हिंदी में बीएफ फिल्म ओपन

छवि स्रोत,राजस्थानी मारवाड़ी सेक्सी वीडियो बीपी

तस्वीर का शीर्षक ,

क्सक्सक्स सेक्स हिंदी: हिंदी में बीएफ फिल्म ओपन, उसने रमा का हाथ पकड़ उसे बिस्तर के बगल नीचे जमीन पर बिठा दिया और अपनी पैंट उतार रमा के मुँह में अपना लिंग डाल दिया.

राजस्थानी वीडियो सेक्सी सेक्स

उसकी निगाहें मुझे कुछ ऐसी लगती थीं, जैसे वो मुझसे कुछ कहना चाहती हो. लेडीस में सेक्सी वीडियोमैंने कहा- साली रंडी, यहां क्यूं बैठी हुई है? तुझे चुदना नहीं है क्या? चल साली बेडरूम के अंदर.

मैंने कहा- संगीता डार्लिंग, इतनी कमाल की चीज सिर्फ मुझे मिलनी चाहिए थी. सेक्सी भोजपुरी वीडियो दिखाओउठ कर मैंने मौसी की चूत पर एक किस किया और फिर मैंने उसकी टांगों को चौड़ी कर दिया और मौसी की चूत में लंड को डाल दिया.

रमा ने उसे धकेलने का प्रयास भी किया, पर कांतिलाल ने रमा की दोनों टांगें अपने कंधों पर रख कर उसके दोनों हाथ पकड़ लिए और धक्के देने लगा.हिंदी में बीएफ फिल्म ओपन: कुछ ही देर बाद हम दोनों सेक्स करते करते झड़ गए और कुछ देर के लिए शांत हो गए.

आगे से अमन ने मेरी बीवी का मुँह पकड़ा हुआ था और वो श्रुति के मुँह में लंड पेलने में लगा था.मुझे उसकी लय बनती हुई दिख रही थी और उसे देख मुझे भी फिर से कुछ कुछ होने लगा था.

सेक्सी वीडियो दिखाइए डाउनलोड - हिंदी में बीएफ फिल्म ओपन

जब मैं उधर गई, तो उन्हीं दिनों बुआ के यहां उनके कुछ और रिश्तेदार भी आए हुए थे.उसके बाद उसने धीरे से मेरी चूत में लंड को हिलाया तो मुझे फिर से दर्द हुआ.

दूसरी टांग मैंने खुद ही उठा कर उसकी कमर में रख दी ताकि धक्के अन्दर गहरायी तक जाएं और किसी तरह की रुकावट न हो. हिंदी में बीएफ फिल्म ओपन जैसे ही पेड़ के पीछे बैठती थी तो मैं समझ जाता था कि वो मूत कर रही है.

भाभी के बूब्स 36 इंच के थे, कमर 30 की थी और उनकी गांड तो इतनी बाहर को निकली हुई थी कि जो भी भाभी को एक बार देख भर ले, उसका लंड तुरंत खड़ा हो जाए.

हिंदी में बीएफ फिल्म ओपन?

तभी रवि ने मुझे पकड़ कर जमीन पर सीधा पीठ के बल लिटा दिया और मेरी टांगें फैलाता हुआ बीच में आने लगा. उसके बाद मैं दोबारा से लेट गया और पिंकी को ये पता नहीं चलने दिया कि मैंने उसको अपनी चूत में उंगली करते हुए देख लिया है. वापस आने के बाद हम फिर से एक साथ लेट गये और मैं उसकी चूचियों से खेलने लगा.

खाना खाने के बाद मैंने उससे धीमे स्वर में कहा- चलो कमरे में चलते हैं … मैं आज तुमको मलाई का टेस्ट करवाता हूँ. राज की चाची ने आसमानी रंग की स्कर्ट पहनी हुई थी और हल्के पीले रंग का टॉप पहन रखा था. मेरी देसी सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि कैसे मैंने अपनी बहन की ससुराल में उसकी ननद की कुंवारी चूत की सील तोड़ी.

फिर कमरे में ला कर मैंने दीदी को पेनकिलर गोली दी, ताकि ज्यादा दर्द ना हो. वो कोई और नहीं बल्कि शोभा ही थी और मुझे और युक्ता को देख कर हंस रही थी. तभी दीदी ने मुझे रोकते हुए कहा- इसकी जरूरत नहीं है। अब मैंने ऑपरेशन करा लिया है.

