बीएफ वीडियो हिंदी आवाज

छवि स्रोत,हिंदी बीएफ दिखाइए एचडी में

तस्वीर का शीर्षक ,

हिंदुस्तानी सेक्सी फिल्म: बीएफ वीडियो हिंदी आवाज, वो अपने किसी दोस्त को तुम्हारे लिए मना लेता।प्रियंका बोली- यार आयशा.

भोजपुरी बीएफ ब्लू फिल्म वीडियो

मैं भी अपनी पिक भेजती हूँ।मैंने कहा- मेरी पिक तो ऑलरेडी देख चुकी हो आप।उसने कहा- ओह्ह. अंग्रेजी में बीएफ चुदाईइससे दिमाग में लड़कियों की छवि बनाने में आसानी होती है।आज मैंने भी सोचा कि क्यों न अपनी कहानी लिखी जाए.

दिल वाला ही समझ सकता है। मगर लगता है कि अब लड़कियों और भाभियों ने कहानी पढ़नी कम कर या लगता है कि जैसे पढ़ना ही बंद कर दी है. सी पिक्चर बीएफ सेक्सी पिक्चरमेरी नज़र उस पर से हट ही नहीं रही थी।इतने में उसने मेरे सीने पर जानबूझ कर एक धौल जमाई और कहा- ऊ.

अच्छे के लिए ही होता है।उस दिन कुछ नहीं हो पाया और मैं अपने घर लौट आया। बस इतना था कि आंटी चुदने को राजी थीं और मुझे उनको चोदने के लिए सिर्फ मौके की जरूरत थी।फिर से वो ही शाम को वॉक का सिलसिला शुरू हो गया.बीएफ वीडियो हिंदी आवाज: या ज़्यादा लंबा मोटा लंड लिया नहीं था।मैंने पूछा तो वो बोली- हाँ 6 महीने हो गए.

जो साबुन में बहुत ही मादक लग रहे थे।मेरे शरीर से साबुन सूखता देख प्रियंका एक हाथ से शावर चला दिया और हमारे शरीर से साबुन धुलने लगा और नीचे की और बहने लगा।थोड़ी ही देर में हमारे शरीर से सारा साबुन गायब हो गया.मैं खाने का डिब्बा उठाकर उछलता हुआ गेट से निकल गया और सेकेंड्स में ही संदीप के घर के गेट पर जा पहुंचा.

बीएफ बिल्लू पिक्चर - बीएफ वीडियो हिंदी आवाज

तो वो भी खुश हो गई।शादी की पहली रात मैंने दोनों बहनों की खूब चुदाई की.ऐसा लगा जैसे उन्हें निचोड़ कर पी जाऊँ।फिर हम दोनों एक-दूसरे में समाते चले गए, मैंने उनके बदन से सारे कपड़े उतार दिए और वो बस लंबी-लंबी साँसें भर रही थीं।हम दोनों अब नंगे हो चुके थे और फिर मैंने धीरे-धीरे ऊपर से लेकर नीचे तक उन्हें खूब किस किया।तभी मेरी नज़र उन दो फाकों पर गई.

उस पर हल्की-हल्की सी झांटें उगी हुई थीं।मेरे पूरे बदन में सनसनी होने लगी और मेरा लंड तन कर खड़ा हो गया।मॉम अपने सारे बदन को साबुन से मसल-मसल कर नहा रही थीं, नहाते-नहाते मॉम अपने दोनों चूचियों को हाथों से दबाने लगीं।इसी तरह दबाते-दबाते मॉम पर जवानी की मदहोशी छाने लगी, वे अपने हाथों से बुर भी मसल रही थीं।पहले तो बुर को हाथों से हल्के-हल्के सहलाती रहीं. बीएफ वीडियो हिंदी आवाज मैं जलगाँव ब्वॉय आप सभी के लिए एक नई काल्पनिक कहानी के साथ आपकी चूत और लण्ड को गर्म करने हाजिर हूँ।अन्तर्वासना की गर्म भाभियाँ, आंटियां और लड़कियां मेल करके हमेशा जल्द नई कहानी लिखने के लिए कहती रहती हैं।इस कहानी को लिखने में मुम्बई की एक भाभीजी मदद की है.

तो शाज़िया ने साफ मना कर दिया।दोस्तो, मैंने इससे पहले 4 चूत और भी चोद चुका हूँ.

बीएफ वीडियो हिंदी आवाज?

तभी मैंने उसके मम्मों को दबाते हुए उससे कहा- तुम्हारे ये दूध एक-एक किलो के तो होंगे ही।इस पर वो भी हँस पड़ी और कहने लगी- तो जनाब को अब इनका वजन भी करना है। पहले साइज़ पता करनी थी और अब वजन भी चाहिए।इतना कहकर उसने हम दोनों पर चादर ओढ़ा दी. क्योंकि दीवान के बराबर में अलमारी थी।उस रात टीवी पर कोई प्रोग्राम आ रहा था. दस मिनट के बाद उसकी स्पीड और तेज हो गई और उसका लंड पत्थर की तरह कड़ा हो गया और झटके मारते हुए उसने अपना अंश मेरी सूज चुकी गांड में छोड़ दिया जिससे मुझे दर्द में राहत मिली.

मैंने उसके पैर फैलाकर अपना लंड उसकी चूत की फांकों को फैलाकर डालने लगा. बस रात का सन्नाटा और भट भट करती बुलेट बाइक सड़क पर चली जा रही थी।सड़कों पर स्पीड ब्रेकर से गुजरते हुए जो झटके लग रहे थे उनके चलते पीछे वाले (प्रवीण) का भारी सा हाथ मेरी आधी जांघ को कवर कर चुका था. और बोल नहीं सकती थी। मैं ये जानकर बहुत दुखी हुआ और फिर सबेरे 7 बजे वो और उसकी किसी स्टेशन पर सास उतर गए।जाते हुए उसने मुझे स्माइल पास की और ‘बाय’ का इशारा करके वो चली गई।मैं जब आज भी वो लम्हा याद करता हूँ तो बहुत इमोशनल हो जाता हूँ।दोस्तो, मैं आपके कमेंट्स का इन्तजार करूँगा साथ ही मैं आप सभी से फ़ेसबुक पर भी मिल सकता हूँ।[emailprotected].

