हिंदी सेक्सी बीएफ वीडियो चुदाई

छवि स्रोत,सेक्सी फिल्म हिंदी में दिखाइए

तस्वीर का शीर्षक ,

मराठी एक्स बीएफ: हिंदी सेक्सी बीएफ वीडियो चुदाई, उसके बैठने के बाद मैंने उसके चेहरे का चोरी-चोरी चुपके-चुपके नीची नजरों से दीदार किया.

भोमिया जी का फोटो

मेरी ईमेल आईडी है[emailprotected]मुझे आपके अमूल्य फीडबैक का इंतज़ार रहेगा. ट्रिपल सेक्स मूवी हिंदीमैं इससे पहले कुछ समझ पाती, मुझे गांड में उम्म्ह… अहह… हय… याह… इतना दर्द हुआ कि मैं रोने लगी.

कुछ देर चोदने के बाद उसने अपना लंड चूत से बाहर निकाल लिया और मेरी चूत को चाटने लगा. शक्ति कपूर की सेक्सी फिल्मरात को मैं निहारिका के पास गया, तो वो उसी सूट में तैयार खड़ी, मेरा वेट कर रही थी.

असल में अपने जीजा के इस जोशीले सेक्स से मैं भी बहुत ज्यादा गर्म हो गई थी.हिंदी सेक्सी बीएफ वीडियो चुदाई: और फिर मैंने उसकी मुलायम झांटों पर अपना लंड टिकाया और फनफनाते हुए लंड से उसकी चूत रगड़ने लगा.

मुझे लग रहा था कि उसको भी मजा आ रहा था और वो बार-बार मजे लेने के लिए ब्रेक मार रहा था.इस वजह से दूसरे दिन सुबह से ही मुझे वनिता के ससुर के लंड का शिकार बनना पड़ा.

सबसे महंगा कुत्ता - हिंदी सेक्सी बीएफ वीडियो चुदाई

वे बोली- कोई और होटल में चलते हैं अगर ऐसा लगता है तो?फिर मैंने उन्हें कहा- नहीं आज इतना काफ़ी है, फिर कभी करेंगे.कभी कभी तो दीदी लंड को बाहर निकाल देती थी और तेजी से हाँफने लगती थी.

उसी वक्त भाभी ने दिमाग से काम लिया और अपनी बहन का ध्यान अपनी तरफ बंटाने की कोशिश करने लगी. हिंदी सेक्सी बीएफ वीडियो चुदाई मेरे हाथों पर उसकी चूत के स्पर्श से मुझे यह ज्ञात हो रहा था कि उसने शायद कुछ ही दिन पहले अपनी चूत के बालों को साफ किया था.

मेरी नजर उसके चूचों से फिसल कर उसकी चूत पर चली जाती थी और फिर ऊपर आ जाती थी.

हिंदी सेक्सी बीएफ वीडियो चुदाई?

मैं बोला- क्या कहां डाल दूँ?वो नशीली आंखों से मेरी आंखों में झांकते हुए धीरे से वासना से बोली- अपना लंड मेरी बुर में डाल दो. ”हां और तुमने मास्टर को फॉलो नहीं किया, इस लिए तुम्हें पनिश (दण्डित) किया जाएगा. पीछे घुटनों के बल खड़ा होकर मैंने उसकी गोरी और मोटी गांड को पकड़ लिया और उसकी चूत पर लंड को सेट करके एक जोर का धक्का दे मारा.

लगभग दस मिनट की शांति के बाद रवि बॉस ने मेरी जांघों पर फिर से हाथ फेरना शुरू कर दिया. मेरे प्यारे अन्तर्वासना के पाठको, आज कई महीनों बाद आप सब को संबोधित कर रहा हूं. मैंने उसकी चूत में जीभ अंदर डाल दी और उसकी चूत को चाटने लगा जैसे कुत्ते दूध पीते हुए करते हैं.

मैंने महसूस किया कि भाबी की चुत अब भी उतनी ही टाइट है, जैसे पहले थी. नम्रता के जिस्म से निकलती हुई खुशबू मेरे नथुनों में बसती जा रही थी. इससे पहले मैं उन सभी लोगों का शुक्रिया अदा करना चाहूँगा, जिन्होंने मेरी स्टोरीप्यासी भाबी निकली लंड की जुगाड़को पसंद किया.

नंगे चूचों को मैंने जोश में आकर अपने दोनों हाथों में लेकर भींच दिया और उसकी सिसकारी निकल गई. मेरी चूची बहुत टाइट हो चुकी थी और वो मेरी चूचियों को दबा-दबा कर चूस रहा था.

