हिंदी बीएफ इंग्लिश फिल्म

छवि स्रोत,देहाती ओपन बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

हिजड़ो का सेक्सी फिल्म: हिंदी बीएफ इंग्लिश फिल्म, टी टी ने मुझे गोद से उतारा और बगल में बिठा दिया और बोला- तेरे को साथ लेकर गलती की, साले मादरचोद पूरा मजा खराब करेगा उंगली कर करके.

और भाई की बीएफ

फिर मैं रुका और एक मिनट बाद जैसे ही एक और धक्का लगाया, तो मेरा आधा लंड उसकी चूत में जा चुका था. भोजपुरी हिंदी बीएफ सेक्सी वीडियोशावर लेते हुए एक बार फिर से मैंने उसके लंड को चूस चूस कर खड़ा कर दिया.

एक दिन दादी की तबियत खराब होने से पापा थोड़ा उदास थे और मैं सो रहा था. बीएफ पिक्चर इंग्लिश बीएफ पिक्चरफिर हम दोनों के होंठ मिल गये और हम दोनों एक बार फिर से किस करने लगे.

मम्मी ने कहा- अपनी गर्मी किसी से निकलवा लो … या फिर हाथ से ही पंखा हिला कर गर्मी खत्म कर लो.हिंदी बीएफ इंग्लिश फिल्म: आप सब तो जानते हो कि इस मौसम में बारिश का कुछ भरोसा नहीं होता कि कब बादल बरसने लगें.

दीदी बोलीं- मुझे कुछ समझ में नहीं आ रहा है, तुम कोई प्लान बनाओ … मैं तुम्हारी हेल्प कर दूंगी लेकिन जो भी करना, बहुत सोच समझ कर करना.फिर आराम से हल्के हल्के घूंट चुसकने लगा और टीवी ऑन करके हिंदी न्यूज़ चैनल्स तलाशने लगा.

सेक्सी बीएफ वीडियो नया - हिंदी बीएफ इंग्लिश फिल्म

वह मेरी चूत मैं अपनी जीभ डाल कर चाटने लगा।अब सागर ने मुझे अपनी तरफ किया और मुझे हल्का सा उठाकर मेरी चूत में अपना लन्ड घुसा दिया.अब आगे की देसी चूत सेक्स कहानी:अपनी सास की चुदाई करने के बाद ठाकुर ने अपना लंगोट पहना, कपड़े उठाये और बाहर आकर अपने कमरे में आ गया.

कुछ देर बाद हम दोनों ने अपने कपड़े पहन लिए और मैं अपने रूम में आ गया. हिंदी बीएफ इंग्लिश फिल्म उसके ससुराल में वो अकेली औरत है, इसलिए वो लोग उसे एकदम देवी के तरह रखते हैं.

तब तक मैं छोटा कैमरा ले आया और माँ पापा के कमरे में लगा दिया।शाम को खाने के बाद माँ पापा सफर की थकन के कारण जल्दी ही सो गए.

हिंदी बीएफ इंग्लिश फिल्म?

अब वो घबरा रही थी क्यूंकि उसने बताया कि उसने आज तक ये सब कभी नहीं किया. लेकिन अबकी बार तो वह बहुत तेज स्पीड से चोद रहा था तो मुझे अबकी बार हल्का दर्द हो रहा था. मेरी मां को भी कभी कभी किसी मर्द के नीचे पिस जाने का मन करता था … पर वो डरती थीं कि कहीं कोई उनको परेशान न करने लगे.

मैंने पूछा- तेल किधर है?उसने उंगली से इशारा करते हुए कहा- वो सामने रखा है. बाद में उसे महसूस हुआ कि मैं साथ ही हूँ तो हम दोनों सामान्य बातें करते हुए चलने लगे. अब मैंने अपने लौड़े की रफ्तार बढ़ा दी और तेज़ी से अंदर-बाहर करने लगा।अब वो भी बहुत चुदासी हो गई थी और आह्ह … आह्ह … की कामुक और दर्द भरी सिसकारियों के साथ लंड लेने लगी।उसकी चूत टाइट थी जिससे मुझे पता चल रहा था कि वो ज्यादा नहीं चुदी थी।शायद उसके पति का लंड ज्यादा लम्बा मोटा नहीं होगा.

