देहाती औरत के बीएफ सेक्सी

छवि स्रोत,क्सक्सक्स इंडियन मूवी

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ वीडियो भेजो सेक्सी: देहाती औरत के बीएफ सेक्सी, हां उसने सुमन को बता दिया कि उसने एक लड़की काम के लिए रखी है, जो वहां उसकी मदद करेगी.

ਸੈਕਸ ਕਿਵੇਂ ਕੀਤਾ ਜਾਂਦਾ ਹੈ

तुम्हारा विजयथोड़ी देर बाद जवाब आया:आपको देखकर कुछ कुछ हुआ तो मुझे भी था लेकिन समन्दर में पत्थर आपने अब मारा है. पंजाबी सेक्स चुदाईमेरे मन में लड्डू से फूट गये और मैं उतावला होकर जल्दी से तैयार हुआ और उसके घर पहुंच गया.

पैकेट को मुंह से फाड़कर कॉन्डम को खोला और मेरे डंडे जैसे सख्त लंड पर पहना दिया. ब्लू फिल्म एक्स एक्स एक्सउनकी चूत का रस स्वाद में थोड़ा ज्यादा ही नमकीन था, लेकिन मुझे बहुत अच्छा लगा.

होली सेक्स की कहानी में पढ़ें कि हम अपने ससुराल वाले गाँव में होली मनाने आये थे.देहाती औरत के बीएफ सेक्सी: उनकी चूचियों का साइज उनसे गले लगने तक नहीं पता था, पर आगे सब बताऊंगा.

वो सिसकारते हुए बोली- आह्ह … आह्ह … बहुत गर्म गर्म लग रहा है अंदर। तुम्हारा माल तो बहुत गर्म है नाहिद.फिर मैंने श्वेता से पूछा- कैसा लग रहा है मेरी बहन को?उसने बोला- उन्ह हूँ … भैया अब अच्छा लग रहा है … आप करते रहो.

देसी औरत की सेक्सी - देहाती औरत के बीएफ सेक्सी

सुमन- वो दरअसल बात ये है कि जा हम दोनों बस में आ रहे थे, तो यहां के रास्ते बहुत खराब थे.मैंने राहुल को काफी टाइम बाद देखा था, तो बस मैं उसे देखती ही रह गई.

हम दोनों की ही सांसें तेज हो रही थीं और सीमा जी के बोबे उनकी सांसों के साथ ऊपर नीचे हो रहे थे. देहाती औरत के बीएफ सेक्सी मेरे सामने अब विभा भाभी की लाल रंग की पैंटी थी, जिसके अन्दर की भाभी की चूत का उभार साफ़ महसूस हो रहा था.

बल्कि वो मुझसे नाराज हो जातीं तो मुझे उनको देखने का मौक़ा और खत्म हो जाता.

देहाती औरत के बीएफ सेक्सी?

मैंने तीन-चार धक्के पूरे जोश में लगाये और उसकी बुर में अपना माल छोड़ दिया. अमित बोला- मज़ा आया?मैंने मुस्कराते हुए कहा- बहुत!फिर वो दोनों हंसने लगे. तभी पारिज़ा नहाकर बाथरूम से बाहर आई और वो आईने में देखकर अपने बाल संवारने लगी.

करीब पांच मिनट बाद मैं खड़ा होकर दूसरे सोफे पर चला गया और अंकल ने इधर आकर अपनी बेटी पारिज़ा को सोफे पर घोड़ी बना दिया. जब मालिनी से रुका न गया तो वो बोल पड़ी- कोई मेरी तरफ भी देख लो!इस पर अंगिका का ध्यान थोड़ा मेरे ऊपर से हटा और वो हंसने लगी. इतनी कमसिन, भोली और मासूम सी दिखती थी कि दिल एक दिन में उस पर कई बार फिदा हो जाता था।मैं अक्सर उसके घर के सामने कभी चाय तो कभी सिगरेट पीने के बहाने ऑफिस से निकल जाता और उसके घर मे ताक झांक करता रहता था ताकि उसकी एक झलक मिल सके.

तू एक दिन में लंड से गांड नहीं मरा पाएगी, पहले तेरी गांड के छेद को लंड लेने लायक बड़ा करना होगा. मुझे कुछ समझ नहीं आया, मैं अपने आपको कोस रहा था कि क्यों मैंने इतना अच्छा मौका जाने दिया. मैंने पूछा- तुमने कबसे अपनी मां को नहीं चोदा है?वो बोला- मैं तो अपनी मां को रोज पेलता हूँ.

