देवर भाभी की फिल्म बीएफ

छवि स्रोत,सेकसा विडीयो

तस्वीर का शीर्षक ,

सारा सेक्सी फोटो: देवर भाभी की फिल्म बीएफ, फिर वो मेरे ऊपर झुका और मेरे होंठों को चूसते हुए मेरी चूत में एक जोर का धक्का मार दिया.

ववव क्सक्सक्स इंडियन

मेरा लंड अब जड़ तक उसकी चूत में घुस रहा था और वो हर धक्के के साथ उचक जाती थी. आदिवासी चूत चुदाईमौसी जोर जोर से सिसकारते हुए बोली- अब जान निकालेगा क्या मेरी? डाल दे इसे अंदर … आह्ह … मेरी चूत की सोई हुई प्यास को तूने फिर से आज जगा दिया है, अब इसे जल्दी से बुझा नहीं तो मैं तेरे लंड को काट खाऊंगी.

मैं तुरंत समझ गया कि मोनिषा छत पर फोन में चुदाई देख रही है क्यूंकि मैंने रात को ही उसके फ़ोन मैं पोर्न मूवी डाल दी थी. ससुर बहू की सेक्सीइसलिए इन क्षणों में उसकी चूत का इस तरह से गर्म हो जाना स्वाभाविक था.

मैं कुछ बोलती, उससे पहले उसने मेरी ब्रा भी फाड़ दी और मेरे 34 के चुचे को आजाद कर दिए.देवर भाभी की फिल्म बीएफ: काफी समय तक बातचीत के मैंने देखा कि उसकी कुछ फोटोज भी आ गई थीं जो बहुत ही हॉट और सेक्सी थीं.

मैं लंड को चुत पर रगड़ने लगा, तो सुनयना भाभी कहने लगी कि प्लीज़ और मत तड़पाओ … जल्दी डालो ना … नहीं तो मैं मर जाऊँगी.मैं- एक बात सच-सच बता, करने के लिए तूने बोला था या अरूण ने?रिया- दोनों की ही मर्ज़ी थी.

सरकारी सेक्सी वीडियो - देवर भाभी की फिल्म बीएफ

उसके हाथ की पकड़ मेरे लंड पर इतनी कसी हुई थी कि मानो वो मेरे लंड को जड़ से उखाड़ना देना चाहती हो.अभी से मैं क्या कह सकती हूं?उसने कहा- जब करना ही है तो फिर राजीव भैया में क्या बुराई है? तुम अच्छी तरह से सोच लो और फिर बाद में मुझे बता देना.

एक दिन हम दोनों रोमांस कर रहे थे मतलब मैं सोफे पर बैठा था और पारिज़ा मेरी गोद में थी. देवर भाभी की फिल्म बीएफ उसको बोला कि पार्टी उधार है, तो फिर उसको आने के लिए हां कहना पड़ा।उस बातचीत में उसने कुछ ऐसा बोल दिया कि मुझे पता लग गया कि ये चुद कर ही मानेगी.

उसने मेरे मोबाइल में फोटो देखने के लिए अपना हाथ मेरे कंधे पर रख दिया.

देवर भाभी की फिल्म बीएफ?

सुषमा मैडम की गांड और चूत को देख कर मेरा मन तो कर रहा था कि मैडम को उनके घर जाकर अभी ही चोद दूं. मैं खिड़की से उन दोनों की चुदाई देखने लगा और अपने मोबाइल से उनकी चुदाई का वीडियो बनाने लगा. उसका आठ इंच का लंड धोती में तंबू बना रहा था, जो सुमन की नजरों से छुपा ना रह सका.

मैंने पारिज़ा को अपनी ओर घुमा लिया और बिना कुछ बोले पारिज़ा के गुलाबी होंठों पर अपने होंठ रख दिए. बस की बात सुनकर सुनयना भाभी बोलीं- विवेक तू बहुत नालायक और बेशर्म हो गया, तुमने मेरे साथ इतना कुछ किया और मुझे पता भी नहीं चला. उसके गालों पर किस किया, उसके होठों पर किस किया, उसकी गर्दन पर चूमा।थोड़ी ही देर में उस पर भी हवस चढ़ गई और वो मेरा साथ देने लगी.