मैं मस्ती में लगभग 35 मिनट तक चुदती रही और फिर अचानक से मेरा बदन अकड़ गया. भाई और दादी के जागने तक मैं अरमान को खुद अपने हाथों से मम्मों का रस पिलाने लगी थी. फिर उसकी थोड़ी सी साड़ी हटा कर तेल लगा कर हल्के हाथों से मालिश करने लगा.

फिर उसने किसी से लड़ने झगड़ने कोर्ट कचहरी करने के बजाय खुद अपने पैरों पर खड़े होकर आने वाली संतान का भविष्य संवारने का फैसला किया. शिवांश तो रास्ते में ही सो गया था और मेरे कंधे पर सिर रख कर सोया हुआ था.

मैं उसके पीछे गया और लंड को चुत में डाल कर उसको जल्दी जल्दी चोदने लगा.

मैं उनको किस किया और फिर बाजी ने भी मुझे वापस किस किया।हम सुबह ही चुम्मा चाटी करने लगे.

उसने कहा कि जब मैं तुम्हें इतनी पसंद थी, तो आज तक कहा क्यों नहीं मुझे?मैंने कहा कि परसों तुम्हारा जन्मदिन है और यदि तुम मुझे मना कर देतीं … तो मैं वो दिन तुम्हारे साथ नहीं मना पाता इसलिए मैंने कुछ नहीं कहा. बुआ के पापा यानि मेरे पापा के चाचा ने पूछा- अब उसकी तबियत कैसी है क्या हुआ था?मैंने कहा- कुछ नहीं सिर दर्द था, तो मैंने गोली दे दी थी. जब वो मुझसे चिपकी, तो उसके 32 के आकार के बूब्स मेरे सीने से चिपक गए और मेरा लंड फन उठाने लगा.

वो भी अपना सीना उठाते हुए बोली- क्या तुमको भी मुझमे कुछ ख़ास दिखता है?मैंने कहा- कोई एकाध चीज खास हो, तो कहूँ, तुम्हारा तो सब कुछ ख़ास है. मैं अपने कपड़े उतारकर नहाने चली गई और नहाकर मैंने वही आगे से खुली वाली सेक्सी नाइटी को पहन लिया. तभी मैंने एक बार अपना पूरा मुँह खोला और अपनी पूरी जीभ बाहर निकाल कर भाभी की चूत को ऊपर से नीचे तक चाट लिया.

इससे मैं अपनी उंगलियों के स्पर्श से हेमा चाची की गांड के छेद को साफ महसूस कर पा रहा था.

दूसरा गिफ्ट मौका देख कर देने का था और वो एक बहुत ही ज्यादा सुंदर ब्लैक कलर का ब्रा और पैंटी का सैट था, जो उस पर सबसे ज्यादा अच्छा लगता. दो बजे जैसे ही कम्पाउंडर ने मेन गेट बंद किया, मैं पीछे वाले कमरे में पहुंच गया. दादी और छोटे भाई को बिना एसी के सोने में चल जाता है, तो वो लोग हॉल में सो गए.

खासकर रिश्तों में फैमिली सेक्स Xxx कहानी पढ़ना मुझे बहुत अच्छा लगता है. वो कभी कभी मेरी मां से मिलने आते थे लेकिन उनके बीच कोई सेक्स सम्बन्ध नहीं था. मैंने कहा- शायद उसका लंड मुझसे बड़ा है … उसकी बीवी को काफी मज़ा आता होगा.

मैंने आरिया के मम्मों की कुछ मिनट रगड़ाई की और लंड का पानी आरिया के मुँह पर छोड़ दिया.

उसने एक गिलास शराब डाली और मुझे दिया और कहा- चल जल्दी से इसे गटक जा. वो भिंच गयी और कहा- मुझे काम करने दो!पर मैंने अपना लण्ड उसकी गांड की गहराई तक घुसा दिया और पीछे से ही उसके दूध निचोड़ने लगा और पूछा- तो बहन तूने क्या सोचा है जो तुझे सुबह कहा था?पूर्वी ने कहा- भैया आप सही थे, मुझे भी अब पापा का लण्ड चाहिए.

हिंदी बीएफ इंग्लिश फिल्म चौरसिया जी के निधन के बाद उनके परिवार की मदद करते करते मैं और किरण आपस में काफी खुल गये थे. मैं गर्लफ्रेंड की चूत के क्लिटोरिस को सहलाने लगा तो वो पागल सी होने लगी और मेरे हाथ को रोकने लगी.