रात को 9 बजे कालू ने मुखिया को बता दिया कि पास के गांव में डॉक्टर को भेज दिया है. फिर उसने अपना पूरा बुर्का जब उतारा, तो मेरा लंड उसके जिस्म को देख कर पागल हो गया था … लंड ने ठुमकना शुरू कर दिया था.

फिर भी मेरा मन पढ़ाई की जगह मैडम की चुदाई के सपने देखने में लगा रहता था.

मैं- क्या पता वो तेरा इस्तेमाल कर रहा हो अपनी सेक्स की भूख मिटाने के लिए?रिया- अगर उसने यूज़ ही करना होता तो मुझे शादी से पहले भी कर सकता था.

मैं भी चुत के सारे रस को पी गया और अनवरी चाची की चुत को चाट चाट कर पूरा साफ़ कर दिया. सीमा जी ने अपना पूरा मुँह खोल कर लंड को मुँह में ले लिया और जड़ तक अन्दर लेकर चूसने लगीं. मैंने संजू को बोला- आ जा रानी, तेरे को तो मैं आज बिना बुक के ही पढ़ा दूंगा.

फिर उसने कान में सुरसुराते हुए कहा- ज़्यादा टाइम नहीं है … मेरा शौहर उठ गया तो आफत आ जाएगी. तीन चार मिनट बाद मैं भी झड़ने को हुआ और मैंने पूछा- कहां निकालना है?वो बोली- मेरे अंदर ही झड़ जाओ, मुझे फील करना है. वो थोड़ी उचकी मगर मेरे हाथ उसके चूतड़ों पर थे तो मैंने उसको वापस दबा लिया.

इस तरह 10 मिनट में उनकी गांड थूक से पूरी तरह चिकनी हो चुकी थी और मैं उनके कूल्हों को पकड़ कर गांड को चोदने लगा.

अब मुकेश सर मेरी चुत चोद रहे थे और सुरजीत सर पीछे से मेरी गांड में झटके मारने में लगे थे. फिर उसने कान में सुरसुराते हुए कहा- ज़्यादा टाइम नहीं है … मेरा शौहर उठ गया तो आफत आ जाएगी. कोलकाता से हर दो तीन दिन में वो मुझे फोन कर लिया करती और मैसेज भी करती रहती.

जब तक तू अपनी चूत में किसी का मोटा लंड नहीं पिलवाएगी ये मुहांसे जाने वाले नहीं!’उनके मुंह से चूत लंड जैसे गंदे शब्द सुन के मुझे बहुत शर्म आती और उन पर गुस्सा भी बहुत आता. वकील साहब का कॉल खत्म हुआ और जैसे ही वो मुड़े तो मैं आगे देखने लगी. मैंने भी वादा किया और बोला- तुझे ऐसे ही रगड़ कर पेलता भी रहूंगा मेरी बहना.

इस पर मैं बोला- अच्छा तो इसलिए जल्दी जल्दी सोनिया के घर जाती रहती है तू? मैं तो सोचता था कि मेरी बहन बड़ी सीधी है.

एक ही धक्के में उन्होंने पूरा लंड मां की चूत में पेल दिया और उनको चोदना शुरू कर दिया. मैं तो सोचता ही रह गया कि ये ख्वाब है या हकीकत! प्रेरणा भाभी मुझे चढ़े दिन लाइन दे रही थी.

देहाती औरत के बीएफ सेक्सी उस आदमी के जाने के बाद मैंने फिर से उसके होंठों को पकड़ लिया और उसकी जांघ को सहलाते हुए उसकी चूत तक हाथ ले गया. फिर क्या हुआ?नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम आरव है और मेरी उम्र 32 साल है.

देहाती औरत के बीएफ सेक्सी जिसके चलते कृतिका दीदी को जब भी अपने फोन में कोई दिक्कत आती थी, वो मुझसे बोल देतीं और मैं उनके फोन को मिनटों में सही कर देता था. रात ग्यारह बजे के करीब जब मुहल्ले के सब घरों की लाइट ऑफ हो गई तो मनीषा व उसकी मम्मी दबे पांव मेरे घर आ गईं.

