर बीएफ बीएफ

चूत चूसते हुए मैं कोमल की चूत के अन्दर एक उंगली को भी चलाने लगा था.

माधुरी ने मेरे पास आ कर मुझे गले लगा कर कहा- अरे मेरे राजा, अभी नहीं कहा है, पर बाद मैं तो दूंगी ही न. मैंने कुछ ही देर में उन्हें सोफे पर लिटा दिया और किस करते करते बूब्स मसलने लगा. वो बोला- ये रस्सियां किस लिए लायी हो?तो नेहा ने कहा- मेरी जान थोड़ा सब्र रख, सब पता चल जाएगा.

हालांकि‌ उनका गदराया बदन देखकर कोई भी जवान मर्द पिघल उठता, उनकी आंखों में भी एक अजीब सी कशिश थी जो थोड़ा आमंत्रित जैसा कर रही थी. मैं छुप छुप कर उसको ही देख रहा था और वो भी कभी कभी लेडीज कस्टमर्स बात करते करते कांच से मुझे देख रही थी. कार्टून का सेक्सी बीएफबुआ की आंखें बंद थीं और वो अपने होंठों को भींचती हुई ‘आह हहआ हह आहआ …’ कर रही थीं.

सविता भाभी के चचिया ससुर कुणाल का बेटा आयुष शादी से इंकार कर रहा है।तो थक हार कर उन्होंने सविता को अपने बेटे को समझाने को कहा।आयुष की अपने चचेरे भाई अशोक से अच्छी बनती है. आज उसकी दुकान में उसका पति और माधुरी की दुकान के बगल में रहने वाली उसकी दो सहेलियां थीं.

झड़ने के बाद मुझे राहत मिली और मैं आंख बंद करके अपनी बहन के बारे में सोचने लगा. दिल में डर और मिलने की बेताबी लिए मैंने अपनी बाइक उसके घर से कुछ दूर एक पेड़ के नीचे खड़ी कर दी और इधर उधर देखता हुआ उसके घर के सामने पहुंच गया. रगड़ते रगड़ते उसने एक धक्का मेरी चूत की ओर दे दिया और मेरी चूत में दर्द होने लगा था।मुझे चुदे हुए 1 महीना हो गया था और निखिल का लण्ड भी कुछ ज्यादा मोटा था।उसके लंड का सुपारा मेरी चूत में जा फंसा और मैं दर्द में बिलबिला उठी.

इससे मेरी हिम्मत बढ़ गई, मैंने अपने हाथ से उनके ब्लाउज में से एक बूब को बाहर निकाल लिया. मेरे दिल में भी हलचल मच गई थी इसलिए मैंने भी उनके जिस्म पर हाथ फेरना शुरू कर दिया. तो आलिम साहब ने बड़े ही प्यार से एक पान मेरे मुंह में डाल दिया और बोले- आज तो हम अपनी बेगम के मुंह से पान खाएंगे.

धीरे धीरे हमारी बातें होने लगीं और हम दोनों की दोस्ती गहरा गयी, हम बहुत करीब आ गए.

मैंने भी माधुरी की चूत को देख कर पहले उसे सूंघा और अपनी नाक का नथुने उसकी चूत की फांकों के पास ले जाकर लम्बी सांस ली. शाम 5 बजे मैं तैयार होकर खुद कार चलाती हुई सुरेंद्र जी को लेने के लिए एयरपोर्ट के लिए निकल गई.

जलालुद्दीन आलिम का बड़ा सा घर था जिसमें कुछ हिजड़े खादिम का काम करते थे. उस दिन मेरे बॉस दूसरे शहर में मरीज़ देखने गए थे तो सभी मरीजों की ज़िम्मेदारी मेरे और मेरे साथ के स्टाफ पर थी. मेरी बॉडी एवरेज है, मैं खाने पीने का बड़ा शौकीन हूं, इसलिए शरीर काफी हट्टा-कट्टा है.