वो मेरे लण्ड को हाथ से सहला रही थी। मेरा लण्ड गीला हो गया था।मैडम ने मेरे लण्ड को मुँह में लिया और चूसना चालू किया। मैंने उसे पकड़ कर गद्दे पर लिटाया और जोरों से किस करने के साथ उसकी चूत पर हाथ फेरने लगा।उसकी चूत से पानी का रिसाव शुरू हो गया था, वो ‘आह. नीलम उठी और नंगी ही नीचे किचन से जा कर पानी ले कर आई। मैंने पानी पिया और मैं लेट गया. तो उसके बड़े मम्मे मुझे उत्तेजित कर देते थे।एक-दो महीने उसने मेरी ‘हैलो हाय’ के अलावा मुझे कोई रिस्पॉन्स नहीं दिया।मैं घर के पीछे जाकर उसकी ब्रा और पैन्टी को सूखता देखकर मुठ मार लेता था।एक दिन उसने तकरीबन सुबह 9:30 बजे मुझे आवाज़ मारी और कहा- मेरे कंप्यूटर में वाइरस आ गया है.

’बाद में उसने भी मेरा पैन्ट और टी-शर्ट निकाल दी और मेरे लंड को अंडरवियर के ऊपर से ही सहलाने लगी।मैंने एक हाथ उसकी पैन्टी में डाला और उसकी चूत को रगड़ने लगा। उसके होंठों को किस करने लगा. वो तो आपके मिलने के बाद ही जागी। न जाने आपने क्या जादू कर दिया कि सब कुछ भूलकर आपके पास चुदवाने आ गई।मैं बातें करते हुए अपनी उंगली से उनकी गाण्ड टटोल रहा था, मैं अपनी उंगली का अगला हिस्सा गाण्ड में घुमा रहा था.

तुम साइट्स देखने के लिए तैयार रहना!वो मुस्कुराई और मैं दादी से मिलने चला गया। हमारी दादी हमारे पास ही रहती हैं और मेरा बहुत ख्याल रखती हैं। दादी किसी काम के लिए मुझे बुला रही थीं।मुझे ऑफिस जाना था.

हम चार लोग ही हैं।नासिक में हमारा बहुत बड़ा बंगला है जिसमें नीचे दो कमरे.

जिसकी वजह से उसकी चूत खुल गई। फिर मैंने धीरे से अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया।लौड़े के घुसते ही उसकी सिसकारी निकल गई. जहाँ किसी के भी आने का कोई चांस नहीं था।वहाँ पहुँच कर मैंने गाड़ी रोकी और सीट बेल्ट खोल कर अपनी पत्नी और विलास की तरफ मुड़ गया।मेरी पत्नी अभी भी वैसे ही बैठी अपनी चूची उससे सहलवा रही थी और मुझे पक्का विश्वास है कि वो पूरे टाइम उसकी चूची कोई हल्के से नहीं सहला रहा था. ओवैसी जी और उनकी वाइफ का नाम सबा है (नाम बदले हुए हैं) उनकी 2 बेटियाँ हैं।इनके घर के साथ में एक और बड़ा परिवार रहता है.

कल पूरी रात हम दोनों की खूब गान्ड मारी, अब मैं आपको रगड़ कर नहलाती हूँ. मेरे आ जाने से वो लड़की अपने घर जाने लगी।वो लड़की काफी हसीन भी थी और कुछ मेरी प्लानिंग भी थी. तो उससे मेरी बातें बहुत अधिक होने लगी थीं। वो मुझसे मिलने के लिए बातें कर रही थी। उससे अब कंट्रोल नहीं हो रहा था और वैसे मुझे भी सेक्स करने की चुल्ल सवार हो चुकी थी।मैं भी जोश में था.

तो देखा अब रिया सीना चौड़ा करके सोई थी।टीवी की कम रोशनी में भी उसके मम्मों इतने चमक रहे थे कि मेरी आँखें रोशन हो गई। मैंने एक और कोशिश करने की सोची। फिर से एक बार दुबारा मम्मी को देखा और अपना हाथ वैसे ही ले जाने लगा। मैंने उसके सूट के ऊपर से ही उसके मम्मों को हल्का सा सहलाया.

मैं उसे बता देता हूँ कि मैं उसके बारे में क्या सोचता हूँ।मैंने उससे बड़े हिम्मत करके बोला- रिया मैं तुझे कैसा लगता हूँ?उसने हँसते हुए बोला- तुम ये क्यों पूछ रहे हो?मैंने कहा- मैं भी तुझे पसंद करता हूँ. मैं समझ गया कि वो झड़ गई।फिर मैं भी रिया की चूत में झड़ गया।फिर मैंने अपना लण्ड रिया को दिखाया. मेरा मुँह जमीन की तरफ था। मेरी जांघों को जांघों पर लेकर उसने मेरी चूत मे उसका मूसल लंड डाल दिया.

आधे रास्ते जाने के बाद वो भीड़ से बाहर निकला और थोड़ा अलग सा जाकर फोन पर बात करने लगा. पर विलास पूरी मस्ती से उसकी दुपट्टे से ढकी पर नंगी चूचियाँ सहलाता रहा।हम जब पहले वाली सुनसान जगह पहुँचे तो मैंने आज पहले से भी ज्यादा सुनसान और ऐसा इलाका चुना. आपकी मैडम के कितने कॉल्स आए थे।मैं हँस दिया और मोबाइल पकड़ कर वेब हिस्ट्री चैक की.

तो कभी मैं चूसने अगता।कभी-कभी मैं उनके होंठों को काट लेता तो वो चिल्ला उठतीं और मैं ऊपर से ही उनके मम्मों को दबा रहा था।बाद में भाभी बोलीं- तुम मुझे सिर्फ़ श्रेया कहो.

लेकिन मुझे मज़ा आ रहा था। मैं लंड को ज़बरदस्ती एकदम उनके कंठ की गहराई तक अन्दर घुसाने लगी. उसके गाल इतने मुलायम थे कि किस करते ही लाल हो जाते।मैंने टॉप के ऊपर से ही उसके मम्मों को दबाना और सहलाना शुरू कर दिया। धीरे-धीरे उसने सिसकारियाँ लेना शुरू कर दीं।उसके होंठ मेरी गर्दन के पास थे.