मैंने अपना एक हाथ दिशा की गांड की दरार में लगाया और एक उंगली दिशा की गांड के छेद में घुसा दी. मैं- साली रंडी कबसे बोल रही थी कि चुत फ़ाड़ दे … ले रंडी कुतिया ले … मेरा मूसल ले. मैंने कहा- हां क्यों नहीं … आओ मेरी प्यारी बहना …मैंने एक रसमलाई उठायी और उसके अन्दर छेद कर दिया.

फिर वो मेरे ऊपर आया और मेरे दोनों हाथ अपने घुटनों से दबा कर लंड को मेरे मुँह के पास लाकर बोला- साली रंडी देख आज इस लंड से तेरी चूत की मां चुदने वाली है, अब इसे चूस कुतिया. इसी के साथ सीमा आंटी की एक बार फिर से जोरदार चीख निकल पड़ी- मादरचोद … भैन के लंड … रंडी ही समझ लिया तूने तो … मां चोद दी एक ही धक्के में … आह बहन के लौड़े.

ये सेक्स कहानी मेरे और मेरी गर्लफ्रैंड के पहले अनुभव के बारे में है.

मालिनी ने तिलमिलाते हुए कहा- अंगिका, साली रंडी, मुझे खाने को बोल कर खुद ही लंड खा गई?मैंने हंस कर कहा- अरे मेरी शेरनियों, भूख सिर्फ तुम्हें थोड़ी ही लगी है! तुम्हारे अलावा कोई और भी भूखा है यहां.

फिर पापा ने मम्मी के ब्लाउज को निकाल कर उनके दूधों से खेलना शुरू कर दिया. हम अंदर गये तो वहां पर उसके पिताजी थे जो आम के बगीचे की रखवाली कर रहे थे. मैंने घर में भी बोल दिया कि मैं आज रात को मौसी के यहां रुक रहा हूं.

पहले तो मैंने रवीना की ओर सेक्स की नजर से ध्यान नहीं दिया था लेकिन आज उसके साथ अकेले में ऐसे बेड पर लेटे हुए मेरा मन भी डोलने लगा था. सारे मूड की मां चोद कर रख दी थी उसने।मुझे उसकी बातों पर अब गुस्सा उठ रहा था. मैंने मैडम से पूछा- सिलेंडर में क्या प्रॉब्लम आ रही है?मैडम बोलीं कि हां इससे गैस लीक हो रही है.

हम दोनों एक दूसरे में खोने लगे और मैं बिल्कुल भूल गया कि कमरे में कोई और भी मौजूद है जो हमें ये सब करते हुए देख रहा है.

मैं बोला- पहले नहीं चुदी हो क्या?उसने कहा- अपने एक्स बॉयफ्रेंड से चुदी थी दो-तीन बार. आजकल वो केस में ज्यादा रूचि नहीं ले रहे थे तो मैंने सोचा कि आज इसको भी खुश कर देती हूं. मैं भी अलग हो गया और उससे कहा- अब इस पिस्टन का क्या करूँ? इसे भी शांत कर.

मोनिषा ने टीवी का वॉल्यूम कम कर दिया और बड़ी गौर से चुदाई देखने लगी. तो मैंने क्या किया?नमस्कार दोस्तो, मेरी पिछली कहानीकजिन सिस्टर के साथ चुदाई की कहानीआपने पढ़ी थी. मैंने बाहर से आवाज लगाई- चाची!तो उन्होंने दरवाजा खोला और पलट कर खड़ी हो गईं, लेकिन कमाल ये था कि आज चाची ने टॉवेल से अपना निचला हिस्सा भर ढका हुआ था और ऊपर दोनों चूचियां को बस हाथ से ढककर खड़ी थीं.

मैडम थोड़ी से ऊपर से बारिश से भीग गयी थीं, जिससे उनके टॉप के अन्दर से ब्रा दिख रही थी.

दूसरा धक्का मारने से पहले मैंने मनीषा के चूतड़ उठाकर एक तकिया उसकी गांड के नीचे रख दिया. मगर दस मिनट बाद मैं भी उठकर दो पैग बना कर किचन में चला गया और देखा कि वो मटर पनीर बना रही थीं.

देवर भाभी की फिल्म बीएफ वहां पर उसने घोड़ी बनाकर मेरी चूत मारी और फिर एक बार चूत में झड़ने के बाद उसने मेरी गांड भी चोद दी. फिर वो बोले- अच्छा, मेरे लिये अगर किसी और को चूत देनी पड़े तो?मां बोली- चुप करो जी, मेरी चूत सिर्फ आपके लिये है.