वैसे तो चूत में धक्के मारते टाइम बूब्स ही मसलते हैं … किंतु मैं थोड़े अलग अंदाज में उनकी गांड मसल रहा था. एक दिन की बात है, उन्होंने मुझसे बोला- विशाल भैया, मुझे मार्किट जाना है क्या आप मुझे ले चलोगे?मैं बोला- हां क्यों नहीं भाभी … चलो.

करीब दस मिनट लंड चूसने के बाद मैंने परी को उठाया और उसे लिटा कर हम दोनों 69 की अवस्था में आ गए.

उसे सेक्स में ज्यादा दिलचस्पी तो थी लेकिन उसके फिगर से मुझे उसे चोदना कम अच्छा लगता है.

मैंने कहा- तुम मुझसे सामने से कुछ क्यों नहीं कह रही थी?वो बोली- मुझे शर्म आ रही थी और उधर कोई मेरे परिचित का भी निकल सकता था. उसका हाथ जैसे ही मेरे होंठों तक आया, तो मेरी सांसें तेज तेज चलने लगीं. उन दोनों से मेरी दोस्ती की एक खास वजह ये भी थी कि जिस कॉलेज में मैं पढ़ता था उसी में अरशी भी पढ़ती थी.

मैंने अपना सामान रूम में सैट कर दिया और भाभी के साथ बातें करता रहा. मेरे चूतड़ गठीले और काफी बड़े दिख रहे थे और टॉप ऐसा था, जिसकी गर्दन बहुत अधिक खुली थी और उसमें से मेरे एक तिहाई स्तन साफ़ दिख रहे थे. भाई को देख कर मुझे भी अपने मोबाइल में पोर्न देखने का मन किया तो मैं अपने मोबाइल में पोर्न देखने लगी.

अपनी बुर पर उगंली रखने की मेरी हिम्मत नहीं हो रही थी, कुछ करने की तो बात ही बहुत दूर की थी.

फिर मैंने उसकी भारी सी गांड में फंसी हुई छोटी सी जालीदार पैंटी को उसके कूल्हों के बीच से उंगली घुसाते हुए खींच दिया. देर ना करते हुए मैं तुरंत अपनी भांजी के बेड पर आ गया और उसके साथ लेट गया. यहाँ पर केवल मेरी जिंदगी की कहानियां ही आप नहीं पढ़ेंगे बल्कि हमारा पूरा ग्रुप है।अब आप सोच रहे होंगे कि सोनम रानी ये किस ग्रुप की बात कर रही है? तो मैं आपको बता दूं कि जब मैं अपने कॉलेज की पढ़ाई कर रही थी उस वक्त मेरे कॉलेज में मेरी पांच सहेलियां थीं.

शाम को घर के सब लोग भी वापस आने वाले थे इसलिए उनके आने से पहले हमने एक बार और ऊपर कमरे में आकर चुदाई कर ली।भाबी अब बहुत खुश नजर आ रही थी. प्रिया- तो तुम भी तो रात भर सेक्स चैट करते हो … कैसे रात को मेरी चूत चाटने की बात कर रहे थे. मुझे भाभी की गांड चोदते हुए काफी देर हो चुकी थी और अब मेरा माल भी निकलने वाला था.

मम्मी ने बताया कि उन्होंने मेरे खाने का इंतज़ाम शीमा के घर पर ही कर दिया है.

तीन चार मिनट तक लंड चूसने के बाद उन्होंने फट से मेरी साड़ी के पल्लू को खींचा और हटाने लगे. मैंने लंड को निकाल कर उसकी चूत पर सेट किया और अपने सुपाड़े को उसकी चूत की फांकों के बीच में लगा कर एक झटका मारा तो लंड उसकी चूत को फैलाता हुआ अंदर घुस गया.

हिंदी में बीएफ फिल्म ओपन तभी वो मेरी बुर को चाटने लगा, ऐसा लग रहा था कि वो मेरी बुर को चाटता ही रहे. जबी उसकी नजर धीरे से मेरे लंड पर पड़ी, तो उसने कहा कि ओ माय गॉड … तुम इतने बड़े से हथियार को मेरे छोटे से छेद में डालने की कोशिश कर रहे हो, पर तुम्हें तो इतना भी नहीं पता कि उसको कैसे डाला जाता है.