बीएफ वीडियो हिंदी आवाज ’कहते हुए उसने रोना शुरू कर दिया, उसकी आँखों से पानी बहने लगा।धीरे-धीरे सौम्या का दर्द कम होने लगा। फिर वो खुद ही गाण्ड हिला-हिला कर गाण्ड मरवाने लगी।‘साली तूने मुझे बताया क्यों नहीं कि दोषी का लंड है. और सीधे तेज-तेज झटके मारने लगा।सुरभि अपने सर का ज़ोर इतना अधिक दे रही थी कि प्रियंका की गाण्ड दबे जा रही थी। उसकी गाण्ड की लाइन दो फाँकों में हो रही थी.

बीएफ वीडियो हिंदी आवाज ’ मॉम के मुँह से निकला, बोलीं- इतना मज़ा पहले कभी नहीं आया… वेल डन माय बॉय. तो मैंने भी ऊपर-नीचे लंड चलाना शुरू कर दिया।अब हम दोनों को मज़ा आ रहा था.

मेरा लण्ड खड़ा का खड़ा ही रहता।एक बार मैं अपने मामा के घर गया था और मेरे मामा-मामी को अचानक कहीं जाना पड़ गया।मेरे मामा ने मुझसे कहा- करण.

सेक्स करती महिला

वो इतने दिनों से प्यासी जो थीं।मैं उन्हें घोड़ी बनाकर चोद रहा था और उनके मम्मों को ज़ोर-ज़ोर से दबा रहा था।अब मैं भी झड़ने वाला था. 5 इंच का होकर मुंह में झटके मारने लगा।वो एकदम से उठा और एक सेकेंड के लिए मुझे देखकर नशे में ही मुस्कुराया और वापस गद्दे पर गिर गया।मैं एक बार के लिए सहमा लेकिन उसका मूसल जैसा खड़ा लंड देखकर फिर से सब भूल उसको चूसने में लग गया, कभी उसके आंड चूसता कभी लंड का लाल सुपाड़ा, कभी पेट के बाल चूमता कभी झांट. सो चुपचाप बैठा रहा।फिर उसने खनकती आवाज़ ने मुझसे कहा- क्या आप मेरे साथ ड्रिंक करना चाहेंगे।मैंने भी अपना सिर ‘हाँ’ में हिला दिया। उसके बाद वो सिग्नेचर की एक बोतल गिलास और स्नैक्स ले कर आ गई और हम लोगों पैग लगाने शुरू किए। लेकिन जूही को 2-3 पैग में ही नशा होने लगा और अचानक से जूही मेरी गोदी में आ कर बैठ गई। लेकिन मैं नौकरी के लालच में शांत बैठा रहा और अपनी वासना पर काबू किए रहा.

पर इसकी चूत ने मुझे अपना कुछ अलग सा दीवाना सा बना दिया था।जल्द ही एक और धमाकेदार चुदाई लेकर आएगा आपका ये प्यारा यार!मैं आशा करता हूँ अन्तर्वासना पर मेरा पहला अनुभव आपको भी अच्छा लगा होगा। ये हकीकत है या गलत ये तो आप लोगों के मेल तय करेंगे। फिर मिलेंगे।[emailprotected]. तो मैं अपने कपड़े लेने बाथरूम में घुस गई। मुझे अपनी ब्रा-पैन्टी की हालत देख कर यकीन हो गया कि मेरा हथौड़ा निशाने पर लग चुका है।मेरी पैन्टी के ऊपर भैया के वीर्य का चिपचिपा पदार्थ लगा था।मैं भी प्यासी थी. उसने मुझे कस कर अपनी बाँहों में ले लिया।अब मैं उसके नरम-नरम होंठों को बहुत प्यार से चूस रहा था.

और चूम सकते हो।मुझे लगा कि शायद वो मान रही है, मैंने उसे चूमना शुरू किया.

लेकिन मेरे लण्ड का सुपारा ही चूत में जा पाया।दर्द के मारे उसकी चीख निकल गई, मैं डर गया और लौड़ा हटा लिया।वो उठी और रसोई से जा कर सरसों का तेल ले आई।मैंने तेल से अपने लण्ड और उसकी चूत को तर कर दिया, फिर मैंने लण्ड को सैट किया और एक जोरदार झटके के साथ चूत में पेल दिया।वो दर्द के मारे करहाने लगी और उसकी चूत से खून भी निकल आया था।वो कराहते हुए बोली- कुछ देर रूक जाओ. और वो मेरे ऊपर गिर गई और मुझको यहाँ-वहाँ चूमने लगी।मेरे हाथ मेरे बस में नहीं रहे. बस थोड़ा सहन करो।अब उन्होंने मुझे चोदना चालू कर दिया और मेरा दर्द भी धीरे-धीरे गायब होने लगा। मैं भी अपनी गाण्ड उछाल-उछाल कर उनका साथ देने लगी, हर झटके पर मेरे मुँह से ऐसी आहें निकल रही थी ‘उम्म्म्मम.

मैं उसका साथ देती जा रही थी।मैं पूरी तरह से अब गरम हो चुकी थी तो मैंने उससे बोला- मेरी सूसू की जगह पर कुछ हो रहा है।तो उसने बोला- इसको अब सूसू की जगह नहीं बोलना. अर्जुन ने एनी को बाँहों में लेते हुए कहा- वो कोई कच्चे लौंडे होंगे. जब मैं एक एयरलाईन्स में जॉब करता था।एक बार मैं दोपहर की डयूटी कर रहा था और मेरी डयूटी ‘आगमन’ हॉल में थी। उसी दिन शाम को बैंगलोर की फ्लाइट आई.

अब चुदाई पूरे जोरों पर चल रही थी और अब मैंने अपनी स्पीड का मीटर बढ़ा दिया था। फिर 15 मिनट की चुदाई के बाद मेरा लंड शाज़िया की चूत में पिचकारी मारते हुए झड़ गया।कुछ देर मैं उसके ऊपर ही लेटा रहा। उस दिन हमने 3 बार चुदाई का मजा लिया. कोमल को कॉल करके कल के लिया बता देना और अभी मुझे एक काम और निपटाना है.