उन्होंने कहा- वो क्या है?मैंने कहा- एक घंटे में सब आपके सामने होगा.

बीपी वीडियो राजस्थानी

एक बार जब मैं उसके साथ स्लीपर बस में दिल्ली से जम्मू आ रहा था तो मैंने उसके बदन को सहलाना शुरू कर दिया. मेरा लौड़ा सोच सोच कर ही पागल होने लगा कि ये तो अभी से चुदने के लिए तैयार है. मैं आंखें बंद करके अपने मम्मों को मसलते हुए ऊपर नीचे गांड हिलाते हुए खुद को ही चोद रही थी.

गीता- आह काका आह … अब बर्दाश्त नहीं होता, आप बस डाल दो अपना लंड मेरी चुत में … उफ्फ आह. वो अब तक 5 बार झड़ चुकी थी। अब वो भी बहुत थक चुकी थी और कहने लगी कि अब बर्दाश्त नहीं हो रहा है. मैं- सीमा डार्लिंग … तेरी मां को चोदूं … बहन की लौड़ी … चल अब घोड़ी बन जा.

इसका कारण कुछ इस तरह से शुरू हुआ कि जब मैं पढ़ता था … तब एक टीचर साड़ी पहन कर आती थीं.

विनी से जल्दी ही मेरी दोस्ती हो गयी और हम दोनों साथ ही रहतीं, एक ही रूम में बेड पर साथ में सोतीं थीं. उसकी चूत पर मैंने अपने लंड का सुपारा सेट कर दिया और एक जोर का धक्का मार डाला. फिर उसने मुझे पेट के बल लेटा दिया और मेरी सारी कमर पर जीभ फिराने लगा.

उस परिवार में मेरे अंकल (56), आँटी (53), भैया (38), भाभी (35) और दीदी (28) हैं. वो मेरे पास आया और उसने पूछा- कोई परेशानी?मैंने उसे बताया, तो उसने दरवाजे को धक्का दिया और अन्दर आ गया. जब मैंने नीचे की ओर झुक कर उसका चेहरा देखने की कोशिश की तो देखा कि उसका पूरा चेहरा लाल हो गया था.

मुझसे बोले- एक बार तो हमारे साथ कर ही चुकी हो, इनके साथ भी कर लो तो कुछ हर्ज नहीं होगा. उसके तने हुए मम्मों पर से मुखिया जी की हरामी नजरें हटने को राजी नहीं थीं.

मेरा साथ देते हुए अब वह भी पीछे की ओर धक्के मारने लगी। काफी उसकी गांड मारने के बाद मेरा पानी उसकी गांड में ही छूट गया।मैं भी बुरी तरह से थक गया था. मैंने कहा- निशु कुछ तो बोलो?वो अपनी जगह से उठी और एकदम से मेरे गले लग गई और 10 से 15 सेकेंड तक लगी रही और फिर मेरे कान में कहा- आई लव यू टू विराट. नीचे चाची खड़ी थीं, उन्होंने देख लिया था कि मैं उनकी ब्रा का साइज देख रहा हूं.

इससे वो बेहद गर्म होने लगी और उसकी चूत का रस, रसमलाई को पूरी तरह भिगोते हुए नीचे टपकने लगा.

उसके मुँह से ये सुनकर मुझमे हिम्मत आ गई और मैं बोला- यार किसी को पता नहीं चलेगा. वो मस्ती में लंड चूसते हुए अम्म … आह्ह … उम्म … मुच … आह्ह … पुच … पुच … की आवाज़ करते हुए लौड़े के रस को चूसने में लगी थी. लेकिन जब आगे की पढ़ाई के लिए हम दोनों ने अलग अलग कॉलेज में दाखिला लिया, तो हम एक दूसरे की कमी सी महसूस करने लगे.

मैं उसके सूट के कपड़े को पेट से हटाकर उसके नाजुक से पेट पर घुमाने लगा, जिसका अहसास उसकी ऊपर नीचे होती हुई छाती और बंद हुई आंखें भी बता रही थीं. यदि आकाश उसके साथ चुदाई के पूरे मजे ले रहा होता तो वो अभ्यस्त हो चुकी होती.