देवर भाभी की फिल्म बीएफ [emailprotected]हॉट सेक्सी मॉम स्टोरी का अगला भाग:चूत में घुसी चींटी ने मॉम चुदवा दी- 2. बडी लड़की कविता कुछ सामान लेने बाहर चली गई थी और आंटी दूसरे कमरे में काम कर रही थी। कुछ देर में कविता आ गई.

अब उसके पति को मिनल के लिए रहने का घर और हर महीने का खर्च देना था और वो राजी भी हो गया था.

झारखंड में बीएफ

इस बीच मैंने भी उनको संतुष्टि देने के सारे इंतजामात कर लिए, मर्दाना ताकत की तीन गोली ले आया. 15-20 मिनट तक उसने भी मेरी चुदाई की और फिर उसके बाद वो लोग संतुष्ट होकर अलग हो गये. आज उनकी उम्र 60 साल है मगर अभी भी वो चालीस साल के जवां मर्द दिखते हैं.

मैंने भी उसे देखा तो उसने कहा- मैडम इस टाईप के ब्लाउज बनवाने की कोई खास वजह है?अब तक मैं उसकी तरफ से एकदम से बेफिक्र हो गई थी. पर इतनी तेज बारिश में हम घर कैसे जाएंगे … इतनी बारिश में तो हमको कोई ऑटो भी नहीं मिलेगा. अब ये तो पक्का हो गया था कि चाची को बेहद प्यार की जरूरत थी, पर समझ नहीं आ रहा था कि शुरुआत कैसे करूं.

फिर हम लोगों ने साथ में चाय पी, भाभी बीच बीच में मुस्कुराकर मेरी ओर देखने लगती थीं.

हम दोनों की सहमति के बाद दोनों परिवारों ने खुश होते हुए एक दूसरे को लड्डू देकर मुँह मीठा कराया. अभी तू पहले मेरी चूत को शांत कर दे, उसके बाद तुझे फिर मैं किसी दिन गांड का मजा भी दे दूंगी. मुखिया के गुस्से को देख कर सुलक्खी तो फ़ौरन ही वहां से भाग गई और सीधी रसोई में मुनिया के पास जा पहुंची.

आपको मेरी सेक्स कहानी कैसी लगी … दोस्तो, मुझे कमेंट करके जरूर बताएं. मैंने कहा- बिना कॉन्डम भी करवा लेती हो?वो बोली- बिल्कुल नहीं, मैं ये सब केवल पैसे के लिए करती हूं. वो हंस दी और हम दोनों डांस करते हुए ही उस तरफ आ गए, जिधर शराब की बोतल रखी थी.

तू अब दूर हो जा मेरे से।मगर मैंने भी सोच रखा था कि अडल्ट वाला प्यार करना ही है. मैंने अपने लंड और उसकी गांड में थूक लगा कर उसकी गांड में लंड को घुसा दिया.

मैंने थोड़ा तेल अपने लंड पर लगाया और थोड़ा सा उंगली में लेकर नंगी भाभी की मोटी गांड के छेद में उंगली करने लगा. मुखिया की बात सुन कर गीता चुप हो गई और पैसे देखकर उसके होंठों पर हल्की सी मुस्कुराहट आ गई. तो सुरेश ने उसको टोका और कहा- यहां वहां क्या देख रहे हो? बीमारी क्या है वो बताओ.

मैंने उसको कसके बांहों में जकड़ लिया और उसने भी अपने दोनों पैरों को मेरे चूतड़ों के पीछे से लॉक कर दिए.

मैंने बाथरूम में ही लंड उनकी गांड में लगाकर बोला- चाची वीट से क्या होता है?वो लंड का स्पर्श पाकर एकदम से घबरा गई और बोलीं- कुछ नहीं … शैम्पू है. गांव के बाहर तक तो हम बाइक पर आ गये लेकिन आगे बाइक का रास्ता नहीं था. संध्या, मेरी रानी आज तेरी चूत तो किसी कुंवारी छोरी के जैसी एकदम टाइट लग रही है, लग ही नहीं रहा कि ये तेरी ही चूत है जिसे मैं सैकड़ों बार चोद चुका हूं, मेरा लंड तो फंस सा गया है आज तेरी चूत में!” मौसाजी चकित होते हुए से बोले.

उसने भी अपना बड़ा लंड निकाल कर मेरी चूत पर लगा दिया और एक धक्के में ही अन्दर कर दिया. एक दिन 12 फरवरी को सभी लोग भात नौतने के लिए गए तो आंटी ने मुझे अलग से बुलाया कि हम लोग भात नौतने जा रहे हैं इसलिए तू अपनी दीदी का ख्याल रखना.