मतलब सोती नहीं थी।मैंने उसे एक बार अन्तर्वासना की एक चुदाई की कहानी सुनाई. परन्तु अब राजेश की नजदीकी से वे विचार फिर जाग से गए।उसने हँस कर कहा- कहीं वास्तव में किया तो नहीं ना?मैंने कहा- मान लो. क्या हो गया तुम यहाँ क्यों खड़े हो?अर्जुन को देख कर बदल सिंग की सिट्टी-पिटी गुम हो गई।बदल सिंग- नहीं साब जी.

मैं इसे भेजता हूँ।उसके जाने पर मैंने उसे कमर से टाइट पकड़ कर गोदी में उठा लिया और कहा- चल अब ऊपर जा।वो भी मना करने लगी.

वो सुबह कितना ताजी रहती होंगी। खैर मेरे मन में भैया को लेकर कोई ग़लत विचार अब भी नहीं आए थे।मैंने भैया को पहले भी नोटिस किया था कि वो जब भी छुट्टियों में घर आते थे. पर सोनिया दो लौड़ों का दर्द झेल नहीं पा रही थी। फिर मैंने रिंकू को तेल लाने को बोला।रिंकू तेल लेकर आया और फिर मैंने और मदन ने अपने लण्ड पर तेल लगा लिया और सोनिया की चूत में भी तेल लगा दिया।तभी सोनिया बोली- अमित तुम्हारा लण्ड ज्यादा मोटा है. बस ये साली मेरे लौड़े को ऐसे ही चाटती रहे।मैं भी अपनी कमर आगे-पीछे करने लगा और मैंने सोनी का सर पकड़ कर जोर-जोर से उसके मुँह की चुदाई करना चालू कर दिया।उसके मुँह से ‘अग.

मैंने सोचा कि हाँ यार बुआ सही बोल रही हैं अभी सब हैं बाद में करेंगे और ये मौका भी गम का है. तो चलो सारी उलझन शॉर्ट में निपटा देती हूँ। अब तक वैसे भी कहानी बहुत लंबी हो गई है।सन्नी का आपको पता ही है.

वो जब कमरे में चहल-कदमी करती थी और जब उसकी चूतड़ पैन्डुलम की भाँति उठते-बैठते थे. भाभी भी क्या मस्त हो गई थीं और क्या-क्या गंदे शब्द बोल रही थीं- और चूसो चूत को. तो उसने मुझे तेज़ी से धक्का दिया और सलवार ठीक करते हुए बाहर चली गई।मैं उसके शरीर के इस भाग को देख कर सोचता ही रह गया.

योनि सेक्स

मदन आराम से सोनिया की चुदाई करने लगा। मदन ने अब सोनिया को अपने लण्ड पर बैठ कर चुदने को बोला.

लेकिन पता नहीं क्यों मेरे कदम नहीं उठे, मैंने सोचा ट्राई करने में क्या है।मैं जानती थी कि यह पागलपन था। एक अनजान के साथ ये सब करना और वो भी पब्लिक प्लेस में. पर पुरानी बातें याद करके डर भी लग रहा था।मैंने हिचकिचाते हुए कहा- कहीं फिर से मुझे ठुकवाने का इरादा तो नहीं है?शमिका एकदम से हँस पड़ी और बोली- अरे नहीं उस दिन जो किया वो सज़ा के तौर पर काफ़ी था और वो भी पूरा मॉम का ही प्लान था. लेकिन मैं उसकी गाण्ड देखने में इतना खो गया था कि फोटो खींचते वक़्त कैमरे का बहुत ज़ोर की आवाज आई.

पर उसने कुछ नहीं कहा और एकदम नॉर्मल रही।वो मुझसे बात नहीं कर रही थी और ना मुझसे नज़रें मिला रही थी।फिर रात को मैं उसके कमरे में गया. ’मैं भी अपना पूरा लन्ड बाहर तक निकालता और एकदम चूत में डालता। ऐसा करने से मेरा लन्ड उसकी बच्चेदानी में घुस रहा था. हरियाणवी सेक्सी बीएफ वीडियो मेंदेख तेरा प्रॉमिस खुद पूरा हो गया। ये तो अपने आप रंडी बनने को तैयार है!और वो हँसने लगी।शांति- देख ऋतु.

मेरा 8″ का लण्ड इतने उफान पर आ गया था कि क्या कहूँ।पहली बार जब किसी को कोई लड़की मिलती है. अभी और चोदूँगा।अब उसने साक्षी को डॉगी स्टाइल में आने को कहा और उसके पीछे से आकर साक्षी की चूत में अपना लंड पेल दिया और फ़िर से ‘दे.

अपनी टी-शर्ट के नीचे से ब्रा निकाल कर फेंक दी, अब वो अपने गोल-मटोल भारी भरकम मम्मों को टी-शर्ट के अन्दर से ही मेरे सामने हिलाने लगी।मैंने देखा कि उसके निप्पल भी पूरी तरह खड़े हो चुके थे. और वो एकदम जंगली की तरह मेरे होंठों को चूसने लगी। मैं भी उसके होंठों को अपने होंठों मैं दबा कर चूसने लगा और काटने भी लगा।हम दोनों की जुबानें एक-दूसरे के मुँह मैं स्वछन्द होकर घूम रही थीं।उसके मुँह के अन्दर की गर्मी और वो गीलापन मुझे भी गर्मी दे रहा था और मेरे अन्दर भी कामाग्नि को भड़का रहा था।अब मेरे हाथ उसके टॉप के अन्दर उसकी पीठ पर घूम रहे थे। उसकी ब्रा का बद्दी बार-बार मेरे हाथों से टकरा रही थी. आपको पता ही है अब मुझे भी चुदने का चस्का लग गया था। पूरे दिन बस यही सोचती थी कि मेरी चुदाई ऐसे हो.