मन कर रहा था उसको इतनी चोदूं, इतनी चोदूं कि उसकी चूत के चिथड़े उड़ा दूं. उसकी चूत पर लंड लगाकर मैंने अपना सारा भार उसके ऊपर डाल दिया और मेरा लंड उसकी चूत में उतरता चला गया. मैंने ये सुनते ही अपना लंड चूत पर सैट किया और बहुत तेज़ झटका दे मारा.

இந்தி பிஎஃப் வீடியோ

उसने पूछा- रस कहां डालूं?मैंने बोल दिया कि चुत भर दे मेरी … आह भर दे साले … तेरा माल अपनी गर्म चूत में लेना है मुझे … आह आह मैं भी गईई … आह आह.

मैंने धीरे से उसकी वो फिट लेग्गिंग नीचे सरका दी और उसकी पैंटी भी नीचे सरका दी. वो मेरे लंड को मुंह में लेकर चूसने लगी और मैं उसकी चूत में जीभ देकर चोदने लगा. मैंने उससे कह दिया कि अगर उसे पैसे चाहिएं तो मैं पैसे देने के लिए भी तैयार हूं मगर इस शनिवार की रात वो बस मेरी ही होगी.

मैंने अपनी उँगलियां उनके के लंड पर लपेट दीं पर वो पूरा हाथ में ही नहीं आ रहा था; मौसाजी का लंड इतना मोटा था कि उसको पकड़े हुए मैं अपनी उँगलियाँ आपस में मिला नहीं पा रही थी. मैंने भाभी के दोनों हाथ धीरे से उठाकर उन्हें अपने पेट पर लगाया और भाभी हाथ पीछे करके मेरे गले में हाथ डालकर मुझसे चिपक गयीं. सेक्सी बीपी राजस्थानीफिर अपने बाएं हाथ की इंडेक्स फिंगर और अंगूठे से मैंने अपनी योनि की फांकें खोल दीं और दायें हाथ की दो उंगलियाँ अपनी योनि में घुसा दीं और अंगूठे से पिंकी के मोती को सहलाने लगी.

जब वो झड़ गई … तो मैं अपने पति को बेडरूम लेकर गई और बेडरूम में काफी देर तक अपने पति से चुदवा कर खुद को शांत किया. सुबह जब मैं उठा तो देखा कि सुबह के 4 बज रहे हैं तो मैंने भाभी को जगाया कि वो अपना दरवाजा बंद कर लें क्योंकि मैं अपने घर जा रहा हूँ.

चाची सेक्स स्टोरीज इन हिंदी में पढ़ें कि मैं अपनी विधवा चाची के सेक्सी जिस्म को भोगना चाहता था. इस बार उसकी चूत की सील टूट चुकी थी और वह फूट-फूटकर रोने लगी- उई अम्मी … मार दिया … ऊई ऊई … आईई … ओ गॉड … हेल्प मी।उसकी चूत से खून बह रहा था. मुझे जब भी उसे देखने का मौका मिलता तो मैं उसे जरूर देखता था नहाते हुए.

ये कहकर मैंने उसके होंठों पर होंठ रखकर चूसते हुए एक आखिरी झटका मारा और पूरा लंड अन्दर कर दिया. मैंने उसे इशारा किया तो वो बाथरूम में चली गई और बाजार से खरीदी हुई पैंटी व बेबीडॉल मैक्सी पहन कर आ गई. मैंने इस बार अपनी जीभ से उसकी चूत के चारों तरफ का रस चाट कर साफ किया … और उसके बाद उसकी क्लिट के ऊपर जीभ लगाकर चूसने लगा.

आज मेरी बहुत दिनों की तमन्ना पूरी होने जा रही थी कि जिस चीज को मैं देखने के लिए इतना इंतजार कर रहा था, आज वह मेरे सामने नंगी पड़ी थी.

मेरा वीर्यपात करीब ही था और तभी कुछ देर बाद मेरे लंड ने कई जबरदस्त पिचकारियाँ छोड़ीं जो भाभी के हलक में जाकर गिरीं. जैसे जैसे वक़्त बीत रहा था, मुझे सामने लगी दीवार घड़ी की सुई की आवाज़ और उसकी धड़कनें साफ सुनाई दे रही थीं.