हिंदी में बीएफ फिल्म ओपन मैंने गौर किया कि वो बता तो स्कूटी के बारे में था, पर उसका पूरा ध्यान मेरी बीवी की तरफ था. मैं ऑफिस से करीब 6 बजे निकल कर अपनी कार से अपने रूम की तरफ जा रहा था.

एक सप्ताह तक मैं दिल्ली में ही रहा और मैं वहां पर खूब मौज मस्ती की.

लंड और चूत की फिल्म

मेरी भी शादी हो गयी है, लेकिन अब भी एक स्वप्न अधूरा ही रह गया कि कोई तो मेरे लंड को चूसे. जिस मकान में मैं रहता था उस मकान का मालिक एक बहुत बड़ा बिजनेसमैन था. मैं पांचों लड़कियों में से सबसे ज्यादा तेज तर्रार थी और बहुत ही चुलबुली थी.

मैं भी कोई आवाज नहीं कर रहा था क्योंकि साथ में ही बच्चे भी सो रहे थे. जैसे जैसे मैं जोर लगाती जा रही थी, वैसे वैसे मेरे पसीने छूटने लगे थे और मेरी योनि में झनझनाहट होने लगी थी. उसकी बात सुन अपने किरदार के हिसाब से हंसती हुई मैं उसके लिंग को मुँह में भर चूसने लगी.

अब मैं साराह की जांघों और चूत के अगल बगल में बड़ी तल्लीनता से चाट रहा था और साथ में मम्मों को भी दबा रहा था.

सारे कपड़े पहनने के बाद जब वो फर्श पर पड़े हुए अपने गीले कपड़े उठाने लगी तो मैं सरक कर खुद को अच्छी तरह छिपाने की कोशिश करने लगा और इस सुगबुगाहट में उसका ध्यान शायद मेरी तरफ चला गया. वो शरमाते हुए कहने लगी- सर, चूत के बारे में तो मालूम था लेकिन लंड के बारे में नहीं पता था इसलिए पूछा. आपको बुर्कानशीं भाभी की चुदाई की कहानी कैसी लगी अपने मेल जरूर कीजिएगा.

पहले तो मैंने नहीं उठाया, फिर डरते डरते कॉल उठाया, तो सामने नलिनी थी. मुठ मार कर मैं हमेशा यही सोचता कि पता नहीं किस दिन मेरा ये लंड चाची की चूत में घुसेगा. मैंने उनकी चीख पर ध्यान ही नहीं दिया और अपना बचा हुआ आधा लौड़ा दूसरे झटके में अन्दर घुसा दिया.

मेरा ध्यान बस अब उसकी चूत की रसीली फांकों के बारे में ही जा रहा था. उधर से उसका मैसेज आया- तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई मेरी बीवी के बारे में ऐसा बोलते हुए?दोस्तो, उस वक़्त सच में मेरी डर के मारे गांड फट गयी कि कहीं ये किसी से कोई शिकायत ना कर दे, इसलिए मैंने तुरंत उसे सॉरी का मैसेज किया.

मेरे लंड ने पानी छोड़ छोड़ कर मेरा अंडरवियर गीला कर दिया था लेकिन उससे बुरा हाल तो उसकी चूत को हो रहा था. प्रीति से अच्छी पहचान के वजह से कई बार मैं उसके घर भी जाया करता था और वो भी मुझे छोटा भाई कहकर अपने घर बुलाती थी. मम्मी बोलीं- बेटा बहुत दिन तक अगर चूत की चुदाई ना हो, तो चूत का मुँह चिपकने लगता है … इसलिए चूत टाईट हो गई है.

उसकी पतली कमर उफ्फ!हॉस्टल गर्ल का इतना सेक्सी बदन देखकर मेरा तो खड़ा हुआ जा रहा था.

फिर मैंने भी देर न करते हुए उसकी टांगों को चौड़ी किया और अपने लंड को उसकी गीली चूत पर रगड़ने लगा. मेरे दादा जी की तेहरवीं थी क्योंकि उनका देहांत हुए 10-12 दिन हो गये थे. राजेश का लंड पता नहीं खड़ा हुआ या नहीं लेकिन मेरे लंड को जैसे स्वर्ग सा आनंद मिल रहा था.

इधर राजशेखर ने अपनी अवस्था बदल ली थी और अब कविता उसका लिंग चूस रही थी. रवि का लिंग मुझे थोड़ा मोटा तो लग रहा था और जिस प्रकार से उसने झटका मारा था, मुझे उसका सुपारा मेरी योनि को भरपूर खोलते हुए भीतर घुस गया था.