उसने साफ़ मना कर दिया और रोने लगी।थोड़ी देर बाद चुप हुई तो मैंने कहा- सिर्फ़ छूना ही है. लेकिन चड्डी के बीच के छेद से बाहर निकाल लिया और धीरे-धीरे उसे मसलने लगी।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !अब मैंने भी कंट्रोल छोड़ दिया. मैं जल्दी से आकर अपने कमरे में लेट गया और सोने का नाटक करने लगा।कमरे की लाइट बंद थी और दरवाज़ा थोड़ा सा खुला ही था।बाहर हॉल में हल्की सी लाइट जल रही थी.

जैसे पहली बार देखा हो।अब वो आवाजें निकालने लगी थी। मौका देख कर मैंने स्कर्ट के हुक खोल दिए और ब्रा भी हटा दी। अब उसके जिस्म स्कर्ट के अलावा सिर्फ़ पैन्टी बची थी।क्या फिगर था उसका.

वे मोर्चा संभालने ऊपर आ जाती थीं।अंत में मैं ऊपर था तो जैसे ही मेरा निकलने को हुआ. इसलिए मैंने अपने गुस्से पर कंट्रोल किया और फिर थोड़ी देर बाद डिनर करने चला गया।डाइनिंग टेबल पर काजल एकदम चुपचाप बैठी थी.

5 इंच मोटा होने के कारण मैं अपने मुँह में नहीं ले पा रही थी।उन्होंने दो झटकों में ही लंड मेरे मुँह के अन्दर पेल दिया और मैं उसे लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी।वो मुझे गालियाँ दे रहे थे- आह्ह. अम्मी ने उन्हें सिसकारी लेते हुए अपनी जांघों के बीच दबा लिया।‘अब देखो. ’अब चूत चोदते हुए काफी देर हो गई थी, मैं भी झड़ने वाला था। मैंने और तेज धक्के लगाने शुरू किए औए रितु भी गाण्ड उठा-उठा कर चुदे जा रही थी।‘मैं झड़ने वाला हूँ.

मैं उसके पास गया और पूछा- कहाँ जा रही हो?तो उसने बताया- नानी के यहाँ जा रही हूँ. वो मेरे ऊपर आ गई और मेरा अंडरवियर निकाल दिया।मेरा 6 इंच का लंड फुँफकार मारता हुआ बाहर आ गया, वो बिल्कुल लाल और गुस्से में लग रहा था।पूनम बोली- इतना बड़ा. इसलिए उनके ससुराल के सारे सदस्यों से हम लोगों काफी घुले-मिले हुए थे।उसमें से एक लड़की थी.

बीएफ वीडियो हिंदी आवाज और हम दोनों का दिल टूट गया।आज मेरी छुट्टी थी तो मैं और भाई घर में ही थे। भाई बाहर खेलने चला गया, दादा जी और पापा जी ड्यूटी पर और दादी किसी के घर चली गई थीं। मम्मी बहुत देर तक नहाती हैं। तो जब वो नहाने गईं. ’ करने लगी।मैं थोड़ी देर उसके ऊपर यूँ ही लेटा रहा।जब थोड़ा दर्द कम हुआ.

सेक्स करने दो

अभी तक अपने मेरी कहानी के भाग पढ़े। इन तीन भागों को पढ़कर अब तक काफी महिलाओं के ईमेल आए। कुछ तो बहुत गर्म हो उठी थीं. सन्नी- अब सब चुप रहो और अर्जुन तुम पायल का आख़िरी कपड़ा निकाल कर गेम को पूरा करो. तो वो हँसने लगी और बोली- मैं तो शादीशुदा हूँ।मैंने कहा- पर मुझे तो सिर्फ़ आप चाहिए.

इसलिए मैंने तुम्हारे दोस्त का सहारा लिया।इसके बाद हम दोनों की बातें सुबह-शाम होने लगीं।काफी दिन बीत गए. पहले एक बार वीर्य निकल जाने की वजह से पूरा टाइम लग रहा था दूसरे राउंड में. सेक्सी बीएफ बहनपहले तो गाण्ड फटी में कॉलेज का टेंशन सर पर था।कॉलेज की तरफ से उनको रहने के लिए मकान दिया गया था। शुरू में मैं उनके साथ ही रह रहा था.

और उसने मुझे नीचे लिटा दिया। मेरी टी-शर्ट उतार फेकी और मुझे चूमने लगी। उसका हाथ मेरे लोवर पर घूम रहा था.

पुनीत ने भी ना चाहते हुए एक बार देख ही लिया और उसको देख कर उसकी साँसें रुक गईं।सुनील- थोड़ी आवाज़ तेज़ करो. जो वो लगातार नोटिस कर रही थी।उसने कहा- देखो तुम मेरे बहुत अच्छे फ्रेंड हो.

और अंदर से एक अजीब सी संतुष्टि भी मिली।पैंट पहनने के 2 मिनट बाद ही उसका स्टैंड आ गया और वो मर्द उस रात की याद हमेशा के लिए मेरे पास छोड़कर चला गया. आ जाओ।मॉम उससे लिपट गईं। सपन का हाथ मॉम की कमर को सहलते हुए उनकी गाण्ड को सहला रहा था।मॉम अभी भी उससे लिपटी हुई थीं।सपन ने उनका पल्लू गिरा दिया और मेरी मॉम कुछ ही पलों बाद सिर्फ ब्रा और पेटीकोट में थीं।सपन ने उनके पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया. इसी लिए कल छुप कर हगने बैठी और तुम दोनों की सारी बातें सुन ली थीं।मैं- क्या करूँ सरिता.

जिससे उनकी चूत की खुश्बू मेरे वीर्य की खुश्बू के साथ मिली हुई मेरे नथुनों में भर गई.

सच में इतनी मस्त गाण्ड थी कि मन कर रहा था कि पूरा मुँह उसकी गाण्ड में घुसेड़ दूँ।काफी देर तक मैं उसकी गाण्ड चाटता रहा।मुझे मालूम था कि इसकी गाण्ड कोरी है और इसको दर्द होगा. उसके मम्मी-पापा भी छत पर ही सोते थे।वर्षा ने भी छत पर ही अपना बिस्तर लगा लिया।एक घंटे तक मेरे गाने का लोगों ने आनन्द लिया और हम सब सो गए।लगभग 2:30 बजे का समय होगा. घर के सभी लोग शादी में जा चुके थे और उन्हें अगले दिन वापस आना था। घर पर केवल हम दोनों ही थे.