मेरी बाते सुन कर वो गर्म हो गया और उसने मुझे …दोस्तो, गोवा में दोस्तों के साथ हॉर्नी सेक्स स्टोरीगोवा टूर में ग्रुप सेक्स का मजा- 3में अब तक आपने पढ़ा था कि हम सभी कैसीनो में गए और उधर मैंने बहुत सारे रूपए जीत लिए थे. तय समय के अनुसार हम लोग स्टेशन पर ही मिले और वहां से सीधे चारबाग आकर उसको मैं अपने साथ लेकर अपने दोस्त के रूम पर गया. कहानी के पिछले भागगाँव के मुखिया जी की वासना- 3में अब तक आपने पढ़ा था कि गांव की सेक्स देसी इंडियन लौंडिया कमसिन गीता को चोदने के लिए मुखिया जी ने अपने झांसे में ले लिया था और अब उसकी चुत की सील फाड़ने की तैयारी चल रही थी.

बीएफ राजस्थान की बीएफ

रिया अपनी गांड को उठा उठा कर अरूण का जोश बढ़ा रही थी और मस्ती में चुद रही थी.

हॉट चुत की पहली चुदाई कहानी में पढ़ें कि मुझे एक लड़के ने प्रोपोज किया तो मैंने हाँ कर दी. रघु- माफ़ करना बाबूजी, कभी किसी ने ऐसे छुआ नहीं ना … तो ये खड़ा हो गया. पहले मैं भाभी के निचले होंठ को किस कर रहा था, सुनयना भी किस में मेरा पूरा साथ दे रही थीं.

उसकी चुदाई करने के बाद हम दोनों हॉल में टीवी पर मूवी देखने वाले थे. यही सोचते सोचते कब मुझे नींद आयी, पता नहीं चला और अगले दिन सुबह कॉलेज चला गया. आंटी पोर्नवो बोली- तैयारी के साथ आये हो? तो फिर ठीक है, चलो आज सुहागरात मनाते हैं.

जब उन्होंने टटोल कर देखा तो धीरे से मेरे पजामे में हाथ डालकर हल्के हाथ से मेरा लंड सहलाने लगी. पापा अब आप मेरे पति भी हो, अब आपकी तुली को जल्द से जल्द मां बना दो … ताकि आपकी तुली एक संपूर्ण स्त्री बन जाए.

उन्होंने मेरे बारे में पूछा, तो मैंने भी उन्हें अपने बारे में बताया कि मैं स्टडी के साथ पार्ट टाइम मसाज कर लेता हूं. तो सर एकदम से एक्टिव हो गए और वे मुझे अपनी बांहों में लेकर पागलों की तरह चूमने लगे. फिर उसके बगल में लेट गया। उसने अपनी सलवार ठीक की और बाथरूम में जाकर खुद को साफ किया और वापस आकर बोली- अब चलें?मैंने उसका कुर्ता अपने हाथों मे पकड़ा और कहा- इतनी जल्दी कहाँ? अभी और करेंगे.

यार क्या फिगर था उसका … आगे उसके मम्मे एकदम तने हुए थे और पीछे उसकी गांड मस्त उठी हुई थी. ये दोनों ही सभ्य लेकिन रूढ़िवादी परिवार से थे इसलिए मनोज और पूजा ने कभी एक दूसरे से बात तक नहीं की थी. करीब पांच मिनट बाद मैं खड़ा होकर दूसरे सोफे पर चला गया और अंकल ने इधर आकर अपनी बेटी पारिज़ा को सोफे पर घोड़ी बना दिया.

उसने लंड को चूस चूस कर एक एक बूंद साफ़ कर दी और अपने चेहरे पर लगे मेरे लंड रस को अपनी उंगली से उठाकर ऐसे खाया कि उसे देख का मज़ा आ गया.

उसके दो मिनट बाद वो जैसे ही आयी, सीधी मुझसे चिपक गयी और मेरे होंठों पर ऐसे किस करने लगी, जैसे जन्मों की प्यासी हो. उसका आठ इंच का लंड धोती में तंबू बना रहा था, जो सुमन की नजरों से छुपा ना रह सका.