फिर जीजा जी आ गये और रोज की चुदाई बंद हो गई लेकिन बीच-बीच में मौका निकाल कर मैं दीदी की चुदाई कर लेता था. डॉली की चूचियों को पीने के बाद मैंने उसको चुदने के लिए पूरा गर्म कर दिया था. दूसरे दिन जब मैं ऑफिस से घर आया था, तो मेरी बहन शाम के खाने का इंतजाम कर रही थी.

बूढ़ी बीएफ

तीनों ने बहुत जोर लगाया, पर किसी के लिए ऐसी अवस्था में पेशाब करना संभव नहीं था.

इसके बाद उसने मेरे वस्त्र को खींचते हुए मेरी टांगों के नीचे से निकाल कर मुझे बिल्कुल नंगा कर दिया. अब मैं उसके ब्लाउज को खोलने ही वाला था कि तभी मुझे लगा कि कोई हमें देख रहा है. वहां जाते ही हमने धीरे से दरवाजा बंद किया और एक दूसरे को बेतहाशा चूमने लगे.

लेकिन क्या करूं दोस्त … सॉरी ये मेरी पहली और सच्ची कहानी थी, तो मुझसे जैसा लिखा गया … मैंने लिख दिया है. मैं समझ गया कि भाबी का पानी छूट गया था। मैंने उनकी चुदाई थोड़ी और तेज कर दी और तब भाबी ने भी मेरा साथ देना शुरू कर दिया तथा अपने शरीर को मेरे धक्कों के साथ साथ हिलाने लगी। वह जोर जोर से आह्ह. मराठी व्हिडिओ सेक्सी मराठी व्हिडिओअब मैंने उसको उसके बिस्तर पर लिटा दिया और पूरा गाउन गले तक ऊपर करके उसके दूध चूसने लगा.

इसी वक्त पर उसने अपना लिंग का सुपाड़ा हल्के से धकेल कर मेरी योनि में घुसा दिया. चूंकि वो एक लड़की थी तो पुरुष के प्रजनन अंग के बारे में उसकी जिज्ञासा स्वाभाविक थी.

दो बार मॉम की चुदाई करने के बाद मैं सोने के लिए अपने कमरे में जाने लगा. मुझे डर लगने लगा कि कमरे की साफ सफाई के लिए जो भी आएगा, वो समझ जाएगा. उसने बोला- ऐसा क्यों?मैंने बोला- क्योंकि वो कमरा नजमी के कमरे से दूर है … और तुम्हारी अम्मी के कमरे से आवाज बाहर नहीं आती है.

उसने रमा की टांगों को चूमते हुए कंधों पर रखा और हाथ में थूक लगा कर अपने लिंग के सुपाड़े में मल लिया. मैं जन्नत के द्वार पर दस्तक दे रही थी और डॉक्टर साहब का लण्ड मेरे योनिद्वार पर. उसने पहली बार खुलासा किया कि उसने और कांतिलाल शुरुआत में कभी दो मर्द और कभी 2 औरत वाली संभोग क्रिया करते थे.

उसकी चूत में वीर्य को छोड़ कर जो आन्नद मुझे उस रात मिला वो मैं यहां पर बता नहीं सकता.

मैंने अपना लोअर उतार कर अपना लण्ड नमिता के मुँह में डालते हुए उसे चूसने को कहा. रिक्शे में उसने मेरे लंड पर अपना हाथ रख कर लंड के खड़े होने का अहसास किया.

तभी डॉक्टर साहब ने क्लीनिक का दरवाजा अन्दर से लॉक कर दिया और मेरे करीब आकर मेरा कुर्ता व ब्रा ऊपर उठाकर मेरी चूची चूसने लगे. चूंकि उन्होंने मुझे कुछ विशेष सुविधा दी थी, इसलिए मैं विरोध नहीं कर सकी. मैंने अपनी उंगली सीधी उसकी बुर में डाल दी उसने अपनी आंखें बंद कर लीं.

एक कमरे में मेरे मां और पापा सोते हैं और दूसरे में मैं और भाई सोते हैं. रवि का लिंग मैंने देखा भी नहीं था, पर झटके के अंदाज से ये साफ हो गया था कि उसका आकार क्या है और ताकत कितनी अधिक है. लेकिन बाद में रात में सोते हुए जब मुझे बहन का नंगा जिस्म याद आता है तो अपने ऊपर शर्मिंदगी भी होती है कि मैं ये क्या कर रहा हूँ.