मैंने मनीषा की मम्मी से कहा- मैं उस कमरे में सोता हूँ, यह कमरा खाली ही रहता है, मनीषा को इसी में लिटा दीजिए, आप भी चाहें तो इसी में रूक जाइये. मैंने आज तक बहुत चूत का स्वाद चखा था, लेकिन जो मजा महक की चूत में था, वो किसी और में नहीं था. मगर मेरे पति मेरी इज्जत को लेकर इतने अधिक सम्वेदनशील हैं कि मुझे अपनी ही सोच पर चिढ़ आने लगी.

उन्होंने फव्वारा चालू किया और हम लोग एक दूसरे के शरीर से खेलते हुए नहाने लगे. लंड धीरे-धीरे अंदर घुसने लगा। जैसे ही लंड का टोपा अंदर घुसा वो चिहुंक उठी और आगे की ओर खिसक गई. मेरे एक चूचे को उसने मुंह में भर लिया और दूसरे को हाथ से कसकर दबाने लगा.

देहाती औरत के बीएफ सेक्सी कुछ देर बाद राज ने मुझे घोड़ी बना दिया और मेरे पीछे आकर मुझे चोदने लगा. बल्कि दीदी की चुत में लंड की प्यास है, क्योंकि जब से दीदी ने अपने ब्वॉयफ्रेंड से ब्रेकअप किया था, तबसे शायद उन्हें अपनी चुत में खुजली हो रही थी.

త్రిబుల్ ఎక్స్ సెక్స్ ఫిలిం

यहां मैंने आपकी प्रोफाइल और फोटो देखी, तो सोचा आपसे थोड़ी बहुत गपशप करूं. मगर सुमन हर बार मुझसे हां कहलवाने के लिए दबाव देकर यही सवाल पूछा करती थी. मैं- जी … आपने रुकने दिया उसके लिए धन्यवाद … लेकिन क्षमा कीजिए क्या मैं जान सकता हूँ कि आपका शुभ नाम क्या है?उसने कहा- आप नीचे गर्दन झुका कर क्यों बात कर रहे हो? वैसे मेरा नाम रुखसाना है, गर्दन उठाइए.

वो मुस्कुरा कर बोलीं- क्यों जुगाड़ दिख गई क्या?मैंने हंसते हुए एक तरफ इशारा किया. वो बोली- तुम कल कह रहे थे कि तुम मुझे बताओगे कि सुहागरात में कैसे करोगे?मैं बोला- चलो, हम करके ही देख लेते हैं. मारवाड़ी एक्सफिर रिया ने अपनी चूत को उसके मुंह पर सटा दिया और उसके सिर को पकड़ कर उसके मुंह में मूतने लगी.

पारिज़ा की मादक आवाज के साथ ही मैं उसके दोनों कबूतरों को सहलाने लगा.

अन्दर घुसते ही एक चौक, फिर दो नीचे कमरे, ऊपर छत पर भी शायद एक कमरा था … नीचे किचन … किचन के पास से ऊपर को जाती हुई सीढ़ियां. फिर मेरे हाथ को पकड़ कर अपनी साड़ी के ऊपर से अपनी हिंदी चूत पर फिराते हुए बोली- और हमसे भी ज्यादा इसको ‘आपके उसका’ इंतजार है.

ना ही तो सोशल मीडिया का मुझे कोई ज्ञान था और ना ही मेरे पास कोई ज्ञान देने वाला था. फिर मैंने उसे खड़ा किया और अपनी गोद में उठा कर उसके नितम्बों को पकड़ कर दबाने लगा. कमरे में पूजा अपने घूंघट के साथ फूलों से सजे बिस्तर पर विराजमान थी। रिवाज निभाने के कारण मनोज दूध ग्रहण कर चुका था.

मुनिया ने पीले रंग का चनिया चोली पहनी हुई थी, इस ड्रेस में वो बड़ी ही कामुक लग रही थी.

अरुण ने बहुत ही प्यार से मेरी बहन की चूत पर लंड को फिराया और फिर मस्त तरीके से उसकी चूत में लंड सरका दिया. मैंने उनको गले से लगाया और पीछे हाथ ले जाकर धीरे से उनकी ब्रा का हुक खोलने लगा. पीछे से उसकी पीठ पर हाथ रखकर दूसरे हाथ से लंड को उसकी चूत के मुँह पर लगाया और चोदने को तैयार हो गया.