मैंने अपनी एक उंगली उनकी चूत में डाली और मम्मों को भींचते हुए उन्हें किस करे जा रहा था. सब तैयारी करके मैंने एक साड़ी चुन कर उन्हें दिखाई, तो वो बोले- साड़ी तो ठीक है, पर ब्लाउज थोड़ा मार्डन होना चाहिए. इस सेक्स कहानी में सेक्स का भरपूर मजा है, जो आपके लंड चुत को पानी पानी कर देगा.

सुरेश को कुछ समझ नहीं आया, तो वो भी बाहर देखने लगा और बाहर नज़र पड़ते ही उसके लौड़े ने फिर अंगड़ाई ली. तभी क्लासरूम में एक लेडी आईं और मुझसे पूछने लगीं- पर्सनैलिटी डेवलपमेंट की यही क्लास है?तो मैंने कहा- हां जी, पर्सनैलिटी डेवलपमेंट की क्लास यही है. आप मायूस न हों … जल्दी ही अन्तर्वासना की साईट पर आपको अपनी प्यारी लेखिका पिंकी सेन की सेक्स कहानी का भरपूर मजा मिलेगा, ये मेरा आपसे वादा है.

देवर भाभी की फिल्म बीएफ और उन्होंने अपना लंड मेरी चूत से बाहर खींच लिया और फिर मेरी चूत में दो उंगलियां घुसा कर जल्दी जल्दी अन्दर बाहर करने लगे जिससे मेरी पिंकी फिर से खूब पनिया गयी. कुछ देर बाद प्रेरणा भाभी का दर्द का मजे में बदलने लगा तो वो भी अपनी कमर हिलाकर मेरे साथ कदमताल मिलाने लगी.

सेक्सी बीएफ देहाती गाना

हम सब कुछ भूलकर बस मैथुन कर रहे थे … ना किसी की कोई फ़िक्र थी, न ही होने वाले परिणाम की कोई चिंता थी. उसके बाद बड़ी तेजी से भाभी अपनी गांड से उठा उठा कर चुत की चुदाई करवाने लगीं. हम दोनों की सहमति के बाद दोनों परिवारों ने खुश होते हुए एक दूसरे को लड्डू देकर मुँह मीठा कराया.

आज तक मैंने पारिज़ा को कई बार चोदा है लेकिन आज भी पारिज़ा की चूत एकदम कसी हुई मुलायम और मस्त है. हम दोनों एक दूसरे के जिस्मों को सहलाते हुए होंठों का रसपान करते रहे. हॉट गर्ल इमेजआधे घंटे बाद मेरी आंख खुली और मैंने फिर से उसकी चूचियों को छेड़ना शुरू कर दिया और उसकी चूत को सहलाने लगा.

मेरे मुँह से मादक आवाजें निकल रही थीं- ओह्ह जान … और जोर से चाटो न …ये बड़ी मस्त बात थी कि मैं फ़ोन पर जो राहुल को करने को बोलती, वो यहां मेरे साथ राज कर रहा था.

आज भी जब कभी उससे मिलने का मौका मिलता है तो हम दोनों चुदाई जरूर करते हैं. वो लगातार मादक सिसकारियां ले रही थीं और बोल रही थीं- आह बहुत मजा आ रहा है.

और वे मेरी टांगें फैला कर उनके बीच में आकर बैठ गए और अपना लंड मेरी चूत के द्वार पर टिका दिया और चूत की फांकों पर उसे रगड़ने लगे. इसलिए मैंने लिंग बाहर निकाला, कॉन्डम को हटाया और उसको बैठा दिया और लंड चूसने को कहा. मैं भी इस घर में ज्यादा से ज्यादा वक्त रहना चाहता था ताकि प्रेरणा की चूत चोदने का मौका मिले.

दोनों ने ही एक दूसरे की बॉडी पर बहुत से निशान बना दिए थे, जो साफ़ दिख रहे थे, पर हमें उस समय उसकी कोई चिंता नहीं थी … बस हम अपनी मस्ती में थे, मानो हवा में उड़ रहे हों.

वो लंड चूसते हुए बोली- पापा मैं सारी जिंदगी इस लंड के लिए तरसती रही, जो आज मुझे मिला है. मैंने उसकी क्लिटोरिस को जीभ से जैसे ही छुआ तो उसके पूरे शरीर के रोंगटें खड़े हो गए. फिर भाभी चुपचाप उठीं, अपना मुँह पौंछा और धीरे धीरे लंगड़ाते हुए बाथरूम में चली गयीं.