हिंदी में बीएफ फिल्म ओपन मॉम की गांड चाटते चाटते बीच में मैं उनकी गांड में उंगली भी कर रहा था. कांतिलाल ने उसे चूमते हुए नंगा करना शुरू कर दिया और कुछ ही पलों में कविता बिलकुल नंगी बिस्तर पर थी.

एचडी में बीएफ हिंदी में

मैं दोबारा से उठ कर रसोई में गई और बिस्किट खोल कर प्लेट में रखने लगी. लेकिन मेरा लंड पूरा मेरी सगी बहन की बेटी की चूत में समा चुका था और उसकी सील टूट चुकी थी. मैंने उससे पूछा- तुम्हें और आगे पढ़ना है या शादी करनी है?वो बोली- मुझे आगे और पढ़ना है.

उसने अंतरा का एक दूध अपने मुँह में पूरा भर लिया था और जबरदस्त तरीके से चुसाई करने में लगा था. उसने मेरे हाथ से पैग लेते हुए बोला- मस्त है तू तो, कभी पहले नहीं दिखी, बाहर से आई है क्या?मैंने भी हां कहते हुए बोला- उत्तरप्रदेश से आई हूं. चिंटू पांडे का सेक्सी वीडियोउनके वजह से मुझे भी हवाई जहाज में सफर करने का आज अवसर मिलने वाला था.

उस दिन तो उनके दूध इतने बड़े लग रहे थे, जैसे मानो वो बाथरूम में खुद अपने दूध चूस कर बाहर आई हों.

इधर राजेश ने मुझे साफ-साफ कहा- समीर बात ये है कि वैसे तो हम दोनों ही पेड (पैसे लेने वाले) कपल हैं, मेरी वाइफ पैसे लेकर सेक्स करती है. अब हम गीले हो चुके थे, जिससे मेरे चूचे पूरी तरह से दिख रहे थे … शायद मेरे मम्मों को देखकर उसका लंड भी खड़ा हो गया था, जो उसके चड्डा में से अलग ही दिखने लगा था.

यह सेक्स कहानी मेरी शादी के एक साल बाद की है, तब मेरी बीवी अपने मायके कुछ महीनों के लिए गई हुई थी क्योंकि वो माँ बनने वाली थी. मैं उसके पास बैठा हुआ था लेकिन उससे बात करने की हिम्मत भी नहीं हो रही थी. आपको मेरी मस्तानी भाभी की चुदाई की सेक्स स्टोरी पसन्द आई या नहीं … प्लीज़ मुझे मेल जरूर करना.

इसलिए आज मैंने जब सफाई करके चूत को चिकनी करके लंड डाला तो लंड सट से अंदर सरक गया.

दोस्त ऑफिस में गया हुआ था इसलिए उसने तुरंत मेरी मंशा को समझ लिया और रूम की चाबी देने के लिए हां कर दी. अम्मा पहले तो चिल्लाईं और बोलने लगीं- उम्म्ह … अहह … हय … ओह … मर गई रे … आ … और जोर से … मजा आ रहा है … और जोर से घुसा अपना लंड मेरी गांड में … मार बेटा आज अपनी अम्मा की गांड मार … मजा आ रहा है मुझे … आह और जोर घुसा दे बेटा … और जोर से मार दे मेरी गांड … पूरी कर दे मेरी गांड ढीली बेटा … और जोर से चोद. अब मैं जोर जोर से उसकी गांड मारने लगा और वो भी कामुक आवाज निकाल रही थी.

चूत लंड की सेक्सी वीडियो हिंदीजैसे ही चूत में उंगली घुसी, युक्ता के मुंह से सी … सी … आह … की आवाज आने लगी और वो अपनी कमर को मरोड़ने लगी. मैं चाहा कि उन्हें चुपके से छुपा लूँ, पर कांतिलाल ने टोक दिया- क्यों छुपा रही हो सारिका जी, अब हम दोनों के बीच क्या शर्म और लज्जा …पता नहीं हम दोनों के बीच पति पत्नी जैसे संबंध भी बन चुके थे, पर बाकी और मित्रों की तरह हम आज भी एक दूसरे का नाम लेने के साथ जी जरूर लगाते थे.