हिंदी बीएफ इंग्लिश फिल्म फिर 6 बजे शाम को फैक्ट्री से निकल कर जिया और मैं साथ में निकले और बस से लगभग 7 बजे तक जिया के रूम पर आ गए. थोड़ी देर बाद मैं रूम में गया, तो वो दोनों नशे की मस्ती में खूब हंस हंस कर बातें कर रही थीं.

उनकी नोक खड़ी हो गई और मैं चूची बुरी तरह दबा कर दूध निकालने की कोशिश करने लगा.

गर्ल्स पिक

भाभी की चूत बहुत ही मस्त थी … ये थोड़ी सी फूली हुई और बिल्कुल क्लीन शेव्ड थी. रुबैया के मुख से अब कामुक सिसकारियां निकलने लगीं।वो मस्ती में चुदवाने लगी. कुछ देर इंजॉय करने के बाद मैंने दारू पी क्योंकि वहां खुले आम चल रही थी.

अमन के लंड पर मैंने शहद लगाया तो अमन ने भी मेरी चुत पर शहद लगा दिया. गुड नाईट!”अगले दिन शाम को …अगले दिन मैं अपनी कॉन्फ्रेंस से फ्री होकर साढ़े चार बजे ही मंजुला के ऑफिस जा पहुंचा. जैसे ही मैं उठने लगा उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और बोली- कहां भाग रहे हो? तुम्हें क्या लगता है कि मैं तुम्हें ऐसे ही गलती पर जाने दूंगी.

मैंने पेटीकोट को थोडा़ ढीला ही बांधा था तो मेरी साडी़, पेटीकोट और पेन्टी एक इलास्टिक वाले पेन्ट की तरह मेरी कमर से नीचे सरकती चली गई.

मैंने उनसे पूछा- आप!वो मेरी बात काटकर, मुझे देखकर मुस्कुराते हुए बोलीं- हैरान मत होइए. वो नहा धो चुकी थी और धानी कलर की साड़ी में एकदम ताजा खिले गुलाब की तरह लग रही थी. इसी अनबन के बीच में तेरी माँ को चोद नहीं पा रहा।फिर पापा मुझे सॉरी सॉरी कहने लगे।तभी पूर्वी आगे आयी और बनकर कहा- भैया अगर आप भी मुझे चोदना चाहते हो तो चोद लो.

तो अचानक से बीवी की चूत चुदाई ना मिल पाने से मैं उससे नाराज हो गया और शनाज़ से बात करनी बंद कर दी. अपनी ग़र्म सांसों को वो मेरी मां की गर्दन पर पीछे से छोड़ता जा रहा था. रजक लाल ने रोहन को हाथ पकड़ कर बाथरूम में खींच लिया और उसे चूमने लगा.

मैं और लोगों की तरह झूठ नहीं बोलूंगा कि 9 या 10 इंच का है … जो सही है, वही बता रहा हूं. फिर मैंने जैसे ही लोशन जाँघों में लगाया तो वो बोली- बस इतना ही?बोल करके आंटी ने अपने दोनों पैरों को फैला दिया और मेरे हाथों को अपनी चूत में ले जाकर कहने लगी- यहां कौन करेगा?और वो अपने टॉवल को निकालकर पूरी तरह से नंगी हो गयी.

उसने एक भद्दी सी गाली दी और कहा कि वो अगले स्टेशन पर नीचे फेंक देगा मुझे. मैंने कहा- तो अपनी दीदी की बुर भी दिलवा दो न? मैं तुम्हारी दीदी की बुर में लंड को डालना चाहता हूं. उसे भी चुदाई का बहुत शौक था तो वो भी जब भी मौके मिले मेरा लंड पकड़ लेती थी और दिन में भी चुद लेती थी.

मैं धीरे धीरे पूरा लंड बाहर निकालता और फिर फुल स्पीड से मनजीत की चूत में धकेल देता.

उसके अलावा मेरी बाकी सहेलियों के साथ भी मैंने खूब मस्ती और मजा किया. बारिश में भीगता उसका गोरा जिस्म और उसके उभार देख कर मेरा लंड पानी के अंदर ही तंबू बना रहा था. मैं उसकी इस हरकत से एकदम से मीठी कराहें भरते हुए फिर से बोली- आह अक्षय मत सता यार … अब लौड़ा डाल दे.

उसका गोरा बदन तो मानो चमक रहा था। मैं ये नजारा देख कर अपने होश खो बैठा था. सेठानी मज़े करने लगी और पांच मिनट में झड़ गई।मगर कल्लू कहां रुकने वाला था.