राजस्थानी चुड़ैमगर इस हालत में आप नीचे कैसे जाओगी? आपके बदन पर तो एक भी कपड़ा नहीं है. कुछ देर तक मैं उसकी चुत और चूचियों की कल्पना करते हुए गरमा गया और मैंने उसकी ब्रा को लंड पर लपेट कर मुठ मारी और खुद को शांत करके नहा लिया.

सेक्स सेक्स सेक्स बीएफ सेक्सी

अंजू अब मुझे छेड़ रही थी और बार बार ये बोल कर चिढ़ा रही थी- टेढ़ा है, पर मेरा है।मेरा उससे बात करने का बिल्कुल मन नहीं कर रहा था. मौसी जोर जोर से सिसकारते हुए बोली- अब जान निकालेगा क्या मेरी? डाल दे इसे अंदर … आह्ह … मेरी चूत की सोई हुई प्यास को तूने फिर से आज जगा दिया है, अब इसे जल्दी से बुझा नहीं तो मैं तेरे लंड को काट खाऊंगी. जैसे जैसे उसकी पैंटी में उंगली प्रवेश कर रही थी वैसे वैसे मेरे शरीर में वासना की लहरें पूरे जोश में उछल रही थीं.

चढ़ तो गई पर उतर नहीं पा रही। प्लीज उतार दो ना।और मैं रोने का नाटक करने लगी।अमित ने दो मिनट रूकने को बोला और लोहे की एक सीढ़ी लेकर आया. अनवरी चाची ने मेरी आंखों में देख कर एक कंटीली मुस्कान दी और अपनी चुत पर अपना हाथ फेरा. मेरे लंड ने कामरस छोड़ छोड़ कर मेरे अंडरवियर को आगे से पूरा ही गीला कर दिया था.

वो मेरा लंड देख कर हैरान हो गईं और बोलीं- याल्ला … ये मैं क्या देख रही हूँ … तुम्हारा लंड तो काफ़ी बड़ा है और मोटा भी है. मैंने कहा- अब शुरू करें?उसने बोला- हां तुम नीचे लेट जाओ … फिर बताती हूँ … जैसे ही मैं नीचे लेटा, वो मेरे ऊपर चढ़ गई. मैं पहली बार किसी पुरुष के लिंग को देख रही थी और वो भी बिल्कुल मेरी आँखों के सामने।मेरा मन उसके लंड को छूकर देखने के लिए करने लगा.

फिर मैंने अन्दर देखा कि अल्पना घोड़े बेचकर सो रही थी … उसके ऊपर चादर ओढ़ा दी गई थी. उधर मम्मी भी चुपचाप मेरी हरकतों को देखे जा रही थीं, वे आज भी कुछ नहीं बोल रही थीं.

अन्तर्वासना के आप सभी पाठकों को अपनी गर्लफ्रेंड के बारे में कुछ बातें बताना चाहता हूँ कि मेरी गर्लफ्रेंड की उम्र 25 साल है.

उनकी आंखों में चुदाई की वासना देख कर मैं बोला- अब खेल चालू करते हैं. एक्स एक्स एक्स देवर भाभीउस दिन मैंने जब सुषमा मैडम की ब्रा को ध्यान से देखा, तो उनकी ब्रा उनके मम्मों से काफी छोटी लग रही थी. बहन की सेक्सीउस समय अपनी कंटीली आखों को हल्का सा उठाना और उसका आंखों का मेरी आंखों में देख कर एक इशारा करना कि आप सुरक्षित हैं. आज मैं अपने निजी सेक्स जीवन को जिस मजे से एन्जॉय कर रही हूं मैंने अपने बारे में कभी खुद सपने में भी नहीं सोचा था कि मैं आगे जाकर ऐसी निकलूंगी या ऐसी बन जाऊँगी.

मुझे इसके जरिये यहां पर घर भी मिल जाएगा और प्रमाण पत्र मिलने में कोई दिक्कत नहीं होगी.

पर तभी मीता ने एक ऐसी हरकत कर दी कि सुरेश के दिमाग़ में वासना सवार हो गई. मैंने उसको बेड के किनारे पर खींच लिया और खुद नीचे बैठ कर उसकी योनि को चूसना शुरू कर दिया. (ये लंड लगने वाली बात उसी ने मुझे बाद में बताई थी)उसके बाद हम दोनों वहां से आ गये.