हार्ड सेक्स ओपन

वो मेरे शरीर को देख कर पागल हो गई और कहने लगी- मैंने आज तक ऐसा शरीर नहीं देखा … तुम कितने सेक्सी दिखते हो. मैं अपनी भांजी से धीरे-धीरे बातें कर रहा था और पूछ रहा था- कैसा लग रहा है?वह चुदाई में मेरा साथ दे रही थी और बातों का मजा ले रही थी. कुछ औपचारिक बातें हुईं हम दोनों के बीच और मैं अगले दिन से अपने काम पर जाने लगा।शुरुआत के कुछ दिन तो ज्यादा बातचीत हम दोनों के बीच नहीं हुई लेकिन मेरा ध्यान काम में कम रहता था और पूरे समय मैं बस सोनू को ही देखता रहता था.

तो मैंने भी लपक कर उसकी चूत को पूरा मुँह में ले लिया।लगभग 10 मिनट तक दोनों इसी हालत में रहे तो मैंने कहा- इस बार पूरा रस मुँह में ही लेना. उसने भी मेरा साथ देते हुए अपने सिर को थोड़ा सा उठा लिया और मेरे हाथ में सिर रख कर मुझसे चिपक गई, फिर मैंने दूसरे हाथ से उसके चेहरे को ऊपर की तरफ उठाया और उसके गुलाबी होंठों पर अपने होंठों को रख दिया. रवि जब अपना लिंग धकेल रहा था, तो उसकी योनि में ऊपरी चमड़ी और पंखुड़ियां भीतर की ओर खिंची जा रही थीं, जिसकी वजह से निर्मला को तकलीफ हो रही थी.

जब मैं और मेरी पत्नी बातें करते थे, तो वह बार-बार मेरी तरफ देख कर मुस्कुराती रहती थी. मैं कुछ संयत हुई, तो वो फिर से हल्के हल्के से मेरी चूत में धक्के मारने लगा. अतः सुपारे से ज्यादा नहीं घुसा, जल्दी ही गांड में घुसा हुआ लंड भी निकल गया क्योंकि वह आगे पीछे धक्के न देकर अगल बगल में बार बार मूव कर रहा था और वह मुझे चित करने को जोर लगा रहा था.

मैंने उससे आखिरी बार कहा- प्लीज मुझे छोड़ दो … उम्म्ह … अहह … हय … ओह … मैं झड़ रही हूँ. मेरा मन कर रहा था कि मैं वहीं पर उसकी चूत के अंदर अपने लंड को घुसा दूं.

उसके बाद मैंने सोचा मैं खुद का ही नुकसान कर रहा हूँ, तो मैंने मुम्बई की एक कम्पनी में एरिया मैनेजर की जॉब ज्वाइन कर ली.

अब सुरेश जैसे ही मेरी बीवी की गांड में झटका देता, वैसे ही सामने से अमन का लंड मेरी बीवी के मुँह में और अन्दर चला जाता. सेक्सी वीडियो बहू और ससुरमेरे लंड ने पानी छोड़ छोड़ कर मेरा अंडरवियर गीला कर दिया था लेकिन उससे बुरा हाल तो उसकी चूत को हो रहा था. बुड्ढा वाला सेक्सी वीडियोमैं- टीना नींद नहीं आ रही क्या?टीना- हां!मैं- मैं तुमसे कुछ कहना चाहता हूं. मैं उनके साथ नहीं गया था। तो मम्मी आंटी को मेरा ध्यान रखने के लिए बोल के चली गई।अंकल भी अपने किसी बिजनेस के काम से बाहर गए हुए थे.

मैंने सोचा था कि उसकी कुँवारी चूत आज ही चोदने को मिल जायेगी लेकिन मेरे सारे सपने टूट गये।उस रात को मैंने अपनी साली को सोच कर दो बार मुठ मारी और अपनी वासना शांत कर ली.

उसी में उन्होंने मुझे भी आमंत्रण दिया और मुझे भी नए साल को यादगार मनाने की जिज्ञासा थी तो मैंने हां कह दी थी. अब तक आपने मेरी चोदाई कहानी के पहले भागमेरी पहली चोदाई कहानी-1में पढ़ा था कि रूबीना नाम की शादीशुदा लड़की से मैं दिल लगा बैठा था और उसको चोदना चाहता था. रवि ने अपने लिंग को सही दिशा दिखाते हुए लिंग का सुपारा मेरी योनि द्वार में प्रवेश करा दिया.