सेक्सी बीएफ वीडियो में सेक्सी वीडियोउसकी कमर के नीचे तकिया लगाकर चुदाई करने लगा।लगभग 5-6 मिनट ऐसा चलने के बाद ऐसा लगा कि जैसे मेरी बॉडी की पूरी ताकत लण्ड में आ गई हो।वो भी अपनी कमर उठा कर मेरा साथ देने लगी और आवाज़ें निकालने लगी- और ज़ोर से निशांत. बड़े ज़ोर का सूसू आया है।पुनीत कमोड पर बैठ गया और पायल को करीब खींच कर अपनी जाँघों पर बिठा कर उसके मम्मों को चूसने लगा। उसका लौड़ा एकदम कड़क हो गया.

कैटरीना सेक्स वीडियो एचडी

मैंने उसकी कमर के नीचे हाथ डालकर उसके दोनों चूतड़ों को कसकर पकड़ लिया और अपना लण्ड उसकी चूत के अन्दर-बाहर जोर-जोर से करने लगा।मैं बोला- ले सम्हाल. उसका 80 किलो का भार मुझे टस से मस नहीं होने दे रहा था।हालांकि मुझे सांस लेने में भी दिक्कत हो रही थी फिर उसके बदन का मेरे पूरे बदन को स्पर्श करना मुझे बहुत अच्छा लग रहा था. मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ। आज मैं आप सबको अपनी एक सच्ची घटना बताने जा रहा हूँ।यह बात एक साल पहले की है.

क्योंकि मैं उनसे पहली बार मिल रही थी और सब कुछ करने की हामी भी भर दी थी।उन्होंने बातचीत शुरू की. और सच्ची कहूँ दोस्तो, तो पहली बार किसी लड़की के एकदम नंगे चूचे और उसकी नंगी चिकनी चूत देख कर मेरे लण्ड की हालत बहुत खराब हो उठी थी, मुझे ऐसा लग रहा था कि मेरा ये लण्ड ऊपरी चमड़े को फाड़ कर बाहर निकल आएगा. फिर थोड़ी देर बाद आयशा ने हाथ डाला और इस बार मैंने पहले से ही ज़िप खोल रखी थी।वो थोड़ी चौंकी और फिर शरारत वाली हंसी में हँस दी.

स्लिम बॉडी है और मेरे फिगर का साइज़ 32-28-30 का है।यह बात 4 महीने पहले की है. तो मैं अपने कमरे में वापस चला आया और अपने खड़े हुए लंड को हिलाते हुए सो गया।फिर जब सुबह हुई तो मैं ब्रश कर रहा था. फिर मेरी नाभि में जीभ डालकर खेलने लगे।फिर उनकी नज़र फिर स्क्रीन पर गई वहाँ तीनों कलूटों ने मिलकर उस इंग्लिश लड़की के मुँह पर अपना माल गिरा दिया था। ये देख कर पता नहीं उन्हें क्या हुआ और वो मेरे ऊपर चढ़कर मेरे मम्मों को बुरी तरह मसलने लगे और कुछ ही देर में मेरी सलवार फाड़ दी।‘उईईईई.

कि क्या करना है?सोनिया बोली- मेरा मन तो ग्रुप सेक्स करने का है।मैंने बोला- ठीक है एक नए तरह का ग्रुप सेक्स ही करते हैं. अब तो मैंने भी अपने आपको उनके अनुसार बदल लिया है। अब मैं महीने में 2 बार ऐसा उनके साथ ज़रूर करती हूँ और कोशिश करती हूँ कि इस दौरान ज़्यादा से ज़्यादा ब्रूटल बनूँ और हर बार कुछ नया और अलग करूँ। ऐसा करने से मुझे इंटर्नली बहुत तकलीफ़ होती है क्योंकि मैं उनसे बहुत प्यार करती हूँ.

नहीं तो मैं आखिरी चैप्टर नहीं पढ़ाऊँगी।अवि- नहीं मैडम ऐसा मत करो। ये मेरी पहली चुदाई होगी।मैडम- ठीक है मेरे चोदू राजा.

मैं और जोर-जोर से उसकी चूत को चाटता और गाण्ड में उंगली करता रहा।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !अब जैसे ही मैंने 2 उंगलियां उसकी गाण्ड में डालीं. बीएफ सेक्सी चोदने वाली हिंदीउनमें से एक तुम हो।’यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !बड़ी नफासत से दोषी ने मेरी चूत में लंड को घुसाया।‘हाय. खेसारी का बीएफइसलिए दर्द हो रहा है।मैं बोला- कितने दिन?पिंकी- पिछले कई महीनों से नहीं चुदी हूँ।मैं- अच्छा।फिर से मैंने एक और झटका दिया और पूरा लण्ड अन्दर चला गया। उसे अब भी काफ़ी दर्द हुआ. मैं- हाँ जान जैसा तुम बोलो।फिर वो 15 मिनट तक मुझको किस करती रही और इस बीच उसने कब मेरे सारे कपड़े उतार दिए.

तो सोचा मैं भी अपनी रियल कहानी लिख डालूँ।आप लोगों को बताना चाहता हूँ दोस्तो.

वैसे भी उसको तो वीर्य पीना बहुत अच्छा लगता था।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !थोड़ी देर उसको लौड़ा चुसवा कर अर्जुन ने वापस बाहर निकाल लिया और एनी को घोड़ी बना कर फिर से उसकी चुदाई शुरू कर दी।सन्नी का लौड़ा अब बहुत टाइट हो गया था. साथ ही सीधी दो उंगलियों से उसकी चूत को पेलने लगा।इसी के साथ में दूसरे हाथ से उसकी क्लाइटोरिस को रगड़ने लगा।अब हम दोनों की चुदास की आवाज तेज होने लगीं. जिससे मेरी और ऋतु की आँखों में चमक आ गई थी।भाभी भी समझते हुए वहाँ से एक सेक्सी मुस्कान देकर चली गईं.