अपनी चुदाई करवाती हुई छोटी बहन पर इस वक्त मुझे बहुत प्यार आ रहा था. कहानी पढ़ने और लंड हिलाने में मैं इतना खो गया कि मुझे ध्यान ही नहीं दिया कि छत पर कौन आ रहा है और कौन जा रहा है. पर कई बार मुझे लगा तुम्हारी भी मर्जी शामिल थी, ठीक बोल रहा हूं न मैं?मैंने कहा- हां.

कामसूत्र कंडोम

मैं जब भी प्रीति से उसकी तीसरी बेटी हनीप्रीत से मिलवाने की बात करता, वो टाल जाती.

क्योंकि उसे मालूम था कि कहीं फिर से मम्मी उसकी बात को हवा में उड़ा दें. और मुझे जो तुम्हारी आदत हो गई है, मेरे तीन दिन कैसे कटेंगे?”मैं कम्पनसेट कर दूंगी. मैं बीच में बैठा था। ब्रेक लगने पर वो बार बार मेरे ऊपर दब जाती थी तो उसकी चूचियां मेरी पीठ कर टच हो जाती थी। मुझे मजा आने लगा।थोड़ी दूर जाने के बाद मेरे भाई ने मुझे बताया कि ये तो मंजू है.

जब मैं उनके रूम में पंहुचा, तो पूजा आंटी पंजाबी ड्रेस में थीं और देव अंकल टी-शर्ट, जीन्स में थे. उसने बोला- पहले तुम बिना दरवाजा खटखटाए अन्दर घुस गए और सॉरी भी नहीं बोला. बीएफ बीएफ चूत लंडमैं- क्यों ऐसा क्या हुआ?संजय- वो कभी मेरे साथ कुछ करने के लिए तैयार ही नहीं होती.

कोई पंद्रह मिनट तक भीषण चुदाई करने के बाद अमन ने मुझे घोड़ी बना दिया. तभी एक अप्रत्याशित घटना हुई और बड़ी मम्मी का हाथ मेरे खड़े लंड पर चला गया.

तभी एकदम से वो भी मुझे पकड़ कर रोने लगा और सारी बात बताने लगा कि क्या हुआ था. अंदर घुस जाओ!मैंने एक तेज झटके में पूरा लंड अंदर डाला और उसके मुँह से आह… निकल गई।अब मैं उसे तेजी से चोद रहा था और वो भी उसके चूतड़ उठा कर मेरा साथ दे रही थी। 5 मिनट तक चोदने के बाद वो घोड़ी बन गई. सामने ही मां के रूम का दरवाजा खुला हुआ दिख रहा था जिसके अंदर सामने बेड था.

ठाकुर ने उससे नाम पूछा, तो लड़खड़ाती हुई आवाज में उसने नाम बताया- म्म. ये गर्लफ्रेंड बॉयफ्रेंड सेक्स कहानी मेरे एक फेसबुक फ्रेंड की है, जिसने मुझसे गुजारिश की थी कि मैं उसकी कहानी लिख कर अन्तर्वासना की ही एक अन्य साईट फ्री सेक्स कहानी पर पोस्ट करूं. उसकी बात मुझे समझ आई और अगले दिन से मैंने नॉर्मल रहने की कोशिश करना शुरू कर दी.

तब तक आकांक्षा बाइक के पास जा चुकी थी, लेकिन दर्द की वजह से उसकी चाल में अभी भी लंगड़ापन दिख रहा था.

वो शरमा भी नहीं रही थी बल्कि मेरी आंखों में आँखें डाल कर मुझे हवस भरी नजरों से देख रही थी. गांड पर हाथ मलते मलते मेरी उंगलियां हेमा चाची की गांड की लकीर के बीच में पहुंच गईं … जिन्हें मैं अन्दर तक डाल कर रगड़ रहा था.

मैं जान गया कि इसको मोटा दमदार लंड अच्छा लगता है और उसकी कमी है शायद इसके जीवन में।मैंने उसके पति का साइज़ पूछा तो उसने बताया कि आपके लंड से करीब 2 इंच छोटा है उनका. एक बार और करेंगे न अभी?”नहीं न देखो शिवांश जाग जाएगा और रोने लगेगा तो फिर आप ही संभालना इसे!” वो बोली और उसने शिवांश की तरफ करवट ले ली. जब अगली सुबह मेरी आंख खुली, तो संजय मेरे होंठों को चूम रहा था और अपने हाथ से मेरी चूची मसल रहा था.