नज़मा तड़फ कर बोली- चाटो न भाईजान … क्यों रोक दिया?मैं- साली रंडी, भाई मत बोल … और कुछ बोल ले … नाम ले ले या जान बोल ले. मैंने उसकी पजामी के ऊपर से ही उसके चूतड़ों को दबाना और मसलना शुरू कर दिया. वैसे तो उसकी मां ने भी मुझे देख लिया था कि मैं उसी पर नज़र रखे हुए हूं लेकिन वो कुछ नहीं बोल रही थी.

हिंदी सेक्सीxxxxx

एक बार तो मैं घबरा गया … लेकिन मामी जगी नहीं थी शायद … इसलिए मैंने दोबारा से कोशिश करने के लिए सोचा. पहले मैंने उसकी ब्रा का हुक खोलकर उसके निप्पलों को अपने होंठों में दबा लिया और मम्मे मसलते हुए निप्पल चूसने लगा. फिर थोड़ी देर मैं आंटी के ऊपर ही लेटा रहा।मैं आंटी को किस करते हुए साइड में लेट गया और आंटी से बात करने लगा.

कांतिलाल भले कितना भी सहनशील क्यों न होता … मगर बाकी मर्दों की तरह उसकी भी एक सीमा थी और अब उससे बर्दाश्त करना मुश्किल था.

”पानी पीने में कौन चिल्लाता है?”दरअसल मैं किचन में पानी पीने ही गई थी तभी जीजू आ गये और वहीं किचन में … समझ रही हो ना?”हाँ दीदी, समझ रही हूँ.

मेरा लंड मैडम की चूत पर दस्तक दे रहा था, मैंने कोई जल्द बाजी नहीं की, मैं आराम से मैडम के होंठ चूसने लगा, उनके मुख में अपनी जीभ घुसाने लगा. मैंने जैसे ही उसकी कमर पर हाथ लगाया, मैं तो जैसे स्वर्ग में ही चला गया था. जिओचैट सेक्सी पिक्चरमैं भी पलट कर बिस्तर पर बैठ गई।मेरा पसीने से भीगा हुआ बदन देख कर अंकल बोले- अरे आज तो तूने बहुत मेहनत कर ली।मैं पास रखे टॉवल से अपने बदन के पसीने को पोंछने लगी.

वहां हम दोनों ने खाना खाया, पर अब भी सेक्स की कोई बात ही नहीं हो रही थी. कुछ मिनट तक ऐसे ही करने के बाद मैंने भाभी का ब्लाउज और पेटीकोट खोल दिया. मैं उन दोनों के साथ बैठा और बातों ही बातों में अनीता जी ने मुझे इशारा कर दिया कि आपके लिए ही सीमा जी को साथ लायी हूँ.

सोने के कारण गाउन तो मैं पहले ही निकाल चुकी थी, जिसकी वजह से मेरे स्तनों का अधिकांश हिस्सा दिख रहा था. सोते समय सीमा भाबी बोली- निखिल अगर रात में कोई प्रॉब्लम हो या किसी चीज की जरूरत पड़े तो मुझे उठा देना.

मैंने उससे कहा- अपूर्वा मैं तुम्हें बहुत पसंद करता हूं … तुम मुझे बहुत अच्छी बहुत हॉट और बहुत सेक्सी लगती हो … मैं तुम्हें चोदने के सपने देखता रहता हूँ.

मैंने पूछा- क्यों … क्या चींटियां काट रही थीं?वो समझ गई और मुस्कुरा कर बोली- हां. फिर उन्होंने खुद ही अपने हाथ से मेरे लंड को अपनी चूत के मुँह पर सैट किया और मुझे अन्दर पेलने को कहा. हम दोनों साथ में बैठे हुए थे तो वह अपने स्तनों पर बार बार हाथ लगाकर मेरी तरफ मुस्कुराते हुए देखती। उसकी नजरों से मुझे ऐसा प्रतीत हो रहा था जैसे यह मेरे लंड को अपनी चूत में लेना चाहती हो। मुझे लगा कि उस लड़की में कामुकता कूट कूट कर भरी हुई है.

पल्सर सेक्सी वीडियो पतिदेव 29 तारीख को ही निकल गए और कहा कि उन्हें आने में एक हफ्ता भी लग सकता है, उन्होंने ये भी कहा कि वे आने से पहले मुझे बता देंगे. वो मेरे लौड़े को हाथ में लेकर सहलाने लगी और मैं उसकी चुत को चाटने लगा.