मैंने बड़ी सफाई से उसको खोल दिया और अपना हाथ उनकी सलवार में डाल दिया।उनकी चूत पर थोड़े-थोड़े बाल थे. मुझे समझ नहीं आ रहा था।उसकी स्पीड तेज हो गई। आज तो मैं भी बहुत उत्तेजित था. इस बात का मुझे बिल्कुल अंदाज़ा नहीं था कि भाभी की चूत इतनी टाइट होगी। मुझे भाभी ने बताया- मेरा पति नपुंसक है.

सेक्सी गाणी

अब ये तीन लंगूर भी यहीं हैं इनका कुछ इंतजाम करके दोनों साथ में साली की ठुकाई करेंगे।अर्जुन- वाह. ’बोलते हुए मैंने अपनी जीभ को उनकी चूत में अन्दर भी घुमा दी।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !‘ऊओउउ उइई. ’ जैसी सिसकारियां निकाल रही थी।फिर मैंने उसे बिस्तर पर बैठाया और उसके टॉप को निकाल दिया। उसके बड़े-बड़े दूध ब्रा में से बाहर आने को तड़फ रहे थे। उसका फिगर साइज़ 34-30-34 का था। दोस्तों वो बहुत ही सेक्सी लग रही थी।मैं उसकी ब्रा के ऊपर से ही उसके दूध दबाने लगा.

तो सोनिया को भी मजा आने लगा।सोनिया ने मदन को भी हिलने को कहा तो मदन भी हिलने लगा जिससे सोनिया का दर्द कम हो गया।अब सोनिया को भी दो लौड़ों से चुदने में और ज्यादा मजा आने लगा।हजारों गर्मागर्म कहानियाँ हैं अन्तर्वासना डॉट कॉम पर…अब मदन और में सोनिया को धकापेल चोदने लगे और उधर सोनिया रिंकू का लण्ड चूसे जा रही थी।सोनिया की चूत में दो लण्ड एक साथ पिस्टन की तरह चल रहे थे.

को पकड़ कर कुछ आगे किया और फ्री कर ली। मेरा कहने का मतलब मैंने अपनी कमीज को कुछ आगे की तरफ करके लूज सी की ताकि कुछ हवा अन्दर जा सके और इससे मुझे कुछ आराम भी मिला।मुझे पता नहीं चला कि मेरी क़मीज़ का गला काफ़ी आगे बढ़ गया है और मेरे पसीने में भीगे मस्त मम्मे.

नेहा भाभी मस्त माल बनी हुई अपने कमरे से निकल रही थीं।नेहा भाभी ने लाल रंग की साड़ी पहनी हुई थी. उधर मैं उसके मम्मों में दांतों के निशान बन रहा था और नीचे मेरा लण्ड पूरा लोहे जैसा गर्म होकर प्रियंका के मुँह में मजे ले रहा था।प्रियंका बोली- हाय जीजू. दीवाना बीएफपर वो कमीना कहाँ मानने वाला था वो तो उसे चोदे ही जा रहा था। कुछ देर बाद उसका भी और साक्षी का दोनों का पानी निकल गया और वो साक्षी के ऊपर निढाल होकर गिर पड़ा।साक्षी की भी हालत उसने खराब कर दी थी।कुछ पलों बाद वो खड़ा हुआ और उसने पानी पिया.

जो कि बहुत मुश्किल हो रहा था।जूही ने नाइटी में से अपना एक दूध निकाल कर मेरे मुँह पर रख दिया। अब मुझको एहसास हो गया था कि आज मेरा यहाँ पर जबर चोदन होना पक्का है. मैंने उसकी दोनों टाँगे उठाईं और अपने कंधों पर रख लीं और अपना लण्ड उसके चूत के मुँह पर रखकर ज़ोरदार झटका लगाकर एक बार में ही पूरा का पूरा लौड़ा चूत में उतार दिया।वो चिल्ला पड़ी- आह्ह. और काफ़ी लड़के मुझे बहुत उल्टा-सीधा बोलते रहते थे। लेकिन पता नहीं क्यों ये सब मुझे अच्छा लगता था।उसी समय कॉलेज की एक लड़की ने मुझे बताया कि जिस लड़के को मैं पसंद करती हूँ.

मुझको अब जाना होगा।पर मैंने उसकी बात सुन कर अनसुना कर दिया और उसे बिस्तर पर लिटा कर उस पर चढ़ कर उसको चूमने लगा, ममता ने अपने बदन को ढीला छोड़ दिया और मुझे कस कर बाँहों में जकड़ लिया।अब हम फिर एक-दूसरे को चूमने और सहलाने लगे। उसकी 36 साइज की चूचियों को मुँह में लेकर बच्चों की तरह चूसने लगा।ममता के मुँह से फिर से आवाजें निकलने लगीं- आआह राजी. लेकिन कभी भी उसको यह एहसास नहीं होने दिया कि मैं फिर से उसको चोदना चाहता हूँ।अपने ईमेल जरूर भेजिएगा।[emailprotected].

उसको मुस्कुराते देख मन करता था उसको ‘आई लव यू…’ बोल दूं उसके कदमों पर गिर के.

और मैं उसको और मजे देने के लिए उसकी चूत में उंगली करने लगा।कुछ ही पलों में मैंने सीधे दो उंगलियों से उसकी चूत को खोदने लगा।चूत के अन्दर मैं उसके जी-स्पॉट को सहलाने लगा. तभी मैं तुझे देखने आ गया और सालों कुत्तों मेरे फेंके टुकड़ों से पेट नहीं भरा क्या. बड़ी बेदर्दी से उसको मम्मों को दबाने लगा।पायल जल बिन मछली की तरह तड़प रही थी और अर्जुन उसको मसले जा रहा था।टोनी- उफ़ साला.

बीएफ की चुदाई बीएफ तो कभी मैं उसकी चूचियों को चूसता।एक हाथ से मैं उसके दूसरे चूचे को दबा रहा था. उसकी चूत बहुत टाईट थी।मैं उसके मम्मों को चूसने लगा और उसकी कमर पकड़ कर दबाव देकर ऊपर-नीचे करने लगा। फिर एक जोर का झटका देकर उसकी कमर को नीचे दबाया और अपना लण्ड जोर से ऊपर उचकाया.