मैंने अर्चना से पूछा- तुम यह क्या कर रही थीं … और क्यों कर रही थीं. काकी भी बापू के गोटे पकड़ कर सहला रही थीं और बापू की आंखें मस्ती में बंद थीं. मगर उधर कोई नहीं था जो कोई भी आया था, वो मेरे देर से आने से बाहर से ही वापस चला गया था.

बीएफ मां बेटे का शेखर ने पूछा- तुम मुझे बहुत पसंद हो, क्या मेरी गर्लफ्रेंड बनोगी?मैंने कहा- हाँ शेखर, तुम भी मुझे बहुत पसंद हो. उसने स्कर्ट पहनी हुई थी, उसकी गोरी गोरी भरी हुई जांघें देखकर ही मेरा लंड खड़ा हो गया.

बीएफ पिक्चर हिंदी में बीएफ पिक्चर हिंदी

जिस स्टॉल पर कोमल भाभी डिनर लेने का प्रयास कर रही थी, मैं वहां आया और मैंने उससे उसकी मदद के लिए पूछा. चाची बोलीं- मुझसे झिझक कैसी राज?चाचा ने कहा- इसने तुमसे कभी बात नहीं की न … शायद इसलिए!इस पर सब हंसने लगे. जलालुद्दीन साहब बोले- हाँ जान, आज की चुदाई तुम सारी जिंदगी नहीं भूलोगी.

चूंकि एक गली छोड़ कर दूसरी गली में उसका घर था तो सब जानते थे, किसी को दिख जाने का खतरा था. खाला की आंखें मुंदी हुई थीं और उनके मुँह से जोर जोर से मदभरी सिसकारियां निकल रही थीं- आहह … ओह … यसस्स मेरी जान … और जोर से चूसो डार्लिंग. बीएफ सेक्स दिखाएं हिंदी मेंउसके मोटे लंड का आंवले सा सुपारा मेरी गांड के पहले छल्ले को फाड़ कर अन्दर फंस गया था.

भले वो गरीब घर से थी लेकिन अपने शरीर को साफसुथरा और व्यवस्थित ढंग से रखती थी.

वो अपने पति से कहती थी कि ऐसा करना मुझे अच्छा नहीं लगता और जीजू के लंड को टूथब्रश की तरह मुँह के हर कोने में घुमा रही थी. अब वो ऐसे खुश ही गई थी, जैसे खिली हुई कली पर कोई भौंरा आकर बैठ गया हो.

पहले मैं उसके चुचे सहलाने लगा और थोड़ी ही देर में वो भी गर्म होने लगी. मैंने पूछा- मजा तो आया न!खाला बोलीं- साले, फाड़ कर रख दी है और पूछ रहे हो कि मजा आया?मैं हंस दिया. आज मुझे लगा कि अपने साथ हुई एक बहुत ही मज़ेदार सेक्स कहानी को लिखूं.

भाभी के चुचे 36 इंच के एकदम तने हुए, बलखाती कमर 30 की और 38 की पीछे की तरफ निकली हुई तोप सी गांड थी.

मैंने फिर उसके गले के आस पास किस करना चालू किया तो मदहोशी छाने लगी. उसकी साड़ी उसके घुटनों के ऊपर तक उठी हुई थी और उसकी चिकनी जांघें दिख रही थीं. कोमल के अन्दर स्खलित होते हुए वो भी छूटने लगी और उसने मुझे कसके पकड़ लिया.

बीएफ सेक्सी हिंदी गांव वालीदोस्तो, दरअसल एक बात मैंने आपसे नहीं बताई, वो ये थी कि माधुरी का जो अफेयर चल रहा था उस गांव वाले के साथ, उससे उसका झगड़ा हो गया था. लेकिन वो भी एक सेक्सी और चालू औरत थी तो वो भी अपनी भरी हुई जवानी का दीदार करवाती और सबके लंड खड़े करवाती.