उन चारों ने फिर से मदिरा पीनी शुरू की और अपनी अपनी पत्नियों के अगले दिन आने की बात कही. उसका लिंग आधा घुस चुका था कि तभी उसने वापस सुपाड़े तक लिंग खींच लिया और पूरी ताकत लगा कर उसने ऐसा धक्का मारा कि मैं चीख पड़ी. पहले तो ब्रा और कुर्ते के ऊपर से उसके दूध दबाए, फिर सलवार के अन्दर हाथ डाल कर बहन की चूत को मसलने लगा.

एक्स एक्स राजस्थानी सेक्सी

मुझे 12 से 14 मिनट लगे होंगे वाशरूम में … और शायद वो सब सुन रही थी. मैंने कहा- मैं भेनचोद भाई तो नहीं था … लेकिन बहन की चूत चोदने मिल गई, तो बहनचोद बन ही गया हूँ. टीना- भाई, ये तुम क्या बोल रहे हो, तुम्हारा दिमाग़ तो ठीक है?मैं- हां … पर क्या करूं … मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूँ.

मुझे लगा रमा खुद कुछ करवाना चाहती होगी, पर वहां कुछ लड़कियों से बात करने के बाद उसने मुझे एक कमरे में भेज दिया. मेरी कद काठी बहुत ही मस्त है, जिस कारण बहुत सी लड़कियां मुझ पर मरती भी हैं.

5 मिनट बाद वो भी मेरा पूरा साथ देने लगी, अचानक एक आवाज आई- उम्म्ह … अहह … हय … ओह … मैंने पलट कर देखा तो मेरा दोस्त शोभा की चूचियों को बाहर निकाल कर उसके निप्पल को जोर जोर से चूस रहा था.

योनि तक लिंग पहुंचते ही उसने लिंग का सुपारा मेरी योनि की छेद में टिका दिया. मौसी कहने लगी कि जब से मैंने तुमको छुआ है तब से ही मैं तुमसे चुदने के लिए बेचैन हो गई थी. मैंने फिर धीरे धीरे अपने झटकों की रफ्तार को बढ़ाया, तो आंटी की चीखें अब कामुक सिसकारियों में बदल गयी थीं.

मैं- चिंता मत कर कुतिया … मेरी रंडी … ले लंड ले … साली मां की लौड़ी अपनी चूत को बोल दे … अब लौड़ा घुसने वाला है. मुझसे रहा नहीं जा रहा था, तो मैंने उसे वीडियो कॉल किया और उसके सामने हस्तमैथुन करने लगी. अगले अंक में मैं सोनम आपको मेरी कहानी बताऊंगी कि कैसे मेरी जिन्दगी में चुदाई की शरूआत हुई.

मुझे धक्के देने में साथ ही ऐसा लग रहा था मानो वो स्वयं को जल्द पतन होने से रोक रहा था.

हिंदी में बीएफ फिल्म ओपन: जिस किसी का भी लिंग मूत्र निकलते हुए ढीला पड़ने लगेगा, वो हार जाएगा. मैं रूम पर पड़ा हुआ बोर हो रहा था तो मैंने सोचा कि क्यों न आज भाभी को फोन करके देखा जाये.

इससे डॉली की मादक सिसकारियां अब और तेज हो गई थीं ‘अहहह्ह्ह्ह … स्सीईईई … आहाहा. जब मैंने नीचे झांक कर देखा तो उसकी बुर से हल्का सा खून भी बाहर आ रहा था. उसने मेरा लंड चूसने से मना कर दिया था इसलिए एक कसक सी मन में रह गयी थी.

अब मैडम बेचैन हो गई, कहने लगी- बस अब बहुत खेल लिए, अब अपने शेर को मेरी गुफा में घुसा दो.

रवि ने धीरे धीरे लिंग को आगे पीछे करना शुरू किया और 20-30 धक्कों के बाद उसकी रफ्तार में तेज़ी दिखने लगी. आंटी- तो तुम नहीं गये?मैंने कहा- नहीं आंटी, मुझे कॉलेज के प्रोजेक्ट का कुछ काम है इसलिए मैं नहीं गया. मैंने अपनी टांगें चौड़ी कर लीं और वह मुझे चित करने के लिए पूरा जेार लगाए जा रहा था.