हिंदी मूवी अंदाजकई दिन तक मैं टालती रही लेकिन फिर जब वो पीछे ही पड़ी रही तो मैंने हां कह दिया. वो पल जब उसके नाज़ुक से हाथ मेरे होंठों से टकराए … एक बड़ा ही सुखद अहसास सा था.

चुदाई वाली फिल्में

मैं अभी कुछ सोच पाती कि उसके पहले ही रोहन ने फिर से जोर का धक्का मार दिया. फिर मैंने कहा- तुम्हारा पति?वो बोली- वो तो दुबई में जॉब करता है और 2 महीने में एक दो दिन के लिए घर आता है. मुझे लगा कि मेरी चूत की मांसपेशियां अधिकतम सीमा तक खिंच कर टूट चुकी हैं और चूत फट चुकी है.

मनीषा के बगल में लेटकर मैंने उसकी टीशर्ट उतार दी, उसने ब्रा नहीं पहनी थीं. वो समझ चुका था कि मेरी चुत में पानी आ गया है तो मैं उसे लंड पेलने से मना नहीं करूंगी. अपनी जीभ और होंठों से भाभी मेरे लंड को पूरा ऊपर नीचे करते हुए चूस रही थीं.

उसकी स्थिति भी कमोवेश मेरे जैसी ही थी जितना मजा मैंने लंड चुसवाने में लिया था, लगभग उतना मजा उसे भी चुत चुसवाने में आ रहा था. मैं बिस्तर पर आकर बैठ गया और मन ही मन ये सोच रहा था कि मेहमान होकर मैंने मर्यादा भंग की है. मुझे भी लंड की जरूरत थी, तो मैंने भी राज के लंड को अपने हाथ से हिलाना चालू कर दिया.

मैं बोला- पहले नहीं चुदी हो क्या?उसने कहा- अपने एक्स बॉयफ्रेंड से चुदी थी दो-तीन बार. फिर मैंने लेटे हुए नीचे से अपनी गांड हिलानी शुरू की और मेरा लंड उसकी चूत में अंदर बाहर होने लगा.

तभी दरवाजे पर से एक आवाज आई- ये क्या हो रहा है?हमने देखा तो एक आदमी सामने खड़ा था.

बंगाल वाली लड़कियां किसी फैमिली में बच्चों और एक बुजुर्ग माता की देखभाल किया करती थीं और 2 घंटे पार्लर में काम करती थीं. भोजपुरी ब्लू सेक्सी वीडियोउसने अलग होना चाहा लेकिन मैंने उसे कमर से पकड़ लिया। मैं उसकी पीठ को चूमने लगा और उसकी चूचियों को जोर जोर से भींचने लगा. ब्लू पिक्चर सेक्स ब्लूअपने लण्ड पर कोल्ड क्रीम चुपड़ कर मैंने अपने लण्ड का सुपारा मनीषा की चूत के मुखद्वार पर रख दिया. मैंने पूछा- क्या हुआ डार्लिंग … फट गई क्या!तब चाची बोलीं- अरे फटी को क्या फाड़ेगा … मुझे कुछ नहीं हुआ है.

मेरा लंड अंगिका की चूत में लगातार कोल्हू के बैल की तरह पिलाई कर रहा था और अब मैं मालिनी की चूत को अपनी जीभ से चाट रहा था.

इसके बाद उसने मुझसे पूछा कि मैं इस शादी के लिए खुश हूं या नहीं या मेरा कहीं कोई अफेयर तो नहीं चल रहा है. मेरा हथियार भी काफी लंबा है, जो लड़कियों को पूर्ण रूप से संतृष्ट कर सकता है. कुछ देर तक चूत चोदने के बाद वकील ने अपने लंड पर थूका और कुछ थूक मेरी गांड के छेद पर लगाया.

मस्त सेक्सी भाभी को मैंने वहीं सोफे पर गिरा लिया और उनके सीने में मुंह देकर उनके बदन की खुशबू लेने लगा. एक दिन उसने मुझसे मिलने के लिए बोला तो हम दोनों ने 25 दिसंबर को मिलने का तय किया. मैंने कहा- तुली मैं तुझे अपनी बेटी मानता हूं और तुम मेरा लौड़ा लेना चाहती हो.