हालांकि मैं मुझे जब टाइम मिलेगा, तभी मैं अपनी पति पत्नी सेक्स कहानी के लिए आपके मेल का रिप्लाइ ही दे पाऊंगी. मुझे जोर जोर से चोद साले … दम नहीं रहा क्या तेरे लंड में मादरचोद … आह आह आह आह फक. जो होना था वो ईश्वर की मर्जी थी, आप ही तो कहते थे कि बिना उनकी मर्जी के तो पत्ता भी नहीं हिलता संसार में.

मारवाड़ी बीएफ दिखाएं

मैं समझ गया था कि मैं अब अपनी बहन मोनिषा को रोजाना ऐसे ही चोद सकता हूं. मेरी पीठ पर नाखून रगड़ते रगड़ते मनीषा ने मेरा लोअर नीचे खिसका दिया और मेरे चूतड़ों पर हाथ फेरने लगी, मेरा लण्ड पूरी तरह से तैयार हो चुका था. मेरी पढ़ाई अभी पूरी नहीं हुई है। मैं दिल्ली में अपनी सहेली के साथ रहती हूं जिसका नाम कृति है। हम दोनों सहेलियां किराये के एक छोटे से घर में रहते हैं।मेरा फिगर 32-28-32 का है। मेरे कॉलेज में सभी लड़के मुझसे दोस्ती करने को मरते थे मगर मेरा दिल किसी पर नहीं आया था। मैं किसी को भाव नहीं देती थी.

मैं उस समय सेक्सी मैडम को देखता ही रह गया कि मैडम ने ये क्या किया मेरे साथ … पर मुझे बहुत मजा आया.

ये मैं सुनते ही सीट के ऊपर से उठ गया और उसके सामने आकर नीचे बैठ गया.

जब मनोज ने उसके आजाद स्तनों को अपने हाथों में लेकर प्यार से दबाना शुरू किया तो पूजा के अन्तर्मन में वासना का समंदर उठने लगा. मुखिया ने ये सुनते ही चुदाई की स्पीड एकदम से बढ़ा दी और अगले ही पल उसके लंड का गर्म गर्म वीर्य सुमन की चुत में भरने लगा. भोजपुरी क्सक्सक्स वीडियोमुखिया ने ये सुनते ही चुदाई की स्पीड एकदम से बढ़ा दी और अगले ही पल उसके लंड का गर्म गर्म वीर्य सुमन की चुत में भरने लगा.

क्या आप मुझसे अभी फोन पर बात करोगे?मैंने कहा- सुबह बात करें तो कैसा रहेगा?तुली बोली- नहीं पापा अभी इसी वक्त बात करनी है. मैंने कहा- क्या सच कह रही हो जान?चाची बोलीं- हां … मगर ये बात तुम्हारे और मेरे में बीच ही रहनी चाहिए … किसी से मत कहना. वो बोली- तुम भी इस व्हाइट शर्ट और ब्लैक पैंट में बहुत हैंडसम लग रहे हो.

इतने में पहले वाले ने मॉम को पेट के बल ऊपर कर लिया और मेरी मां के चूचे उस आदमी के सीने पर दब गये. उसके बाद मैंने उसकी ब्रा को साइड में करके उसके एक निप्पल को मुँह में ले लिया और निप्पल को काट लिया, जिससे उसके पैरों का संतुलन बिगड़ गया और पेटीकोट नीचे गिर गया.

अब आगे की हिंदी सेक्स कथा:मैंने ये सब करने से पहले मैंने सविता को कॉल किया.

जैसे ही अंकल अन्दर आए, उन्होंने हमें मस्ती करते हुए देख लिया और वो हल्के से खांस कर अपनी उपस्थिति दर्ज कराने लगे. मैं उनकी एक चूची को अपने मुँह से चूसता हुआ उन्हें तेजी से चोदे जा रहा था. इस तरह वो सारी रात ऐसे ही मेरे संग मस्ती करती रही और मुझे उकसाती रही कि मैं भी उसकी योनि को चाटूं चूमूं; पर मैंने उसकी कोई बात नहीं मानी.

सेक्सी ओपन आदिवासी मूवी स्टार्ट होने के कुछ देर बाद मैंने महक का हाथ पकड़ लिया और बोला- तुम्हारे हाथ इतने ठंडे क्यों हो गए?उसने बोला- शायद AC चालू है इसलिए. वो बोली- लेक्सीबॉय, कुछ करना है कि आज भी ऐसे ही लेटे हुए रात गुजार देने का इरादा है?मैं हंसने लगा और उसे अपनी बांहों में खींच लिया.