बीएफ फिल्म बीएफ बीएफ पिक्चर

लड़कों की गांड अच्छी तरह से फट चुकी थी, यह देखकर हम लड़कियों को बहुत मज़ा आ रहा था. उस वक्त साक्षी भी धीरे धीरे मेरे लंड पर अपनी गांड को आगे पीछे कर रही थी. बस एक दूसरे के होंठों से चुम्बन शुरू हुआ, जो बहुत लंबे चुम्बन में तब्दील हो गया था.

मैंने बेमन से ही उनका लंड मुँह में ले लिया और चूसने लगी, जिससे उनका लंड फिर अपनी असली औकात में आ गया. रचना मेरे हाथ अपनी चूचियों पर रखकर बोली- तो दबाओ न इन्हें मेरे राजा जी … भरकर दबाओ चूसो और मसल कर रख दो. सुबह तापोश ने मुझसे हाथ मिलाकर कहा- धन्यवाद रवि, तुम्हारे कारण मैं शादी के इतने सालों बाद नीना की गांड मारने में सफल रहा, हम दोनों को बहुत मजा आया.

अब मैं कंडोम निकाल कर सीधा तुम्हारी गांड में लंड पेल कर गांड मारना चाहता हूँ. फिर हमने सब लड़कों को पेट के बल उल्टा लेटने को कहा तो सब लड़के उल्टा लेट गए. लेकिन फिर भी मैं कॉपी में लिखने का नाटक करने लगा लेकिन मेरा ध्यान उनकी तरफ ही था।अब मैडम ने मम्मी को बांहों में भर रखा था और उन दोनों के स्तन आपस में टच हो रहे थे.

कहानी के पहले भागनर्स चाची को होटल के कमरे में चोदामें अब तक आपने पढ़ा था कि मैं अपनी चाची की चूत में लंड पेले हुए उनकी चुदाई कर रहा था और वो झड़ चुकी थीं. मैंने हाथ उठाकर उनकी सलवार के अन्दर डालने की कोशिश की लेकिन सलवार का नाड़ा बहुत टाइट था तो मैंने आराम से नाड़ा ढीला करने की कोशिश की.

अब वो पीछे से मेरी चूत चुदाई भी कर रहा था और साथ मेरी गांड में भी उंगली कर रहा था.

लेकिन मेरी नींद उड़ चुकी थी और लंड के ‌टाईट‌‌ होने से मेरा ‌बुरा‌ हाल था. सेक्सी बीएफ खुला बीएफमैं अपने हाथों से कोमल के माथे पर अपनी उंगलियों को फेरता हुआ उसकी भवों को सहलाता हुआ हाथ नीचे लाता गया. बीएफ कुंवारी लड़की केये बोलकर मैंने अपने हाथ उनकी कमर में डाला और उन्हें खींचने लगा, उनको दीवार से लगा दिया. वो हमेशा साड़ी ही पहनती हैं और साड़ी में उनकी उठी हुई गांड बड़ी मस्त लगती है.

मैंने अर्चना के मुँह से चुदाई करवा लूं सुना तो समझ गया कि ये खुद मेरे लंड से चुदना चाहती है.

तब दीदी ने अपनी आँखों को बंद कर लिया और वो धीमी धीमी सांसें खींचती हुई आहें भरने लगी।फिर कुछ देर के बाद रवि उठकर बैठ गया और वो दीदी की चूत पर अपने लंड को सटाते हुए दीदी को अपनी चूत को फैलाने के लिए कहने लगा. उन्होंने भी मुझे देखा और उत्साहपूर्ण तरीके से दूर से ही अपना हाथ हिलाया. कुछ देर बाद शायद कोमल को अच्छा लगने लगा था, उसने मुझको कसके पकड़ लिया.

मैं उसी हालत में उसकी चूत चाटता रहा और उसकी चूत का रस पान करके चूची से खेलने लगा. शुरू करने से पहले मैंने कहा- गेम में नो चीटिंग, यह जो होगा सिर्फ हमारे बीच रहेगा, तो टेंशन फ्री होकर खेलेंगे. उसके बाद मैंने और जोर से उनकी पीठ को रगड़ते हुए अपना पूरा लंड उनकी पीट पर टच कर दिया और ज़ोर ज़ोर मसाज करने लगा.