देहाती लड़कियों की चुदाई

मैं इस बात का ध्यान रखता था कि उसका कहीं किसी लड़के के साथ कोई चक्कर तो नहीं चल रहा है. इधर मैं लंड हिलाता हुआ ख्यालों में अपनी हॉट बीवी की चुदाई करता रहता था. उनकी आंखों में चुदाई की वासना देख कर मैं बोला- अब खेल चालू करते हैं.

चुदना तो वो भी चाहती थी लेकिन पूरे नखरे के साथ।तभी मैंने उसकी बायीं टाँग घुटने से पकड़ कर अलग कर दी और लण्ड जो बहुत टाइम से अंजू की गुफा का वेट कर रहा था अब मंजिल के करीब पहुंच गया था कि कब ये रस्ता दे और कब ये अंदर घुसे।मैंने अंजू को मनाया कि कुछ नहीं होगा, प्यार से करूँगा.

जिसे मैं इतने दिनों से पागल होकर ढूंढ रहा था, आज वो मेरे बगल में बैठी थी.

ये सुनते ही मैं खड़ा हो गया और महक को कसकर अपनी बांहों में जकड़ लिया. कालू- वो मैं बाबूजी को ले आया हूँ सरकार … इसलिए आपसे मिलवाने ले आया. سیکسی ویڈیو سیکسیउसको देखकर कोई ये नहीं बता सकता था कि उनकी उम्र क्या होगी? मगर अभी तक उनको एक भी बच्चा नहीं था.

अब मेरे अंदर भी सेक्स की आग बढ़ती जा रही थी और मैंने भी उसके लंड पर हाथ रख दिया. पापा अपनी ड्यूटी पर दिल्ली चले गए थेदीदी को याद करके दो दिन बाद शाम के समय चाची रोने लगीं. दूसरे आदमी ने कहा- आपका इतना करारा बदन है, आप कैसे एक झोल्टू आदमी के पल्ले बंध गई हैं?तीसरे ने कहा- खैर छोड़िये, आप एक बार हिरोईन बन जाइये, फिर तो आप की ऐश ही ऐश है.

तभी सुरजीत सर ने लंड से पिचकारियां देनी शुरू कर दीं और वो झड़ कर मेरे ऊपर ही ढेर हो गए. मेरी गर्म चूत की देसी चुदाई कहानी के पिछले भागगाँव के मुखिया जी की वासना- 4में आपने अब तक पढ़ा था कि गांव के महामादरचोद मुखिया जीवन परसाद आज अपनी कामवाली सन्नो की ननद मुनिया की जवानी का स्वाद चखने वाले थे कि तभी उसका नौकर कालू ये बताने आ गया कि डॉक्टर सुरेश की मदमस्त बीवी सजी धजी मुखिया जी को बुला रही है.

चाची ने अन्दर से आवाज दी- अभी तो घुसी हूं… रुको, मुझे थोड़ा टाइम लगेगा.

आप मुझे मैसेज करके अपनी राय दें कि आपको मेरी हॉट टीचर सेक्स स्टोरी कैसे लगी?आपकी टीना. फिर मैं अंजू को उसके रूम पर छोड़कर जम्मू चला गया। जब मैं जम्मू से वापस आया तब उसके पास गया. वो सरपट मुझे पेले जा रहा था और मेरी सिसकारियां आह्ह … ऊह्ह … आई … आह्ह … ओह्हह … करके सारे घर में गूंजने लगीं.

सुहाग रात कीचुराई मैंने उसको समझाया कि जब पहली बार सम्भोग किया जाता है तो ऐसा ही होता है। मैंने बताया कि अब इसके बाद दोबारा सेक्स करते हुए कोई दर्द नहीं होगा, केवल मज़ा ही मज़ा मिलेगा।हम दोनों ने उसके बाद 2 बार और धक्का-पेल चुदाई की. तभी भाभी मेरे सामने आ गई और बोली- विशु, क्या मैं तेरा लंड चूस सकती हूँ?ये बोल कर वो घुटनों के बल बैठ गई और पलक झपकते ही उन्होंने मेरे लंड को अपने मुँह में भर लिया और लॉलीपॉप के जैसे चूसने लगी.