मैं वहीं खड़ा रहा और जब मैंने देखा वो सो गईं … तो मैं कमरे में घुस गया. फ्रेंड्स अब सेक्स कहानी में मुखिया के लंड की खुराक के लिए मुनिया नाम की कच्ची कली के हाथ से मुखिया के बदन की मालिश का मजा अगले भाग में मिलेगा. उनके मुँह मेरे होंठों की वजह से बंद था तो जब भी मैं उनकी गांड में उंगली करता, उनकी सिसकी मेरे मुँह में ही घुट कर रह जाती.

इंग्लिश में सेक्सी डबल बीएफ

8 फीट की हाइट एवं एक गठीले शरीर का मालिक है।जितने भी वर होते हैं सभी को अपनी सुहागरात में बहुत दिलचस्पी होती है जो कि स्वाभाविक सी बात है. इस बार उसने मुझे दीवार से चिपका कर खड़ा कर दिया और मेरा एक पैर उठाकर मुझे चोदने लगा. आपकी उम्र तो 60 साल की है लेकिन जवानी तो आपमें अभी भी बहुत भरी हुई है.

कुछ दिन बाद ही मैंने कॉलेज छोड़ दिया और साल भर के बाद वो भी जम्मू में पढ़ने के लिए आ गयी. अब वह पूरा लंड पेल कर पीछे से आराम से धक्के लगा रहा था और मैं मजे ले रही थी.

तुम इतनी रात को मेरे से बात करोगी तो?तुली- पापा वो भी मेरे साथ ही हैं.

जब तीन चौथाई लंड बाहर आ गया तब फिर धीरे धीरे अंदर करने लगा। पांच दस मिनट के बाद लंड आसानी से अंदर बाहर होने लगा।तभी मेरा मोबाइल घनघना उठा. पूजा भी अन्जान नहीं थी कि कुछ देर के बाद उसके जिस्म के साथ क्या खेल होने वाला है. उनकी चीख निकलने की गुंजाइश खत्म होते देख कर मैंने अपने हाथों को दीदी के मम्मों पर जमा दिए और उनको बहुत तेजी से मसलना शुरू कर दिया.

वो कराहते हुए बोली- थोड़ा आराम से कर, मैं थोड़े ही न कहीं भागी जा रही हूँ? तेरे मोटे मूसल लंड से मुझे बहुत दर्द हो रहा है. रवीना के होंठ अभी भी नगमा के होंठों पर थे और जैसे ही उसकी बुर को मेरे हाथ के स्पर्श का मजा मिलने लगा तो नगमा का विरोध भी बंद हो गया. उसकी बिल्कुल टाइट चूचियां एकदम उठी हुई थीं … और उनके ऊपर ब्राउन कलर के निप्पल एकदम कड़क हो गए थे.

इस हिंदी Sexxy Story में पढ़ें कि मैंने अपना सेक्सी ब्लाउज सिलवाने के लिए अपनी सहेली को पूछा तो उसने मुझे एक टेलर की दूकान बतायी.

देवर भाभी की फिल्म बीएफ: सार्थक- क्या करूं … अकेला रहता हूं सारा दिन पढ़ाई करता हूँ, तो थोड़ा सा स्ट्रेस हो जाता है, तो पी लेता हूं. मैंने उन्हें सोच कर मुठ मारी और सब कुछ भविष्य के हाथों में छोड़ कर सो गया.

भाभी ने एक बहुत ही मोहक सेंट लगाया हुआ था, जिसे मैं बस सूंघे जा रहा था. वैसे तू टैटू कहां बनवाएगी?मैं- कहां बनवा लूं तू ही बता दे … वहीं बनवा लूंगी. फिर उसने मेरे फड़कते लंड को मुंह में ले लिया और मेरी जांघों को सहलाते हुए मेरे लंड को चूसने लगी.

मतलब मैं पारिज़ा को एकदम से चुदाई की पोजीशन में लाकर उससे इमोशनली बात करने लगा.

फोन कटा, तो मैं पूरी मस्ती से अच्छी तरह से चुदाई की ओर ध्यान देने लगी. उसने मेरे लंड को सहला सहला कर लोहे जैसा सख्त कर दिया और मेरा लौड़ा अब उस सेक्सी भाभी की चूत चुदाई करने के लिए पूरी तरह से तैयार था. कुछ देर बाद मेरी गर्लफ्रेंड उठी और उसने बोला- अब तुम चुपचाप लेट जाओ.