बिहार के बीएफ देहाती

उसने फिर से माफी मांगी और कहा- आगे से ऐसा नहीं हो … मैं इस बात का ध्यान रखूंगी. लेकिन शेखर ने मेरी बात नहीं सुनी और एक जोर का झटका देकर अपना सारा लंड मेरी चूत में पेल दिया. उसने भले ही आज तक अपने पति के पैंट कभी नहीं खोली थी, पर आज जीजू के लंड के लिए उतावली साली ने अपने जीजू की पैंट खोल दी और अन्दर हाथ डाल कर लंड को आज़ाद कर दिया.

मैंने उनसे पूछा- आपकी शादी को कितने साल हो गए हैं?उन्होंने मुझे बताया कि उनकी शादी को 4 साल हो चुके हैं पर अभी तक उन्हें कोई बच्चा नहीं है.

मैं वासना के भंवर में थी पर नारी सुलभ लज्जा का प्रदर्शन करते हुए मैंने उसका हाथ पकड़ लिया।मगर अगले ही पल उसके होंठ मेरी गर्दन पर आ लगे.

इधर शबाना मेरे लंड को कपड़े से साफ कर रही थी और लंड में चावल के बराबर के छेद को समझने की कोशिश कर रही थी. क्या मस्त अहसास था!जलालुद्दीन ने उंगली मेरी चूत में आगे पीछे की और थोड़ी देर में एक और उंगली डाल दी. बीएफ इंग्लैंड कीइस दौरान सुषमा भाभी को अपनी छत की रेलिंग की ओट से खुद को निहारते हुए भी पाया था.

हम-दोनों साथ ही झड़े तथा मैंने अपना फ़व्वारा उनकी चूत में ही छोड़ दिया. फिर मैंने सोचा कुछ देर मैं मॉम के साथ लेट कर उनके जिस्म के मज़े ले लेता हूँ. उन दिनों मिष्टी और उसकी बड़ी बहन नैन्सी को होली पर मायके लाने के लिए उनके पिता जी उनकी ससुराल गए.

हम लड़कियों की गांड मारने में तो ये बोलते हैं बेबी ज्यादा दर्द नहीं होगा, आराम से करूंगा. समीर की बात सुनकर मैं मान गई और मेरा दूसरे दिन शाम को हिना के घर मिलना तय हो गया.

इस तरह से मुझे अब तक काफी देर हो गई थी और इतनी देर में चाची 1 बार और झड़ चुकी थीं.

हॉट इंडियन भाभी न्यूड स्टोरी में पढ़ें कि मैं अपने भैया के घर गया तो मुझे रात को वहां रुकना पड़ा. मैंने भी एक चांस लेने की सोची कि अगर बात बनेगी तो ठीक है नहीं तो जैसा चल रहा है, वैसा ही चलता रहेगा. जैसे ही मेरे होंठ उसके होंठों को छुए, उसकी टॉप निकालने की गति मंद पड़ गयी.

इंदौर की बीएफ सेक्सी मेरे पति 7 दिन के लिए जा रहे थे लेकिन सुरेंद्र जी मेरे साथ 5 दिन ही रुकने वाले थे और इतना हम दोनों के लिए काफी था. अब आगे सेक्सी भाभी वांट फक़:ये सुन कर अंजलि समझ गई कि मैं क्या बोलना चाह रहा हूँ।अंजलि मेरे सामने आकर अपने घुटनों पर बैठकर मेरी अंडरवीयर के इलास्टिक को पकड़ कर नीचे की तरफ खींचने लगी.

मैं आधे घंटे में उसको लेकर आता हूँ तब तक आप लोग टेक्सी के अंदर आराम करिये. चुत की फांकों में सुपाड़ा रख कर मैं दम लगाने लगा और लंड उसकी चुत में घुसाने लगा. मेरी उम्र 26 साल की है और मैं एक प्राइवेट कंपनी में अच्छी पोस्ट पर नौकरी करता हूं.