हम दोनों के लंड और चूत पहले से हल्के गीले तो थे ही … तो उसने अपना लंड आसानी से फिर से मेरी चूत में डाल दिया और मुझे चोदने लगा. पर मैंने कह दिया- माँ, वो कल रात लाल रंग गिर गया ड्राइंग करते समय।तो माँ तो मान गयी. वो आँखें बंद कर मेरा सर सहलाते हुए चूचियाँ चुसवाने का मज़ा ले रही थी।इसके बाद मैं उसके सामने घुटनों के बल बैठ गया और उसके पेट को चूमने और अपनी जीभ से उसकी ठोढ़ी के आसपास चाटने लगा।ज्योति अपनी आँखें बंद कर मेरे सर के बालों को सहला रही थी।उसके बाद मैंने बहन की लैग्गिंग्स उतार दी.

हिंदी बीएफ इंग्लिश फिल्म नजमा दीदी मां के पास ही लेट गई।उनकी छोटी बेटी मेरी चारपाई पर आ गई। आज तो पूरे दिन से घर में बस शादी की बात छिड़ी हुई थी तो वही बातें चलती रही. इतना ख्याल आते ही मेरे पसीने छुट गये पर अब क्या हो सकता था, बर्दाशत तो करना ही पडे़गा.

एक्स एक्स एक्स लाइव वीडियो

लेकिन उसका दामाद पहले सास को चोदता है, फिर उस शादी के लिए राजी होता है. वो समझ गई थीं कि मैं जगा हुआ हूँ … पर इसके बावजूद वो नहीं रुकी और अपनी चुत चुदवाना जारी रखा. निधि की हाइट 5 फिट 2 इंच थी, वो सांवली रंगत की थी, लेकिन एक भरे जिस्म की मालकिन थी.

मैंने पूछा- क्या हुआ? तुम तो करती रहती हो ना?उसने कहा- इतने बड़े लंड के लिए मेरी चूत नई है।इतना कहते ही वो मेरे लन्ड के ऊपर चढ़ना शुरू हुई और झटके मार मार कर वह चोदने लगी. इस पर मैंने कहा- शुभम दो तीन दिन के लिए जा रहा है तो इन दो तीन दिनों में आप मेरे साथ खेल लो, मेरा भी दिल बहल जायेगा. सी बीएफ एचडी मेंदोस्तो, मेरी सगी बहन श्वेता के मुंह से ये सारी बातें सुनकर मेरा लंड एकदम से अकड़ गया था.

मनजीत मस्ती में अपनी आंखें बंद करके फुल स्पीड में लंड पर उछल कूद रही थी.

हम दोनों की चूत गीली हो गयी थीं और आपस में चूत टकराते हुए बड़ा मजा आ रहा था. जब भी मेरा लंड उसकी चूत से टकराता, तो उसको एक जबरदस्त सिहरन सी होती थी और वो मुझे ओर ज्यादा टाइट पकड़ लेती.

आपके कमेंट्स और सुझावों से मुझे आपके लिए कहानी लिखने की प्रेरणा मिलती है इसलिए स्टोरी के बारे में अपनी राय अवश्य दें।मेरी ईमेल आईडी है[emailprotected]. पहली बार उसकी चूत ने लंड लिया था इसलिए उसे चलने में परेशानी हो रही थी. वो अपनी जीभ मेरे टोपे पर गोल गोल घुमा रही थी।2 मिनट बाद मैं अंजलि के गोरे गोरे दूधों के बीच अपना लौड़ा रगड़ने लगा और अंजलि जीभ निकाल कर मेरे टोपे का स्वागत कर रही थी।उसके दोनों गोरे दूधों पर मेरे लौड़े का पानी और अंजलि का थूक लग गया।लण्ड के पानी और थूक से सराबोर हो चुके चूचे चमकने लगे थे।मैं अंजलि को चूमते हुए नीचे गया और उसकी चड्डी निकाली.

वो ऊपर उठकर अपनी पैंट ऊपर करने लगी तो मैंने पीछे से खींच कर उसकी पैंट नीचे कर दी.