मैंने उसको कहा कि तुम अपने बूब्स को दोनों हाथों से पकड़ो और एक दूसरे बूब्स को आपस में मिलाओ. ये जानकर भाभी ने मुझे फिर प्रेरणा भाभी की पूरी स्टोरी बताई और बोली- मैं समझ गयी कि ये सब क्यों हुआ। दरअसल प्रेरणा का पति एक नपुंसक इंसान है और उसका लंड खड़ा नहीं होता है. साथ ही मैं अपना एक हाथ नीचे ले जाते हुए पेटीकोट के ऊपर से ही बहू की चूत को मसल दिया.

सेक्स भाभी विडिओ

आप हम दोनों सिर्फ नीचे से लंड चुत को ढकने वाले कपड़े ही पहने हुए थे. अब आगे की माँ बेटे की चोदाई कहानी:कुछ पल तक मैं उसकी चूचियों को अपने सीने से सटाये रहा और मज़ा लेता रहा. मेरी गन्दा सेक्स की कहानी आपको कैसी लगी मुझे अपने ईमेल के जरिये जरूर बतायें.

मगर मेरे लिये किसी गैर मर्द के पास एक पूरी रात बिताना बहुत बड़ी बात थी. मनीषा लण्ड लेने के लिए बेताब हो रही थी लेकिन मैं उसे यौनेच्छा के चरम तक ले जाना चाहता था.

मैंने बोला- आह्ह … जान … बहुत टाइट चूत है तुम्हारी, मज़ा आ गया बेबी। आकाश नामर्द ही है साला, वो दो साल में तुम्हारी चूत भी ढीली नहीं कर पाया.

मगर सुहागरात की कहानियां जन समुदाय में बहुत ही कम प्रसारित होती हैं. मैंने धीरे से उनकी पैन्टी की इलास्टिक में उंगलियां फंसा दीं और उसको खींचते हुए नीचे सरकाया. मैं आशा करता हूँ कि आप मेरी कहानी को पसंद करेंगे और मुझे प्रोत्साहित करेंगे.

चूत चटवाने से चाची और भी मस्त हो गईं और मेरे सर को अपनी चूत में दबाने लगीं. मेरी चूत की प्यास तो आप ही मिटाते हो … और आपके डंडे जैसा इतना लंबा और मोटा मूसल मुझे कहां मिलेगा. जब भी कृति नहीं होती थी वो मेरी चूत में लंड डाल देता था और मैं चुदने का मजा लेती थी.

हालांकि मेरी दूसरी बार इस बात को कहने से दीदी कुछ ज्यादा नाराज हो गई थी और कुछ दिनों तक उन्होंने मुझसे बात भी नहीं की.

देहाती औरत के बीएफ सेक्सी: फिर दो मिनट के बाद उसने आंखें खोलने को कहा तो मैंने अपनी आंखों से हाथों को हटाया. बॉस मेरी ओर देखने लगे और पूछा- कोई ज़रूरी काम है?बहाना बनात हुए मैंने कहा- एक मित्र को चाय की दुकान पर बैठने के लिए बोल कर आया हूं, उससे फ्री होकर आता हूं।बॉस बोले- ठीक है, मगर तुम्हारा मोबाइल क्यों बंद है?मैंने कहा- बैट्री खत्म हो गई थी.

वो हवस भरी निगाह से देखते हुए मुस्करा दिया और बोला- अच्छा तो फिर कर लो सौदा. थोड़ी देर बाद मैंने कल्पना में उसकी चुत पर अपना लंड रगड़ा, तो तुली और सेक्सी हो गई और बोली- आह पापा पीछे से पूरा लौड़ा अन्दर डाल दो. उसने वैसा ही किया, तब मैंने अपना अंगूठा 4-5 बार अन्दर बाहर किया और एक झटके में बाहर निकाला, तो पट से ऐसी आवाज आई, जैसे सोढ़ा की बोतल का ढक्कन खुलता है.

इस पर उसने तुरन्त खुल कर पूछा- सील पैक हो या चटक चुकी हो?उसका सवाल का जवाब मैंने जिस तरह दिया, मुझे खुद यकीन नहीं था कि मैं इस तरह से उसे उत्तर दूंगी.

मै भी शर्मिंदा हुई और उससे कहा- ठीक है, तुम तलाक का केस फाइल कर दो. हे भगवान् इतना बड़ा?मैंने उनके लंड को अपनी मुट्ठी में महसूस करते हुए सोचा. तब भी मन नहीं माना, तो मैंने भाभी की गांड के छेद में अपनी उंगली फिरा दी.