आरती का बीएफ

फिर मैंने उससे कहा- माधुरी, सच तो ये है कि मुझे तुम्हारी चूचियां बहुत अच्छी लगती हैं. कमरे में जीजू पलंग पर लेटे हुए थे, आपा कमरे में आई तो जीजू ने उठ कर आपा को अपनी बाँहों में कस लिया और चूमने लगे. मैं समझ गया कि शायद मैंने ये वही वाली चूची मुँह में ले ली है, जिसे मैंने पहले खाली किया था.

मैंने दोस्त से धीरे से बोल दिया- मित्र, क्या हमारा जुगाड़ पक्का हो गया है?पहले मुझे लगा कि वह नाराज होगा लेकिन वह थोड़ी देर तक कुछ भी नहीं बोला. एक दिन की बात है जब उसके घर वाले सब शादी में गये हुए थे, उसके घर पर वो अकेली थी.

हिना ने मुझसे रुकने की कहा भी कि एक मिनट रुक जा खुशबू, मैं साथ चलती हूँ.

ये महसूस करते ही मेरे चेहरे पर मुस्कान आ गई और मेरे हाथों में एक अलग ही ताकत आ गई. आज उसने जींस और टॉप पहना था, तो जींस में से उसकी पैंटी की किनारी की रेखाएं साफ उभर कर आ रही थीं, जिन पर मेरी निगाह जा रही थी. मैंने मॉम को अपने से बिल्कुल चिपका रखा था और अपनी एक टांग अपनी मॉम की जांघ पर रख रखी थी.

इतने में भाभी से सबर नहीं हुआ और उन्होंने मुझसे कहा- फाड़ दो मेरी ब्रा को और आजाद कर दो इन्हें!मैंने वैसा ही किया, उनकी ब्रा फाड़ दी. मैंने उसको उल्टा लिटाया और उसकी गांड में थूक लगा कर गांड मारना शुरू किया. अब आगे वर्जिन सिस्टर Xxx कहानी:दोस्तो, मैं अक्सर बहुत रात तक भैया के कमरे में उसका लैपटॉप यूज़ करती थी, कभी कभी वहीं सो जाती थी, तो भैया दूसरे कमरे में चला जाता था.

जिससे मुझे अपनी चूत का भोसड़ा बनवाना है, वो तो साला बस मुझे देख कर ही मुठ मार लेता है.

बीएफ मां बेटे का: मैंने कोमल से कहा- ये लो चाभी, आज से ये घर तुम्हारा हुआ कोमल, तुम इसकी मालकिन हो, अब खोलो गेट को. मुझे लंड चूसने में काफी मजा आया था और वीर्य का स्वाद भी मस्त लगा था.

मैं- ऐसे कभी कभी खुजली होती है, आप परेशान मत हो, जल्दी आराम हो जाएगा. मैंने बोला- अगर नहीं मानी तो?तब वह बोला- तब भी वह किसी से कुछ नहीं कहेंगी. उसने बापू से पूछा- क्यों और दूसरी क्या मजा नहीं देती हैं?बापू- तेरे अलावा बस चौधरन ही मजा देती है … बाकी की तो सब साली लंडखोर हैं.

उससे वो बहुत उत्तेजित हो गई और उत्तेजना भरी आवाजें करने लगी- आह … उम्म डियर!ऐसी आवाज़ सुनकर तो मुर्दे का लंड भी खड़ा हो जाए, फिर मैं तो जिंदा आदमी था.

बस कुछ एक मिनट में ही मेरे लंड का लावा छूटा और साथ ही साथ माधुरी का बदन भी अकड़ने लगा. जब शादी तय हुई, मेरी होने वाली सास मुझे और अपनी लड़की को लेकर गुरूजी के आश्रम में गुरूजी की सहमति लेने गयी. रक्षाबंधन से दो दिन पहले मैं अपने घर वृंदावन आया तो मीना ने बताया कि उसकी मां उसके मामा के घर जाएगी और वो उस दिन मुझसे घर में ही मिलना चाहती है.