मुझे हिंदी लिखनी नहीं आती थी इसलिए मैंने अपने एक करीबी दोस्त से ये सेक्स रिलेशन स्टोरी लिखवाई थी. धीरे-धीरे इस हार्ड चुसाई में अब अलीमा भी बलविंदर का साथ देने लगी थी. अंडरवियर खींचते ही ताऊ जी का लंड बाहर आ गया और बड़ी मम्मी जी के मुँह में जा लगा.

बीएफ हाई क्वालिटीमैंने उसके होंठ चूम लिए और उसे ठीक से सीधा लिटा कर उसकी कमर के नीचे तकिया लगा दिया ताकि उसकी चूत में लंड खूब गहराई तक घुसे. ये सेक्स कहानी मेरी और मेरी एक नयी गर्लफ्रेंड आरती की चुदाई की कहानी है.

मनुष्य सेक्स

यदि देसी चुदाई कहानी पसंद आ रही हो तो प्रिय पाठकों से अनुरोध है कि कहानी पर अपने विचार प्रकट करने के लिए आप नीचे दिये गये कमेंट बॉक्स में अपना मैसेज छोड़ सकते हैं. ” मैंने कहाकितना प्यारा बेटा है आपका, क्या नाम है इसका?” मैंने बच्चे के सिर पर हाथ फेरते हुए पूछाशिवांश नाम है इसका!” वो कुछ मुस्कुरा कर बोली. उसके पीछे पीछे राबिया भी चली गई।गर्मी के दिन थे तो हम सब अपनी छत पर सोते थे।सबने ऊपर ही चारपाई बिछाई और मां ने नीचे बिस्तर बिछा दिया.

जब मैं आकांक्षा के पास पहुंचा, तो मैंने उससे बोला- कहीं और चलते हैं … आगे मूवी बोरिंग है. कब मेरे होंठ उसकी नाभि से जांघों तक आ गए, पता नहीं चला।मैंने उससे कहा- अब तो चूत के दर्शन करा दो. सब कुछ होगा … जो भी तुम चाहोगे।ये कहकर वो मुझे अपने बेडरूम में ले गयी.

दस मिनट की चुदाई के बाद मॉम की चूत में मेरा माल निकल गया और मॉम खुश हो गयी. मेरा उदास सा चेहरा देख कर पापा ने मुझे अपने पास बैठाया और बोले- तुम्हारा मुंह क्यों लटका हुआ है? हम दोनों कहीं बाहर घूमने के लिए चले जायेंगे. मन कर रहा था कि उसकी चड्डी को उतार कर उसकी चूत में लंड को घुसा दूं लेकिन मैं जल्दबाजी नहीं करना चाह रहा था.

बीवी के हावभाव से साफ़ नजर आ रहा था कि वो अजय के मोटे लंड से बड़ी खुश थी. मेरे बेटे ने बताया कि पापा के जाने के बाद उसके एक दोस्त ने इस गम को दूर करने के लिए दारू का नशा लगा दिया था.

उसने मुझसे पूछा- आपको कहां कहां चोट लगी है?मैंने उसको बताया कि कमर में और जांघ के पास बहुत दर्द हो रहा है.

कुछ ही देर बाद मैंने चुत से मुँह हटाया और भाभी के पूरे बदन को किस करने लगा. नौकरानी वाली बीएफजब तक मैं उसको कुछ बोल पाती, तब तक वो अपने दोनों हाथ मेरे दोनों नितंबों पर रख कर मसलने लगा. 12 सेक्सी बीएफदस ही मिनट के अन्दर ट्रेन में इतनी भीड़ हो गयी जैसे और सारी ट्रेनें कैंसल हो गयी हों. मैं जोर जोर से चोदने लगा।अब मैंने अपनी रफ़्तार बढ़ा दी और लंड चूत के अंदर-बाहर करने लगा.

मैंने लंड को उसके मुंह में दे दिया और धक्के लगाते हुए उसके मुंह में लंड की मैथुन करने लगा.

ब्लाउज खुलते ही जैसे उसे अपनी स्थिति का भान हुआ और उसने एक बार फिर मुझे परे हटाने का निरर्थक सा प्रयास किया. मैंने उससे कहा- क्यों क्या हुआ?वो मेरी छाती पर मुक्का मारती हुई बोली- अचानक से कर दिया, मैं डर गई. अब मेरी एक उंगली उसकी चूत में अंदर बाहर हो रही थी और बाकी उंगलियां उसकी चूत को सहलाने में लगी हुई थीं.