इसलिए बिना पूरा भरोसा हुए किसी को प्रपोज करना बड़ी समस्या थी।मेरे घर से लगा हुआ ही एक परिवार और रहता था. फिर तो हम दोनों रोज़ बात करते थे। क़रीब एक हफ़्ते के बाद उसने पूछा- एयरपोर्ट पर अन्दर क्या देख रहे थे?तो मैंने भी जवाब दिया- वो हैं ही इतने सुन्दर. उन्हें तो अपनी प्यास बुझानी थी।तेल मालिश की वजह से और पानी की वजह से हम दोनों चिकने हो गए थे जिस वजह से हम दोनों को मज़ा आ रहा था।हम इस तरह 7-8 मिनट तक चोदते रहे बाद में मैंने उसे खड़ा किया और उनका एक पाँव नल पर रखने को बोला और मुँह मेरी तरफ रखने को कहा।उन्होंने मेरे कहे मुताबिक किया.

नंगी मालिश

अब तो तेरी भाभी की गैरहाज़िरी में तुझे ही बुलाया करूँगा!’‘ठीक है भैया. वो थोड़ी देर के लिए अकड़ गईं और बोलीं- अब रहा नहीं जा रहा है श्याम मुझे चोद दे. जो मेन रोड पर था लेकर दे दिया।हम लोग वहीं रहने लगे। कुछ समय बाद मेरे ताऊ जी का लड़का दिनेश भी पढ़ने के लिए राजस्थान से दिल्ली आ गया और मेरे कमरे में जगह थी.

इस बहती हुए चूत में लौड़ा पेलकर इसकी प्यास बुझा दे।इसके बाद मेरा उससे कहना भर था- बस रानी एक बार मेरा लौड़ा अपने मुँह में लेकर चूस ले. तो देखा दीदी का एक पैर मेरी कमर पर था और उसकी नाइटी घुटनों तक उठी हुई थी। मैं पेट के बल लेटा हुआ था.

और खूब चोद-चोद कर खुश रखना। अभी के लिए मैं बिना तुम्हारा लण्ड लिए चली जाती हूँ.

मेरी पोर्न स्टोरी के पिछले भागमास्टर ज़ी ने मुझे चोद डाला-1में अब तक आपने पढ़ा. एनी ने पहले दोनों के लौड़े बड़े प्यार से चूस कर गीले किए उसके बाद सन्नी सीधा लेट गया और एनी उसके लौड़े पर बैठ कर चुदने लगी।जब लौड़ा चूत में सैट हो गया तो वो सन्नी पर लेट गई, पीछे से अर्जुन ने अपना मूसल उसकी गाण्ड में घुसा दिया।एनी- आऐईइ. 5 इंच का था।मैंने कहा- इतना बड़ा अन्दर कैसे जाएगा?तो बोला- इसकी चिंता तुम मत करो.

तो रेखा दीदी ने मना कर दिया।लेकिन एक दिन फिर रेखा दीदी ने मम्मी से बात की और बोला- यदि किसी को पता न चले. और तो और मेरा छोटू भी खड़ा हो गया था, तब भी मैंने अपना फोकस सिर्फ़ काम पर रखा था।जैसे ही हमारे अंग आपस में टच होते. लेकिन एक शख्स था जिसके बारे में अक्सर सोच सोच कर मैं मुट्ठ मारा करता था और वो थे मेरे ताऊ जी के लड़के संदीप.

पैंट ऊपर की और उसी कातिल मुस्कान से मुस्कराया।हमने गाड़ी स्टार्ट की और लड़की वालों के घर की तरफ गाडी दौड़ा दी।कहानी अभी बाकी है दोस्तो.

बीएफ वीडियो हिंदी आवाज: तब तक मैं भी काम खत्म कर लेता हूँ।मैं इशारा समझ गई इसलिए फटाक से बोली- बॉस, आपका प्लान क्या है?बॉस बोले- बहुत दिन हो गए. फिर आधा लंड मुँह में लेकर अन्दर बाहर करने लगी।‘रीता लगता है जीजा जी से बहुत सीखा है?’‘अरे एक दिन मैंने जीजा जी-जीजी को चुदाई करते देख लिया और जीजा जी को पता लग गया.

वो मेरे ऊपर आ गई और मेरा अंडरवियर निकाल दिया।मेरा 6 इंच का लंड फुँफकार मारता हुआ बाहर आ गया, वो बिल्कुल लाल और गुस्से में लग रहा था।पूनम बोली- इतना बड़ा. तो दूसरे हाथ से मैं उसकी चूत में उंगली कर रहा था।उसकी चूत गीली हो चुकी थी। उसने पैंटी भी नहीं पहन रखी थी। सो मेरी उंगली आसानी से सलवार के ऊपर से ही उसकी चूत में जा रही थी। वो बहुत जोर से आवाज कर रही थी।‘उन्नन्नन्न न्नह्हह. रात के करीब 1 बजे का समय रहा होगा कि अचानक मुझे महसूस हुआ कि कोई भारी भरकम वज़न मेरे ऊपर आकर गिर गया है.

उस दिन से हम लोग कुछ ज्यादा ही करीब आ गए।जैसे ही एक दिन उसने बताया कि वो भी लखनऊ से ही है.

सोनिका ने ढेर सारा योनिरस मेरे लंड पर छोड़ दिया और निढाल हो गई।मैंने भी जबरदस्त दस-पंद्रह झटके लगाए और अपना लावा उसकी चूत में छोड़ दिया और हम एक-दूसरे में समा गए। उसकी योनि मेरे लौड़े का संकुचन कर रही थी. जान मार ही डालोगे क्या?अब मैं उसकी टाँगों को कन्धों पर उठाकर तेज-तेज झटके मारने लगा।वो मारे जोश में मुझे गालियां देने लगी- आह्ह. पर मैं नहीं माना और जबरदस्ती उसको कमरे में ले गया। कमरे का दरवाजा बंद करके मैं उसको लेकर बिस्तर पर गया और उसका हाथ अपने हाथ में लेकर प्यार से बातें करने लगा।थोड़ी देर में वो नार्मल हो गई और शायद भूल गई कि वो मेरे साथ अकेले कमरे में है।साथियो.