भाभी के कोमल हाथों का जांघों पर स्पर्श होने से मेरे लंड एकदम से तनाव आ गया था. फिर हमने एक प्लान बनाया कि वो तीन दिन बाद शॉपिंग करने शहर आयेगी और मैं भी उसी दिन पहुंच जाऊंगा. लेकिन ठाकुर ने पूरा रस पी लिया और जुबान से चुत को कुरेदना चालू कर दिया.

ओठलाली सेक्सी

रजक लाल ने आह करते हुए अपना लंड मुँह में खाली किया और अपने लंड को बाहर निकाल लिया. कुछ पल बाद मैंने नीचे की गुफा का मुयाअना करने की सोची मगर पर नीचे उस जन्नती द्वार तक मैं नहीं पहुंच पाया. वो मेरे सामने ही अपनी चूत पर दो उंगलियों से सहलाते हुए सिसकारियां लेने लगी.

हुआ यूं कि मैं एक मोबाइल की कंपनी में जॉब करता था, तो कंपनी ने मुझे सेल्स के लिए लगा रखा था.

फिर मैं खड़ा हो गया, वो समझ नहीं पाई कि क्या हुआ … क्योंकि वह पूरी गर्म हो चुकी थी.

चुत पर होंठ लगते ही मंजू के शरीर में तेज कंपन हुई और उसने एक तेज रस की धार ठाकुर के मुँह में छोड़ दी. जीभ का अहसास लंड पर मिलते ही मेरे बदन में मानो बिजली का करन्ट दौड़ गया था. गांव की लड़की की बीएफ पिक्चरउसके बाद मैं उनके घर गया जहां आसिफा दीदी भी थी और उनकी बेटी भी बैठी हुई थी.

भले ही उस रात मैंने शनाज़ की एक ही बार चुदाई की लेकिन वो पूरी रात मेरे लंड को हाथ में लेकर मुझसे बातें करती रही. इस बार मेरा आधा लंड उसकी चुत को चीरता हुआ उसकी टाइट चुत में धंस गया और वो छटपटाने लगी. मैंने उन्हें अपना नाम राजेश बताया, तो उन्होंने कहा- हाँ आपके भैया ने आपके बारे में बताया है.

वो मेरी बीवी के पूरे चेहरे पर मूत रहा था और मेरी बीवी नशे की हालत में अमित का मूत पी रही थी. लेकिन अबकी बार तो वह बहुत तेज स्पीड से चोद रहा था तो मुझे अबकी बार हल्का दर्द हो रहा था.

तो दोस्तो, आज से 3 साल पहले मेरे 12वीं के एग्जाम खत्म होने के बाद मैं रिजल्ट का वेट कर रही थी.

कांफ्रेंस से फ्री होकर मैं सीधा उस सोसायटी की पते पर पहुंचा वो अच्छी साफ सुथरी नयी बनी सोसायटी थी; बाहर सुरक्षा की व्यवस्था थी और अन्दर कंपाउंड में सब तरह के रोज की जरूरत के सामान की दुकानें थीं. फिर एक दिन मैंने सोचा कि अब तो मैं नौरीन को सारी बात बता कर उसे मनाकर ही रहूंगा। तभी मेरी छोटी सगी बहन की शादी का भी वक़्त आ गया. वो घुटनों पर आ गयी और मैं खड़ा हो गया।वो मेरे लौड़े को हाथ में भरकर बोली- आज मेरी और मेरी चूत की खैर नहीं।फिर उसने मेरे लन्ड को सूंघा, सुपारे पर जीभ फिराई, टट्टे चाटे.

सेक्सी बीएफ देसी मूवी मैं अक्सर हल्के कपड़े पहनना ज्यादा पसंद करती हूँ, वैसे हर तरह की कपड़े पहनती हूँ. इस देसी हिंदी Xxx कहानी की नायिका मनजीत कौर मेरी बीवी के सबसे छोटे मामा जी की पत्नी है.

अब समर ने मुझे बेड की ओर धक्का मारा और झुकाकर पीछे से मेरी चूत में लंड दे दिया. मैंने भी दो तीन धक्कों के बाद मौसी की चूत में वीर्य छोड़ना शुरू कर दिया. भाभी बोली- अच्छा, सच-सच बताओ कि क्या देख रहे थे?मैंने कहा- कुछ नहीं भाभी… वो … आपकी …वो बोली- मेरी क्या… इतना घबरा क्यों रहे हो, मैं तुम्हें खा थोड़ी न जाऊंगी?मैंने हिम्मत करके बोल दिया- भाभी आप बहुत सुंदर हो.

मुंबई पोर्न

उससे चाची को भी न केवल बहुत ख़ुशी मिलती थी … बल्कि उनके अन्दर जवानी वापस आ गई हो ऐसा लगने लगा था. मैं समझ गया कि अमित मेरी बीवी के मुँह में लार भी टपका रहा है, जिसे मेरी रंडी बीवी चूसे जा रही है. पहले कंधे और फिर चूची पर!तो वो बोली- दीदी, चूची पर क्यों कर रही हो?मैं बोली- अरे चूची पर ही तो पहननी है.

मेरे लंड की मुण्डी गप्प से चूत में घुस तो गयी पर लगा कि आगे का रास्ता बहुत तंग है. फैमिली Xxx कहानी मेरे और मेरी बेटी के ससुराल के मर्दों के साथ सेक्स संबंधों की है.

मेरी बीवी की चीख निकल गयी और उसने अमित का सर पकड़ कर अपने मम्मों में दबा लिया.

मैंने उसकी माँ के कुछ बोलने से पहले से बोल डाला- जानेमन … कुछ जवाब नहीं दे रही हो?तो उसकी माँ में कुछ नहीं कहा और हमारी सारी चैट को पढ़ लिया, उस चैट में हम लोग बहुत अश्लील बातें कर रहे थे. मैं बोला- फिर तुम सबने मिलकर खुशी खुशी हम दोनों का निकाह शादी क्यों करवाया?ज़ोहरा आपा ने हंस कर अपने हाथ से मेरा लंड अपनी चूत से निकाला और बोली- चल अंदर चलते हैं. मैं उसको कस कर चोद देना चाहता था और उसकी चूत में अपने लौड़े के गहरे धक्के लगा रहा था.

दीपू के घरवाले उसकी शादी किसी कनाडा के लड़के से ही करवाना चाहते थे. हालांकि मेरे घर पर बहुत ज्यादा पैसा न होने से मैं बहुत सकुचाई हुई रहती थी. कुछ देर के बाद उसका पति मेरे पास आया और कहने लगा कि अब मैं अपनी बीवी की चुदाई करूंगा.

उसकी चीख निकल गई और तब तक मेरी गर्लफ्रेंड ने सोनाली के हाथ को मेरे लंड पर से हटा दिया और उसने मेरी पैंट को थोड़ा नीचे खींच दिया जिससे मैं केवल गांड तक नंगा हो गया.

हिंदी बीएफ इंग्लिश फिल्म: आखिर में मैंने आरजू की एक टांग अपने कंधे पर रख ली और अब जो निशाना लगाया, तो वो बच न पाई. पर उस महिला को परेशान हालत में देख देख कर आखिर मुझसे रहा नहीं गया और मैंने उसके पास जाकर पूछ ही लिया कि मैडम बच्चे को क्या समस्या है और क्या मैं कोई मदद कर सकता हूं?मेरी बात सुनकर वो कुछ देर अनिश्चित सी बैठी रही.

क्योंकि वो बेशक पंजाब का है लेकिन इंटरनेट पर मेरी बदनामी कर सकता है. अमन ने प्यार से मेरे दोनों हाथों को पकड़ कर मेरे पीछे ले जाकर कसके पकड़ लिए. बुआ ने कुछ नहीं कहा, वो भी जोश में मेरी गर्दन के पीछे हाथ डालकर मुझे किस करने लगीं.

फिर मैंने मंजुला के लिए मैंने उसी की पसंद का एक लेटेस्ट स्मार्टफोन खरीद दिया.

एक दिन ऐसा कुछ हुआ कि रजक लाल शाम की जगह दोपहर में कपड़े लेने आ गया. फिर मैं तेज़ तेज़ झटके मारकर रखी को चोदने लगा।अब राखी की सिसकारियां तेज़ हो गई और पूरे कमरे में चुदाई की आवाज तेज हो गई।मैं उसे पूरी रफ्तार से चोदने लगा. उसको देखकर किसी बूढ़े का भी लन्ड भी जवानी पर उतर जाए।लखविंदर और धर्मपाल ने दो दिन बाद मिलने का वादा किया और वो दोनों अपने अपने घर चले गए।दोस्तो, आपको यह मस्तराम हिंदी सेक्स स्टोरी पसंद आई होगी.