अभी तक की कहानी में आपने पढ़ा कि अपनी चाची की बेटी मोनी के साथ मैं उसके ससुराल में उसके पति के घर आ गया था.

थोड़ी देर बाद मैंने दाने को मेरे मुँह में लिया और खींचते हुए चूसने लगा.

ऐसे में अपने परिवार को यहाँ रखना क्या ठीक रहेगा?मैं बोली- तो तुम्हारा मन नहीं करता क्या ये सब देख कर?क्या मेमसाब?” उसने हिचकिचाते हुए बोला. मैंने उससे पूछा- डू यू वांट इट स्लो डाउन (आराम से करना चाहती हो)वो कुछ नहीं बोली, उसने बस न में सर हिलाया. उसके मुँह से हल्के स्वर में आवाज निकल रही थी- हाय अमीषा मेरी जान … तेरी क्या मस्त चूचियां और गांड है, मन करता है कि तुझे रात भर चोदता रहूँ.

उस रात बस कुछ देर के लिये ही सुबह के समय ही मेरी हल्की सी आँख लगी होगी, नहीं तो मैंने वो सारी रात लगभग जाग कर ही निकाली। अगले दिन सुबह भी मैं जल्दी ही उठ गया. मानसी के ऊपर लेटकर रितेश जीजू ने उसके होंठों को जोर से चूसते हुए उसके चूचों को मसल डाला. जीजा-साली की ऐसी गर्म चुदाई देख कर उसकी चूत ने भी वहीं पर पानी छोड़ना शुरू कर दिया और मैंने हेतल की गांड पर अपना तना हुआ लंड रगड़ना चालू कर दिया.

मैं अब इतनी गर्म हो चुकी थी कि अभी मुझे जिस मर्द का भी लंड मिले, मैं उससे चूत खोल कर चुद जाऊं.

उसने भी गाली बकी- अबे गांडू साले चोद दे आज … तेरा मस्त लौड़ा मेरी चूत की खुजली मिटा रहा है … अन्दर तक पेल आह … भैन के लौड़े. जब मैडम मेरे पास एग्जाम शीट लेकर आई तो पंखे की हवा से वो शीट नीचे फर्श पर गिर गई. इस वजह से उसकी आवाज़ ही निकलनी बंद हो गई और वो अपना सिर ज़ोर ज़ोर से हिलाने लगी.

थोड़ा आराम करने के बाद नहा धोकर मैंने उसको कॉल किया- मैं पंकज बोल रहा हूँ और मैं बैंगलोर आ गया हूं. बेटा बोला- हाँ मम्मी …मैं उसके लंड का मजा लेने लगी- उउउह … उम्म्म … आह्ह्ह … आआहहह … उउउफ्फ चोद दे बेटा. दोस्तो, कैसे हो आप सब? मेरा नाम अंकित पटेल है और मैं अहमदाबाद (गुजरात) से हूँ.

मैंने उसके हिलते-डोलते चूचों को अपने हाथ में बारी-बारी से भर कर दबाना शुरू कर दिया और कुछ ही मिनट के बाद उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया.

चाची चिल्लाते हुए गांड उठा कर बोलीं- आह राहुल … मैं झड़ने वाली हूँ. बयालीस वसंत पार कर चुकी खूबसूरत, विवाहिता, दो बेटों की माँ, सभ्रांत और बैंक अधिकारी महिला के साथ सेक्स करने का का वो अनुभव भी कमाल का रहा; पर वो सब बातें मेरी कहानी का विषय नहीं हैं.

हिंदी सेक्सी बीएफ वीडियो चुदाई मैंने अगले ही जल्दी से उसे अपने नीचे लेटा लिया उसकी चूत में लौड़ा फंसा कर शुरू हो गया. बाहर जीजा जी और दीदी नवजात बच्चे की तरह पूर्ण रूप से नंगे होकर एक दूसरे को बांहों में भर कर सेक्स कर रहे थे.

हिंदी सेक्सी बीएफ वीडियो चुदाई फिर नम्रता ने अपनी एड़ी को कूल्हे से सटायी और टांग को थोड़ा सा फैलाकर अपनी नाभि को सहलाते हुए अपने हाथ को चूत की तरफ ले जाने लगी. भरा हुआ बदन, गोरा रंग, बड़े-बड़े मम्मे, उभरी हुई गांड, फ़िगर 36-30-38 से कम नहीं था। सायमा मेरे सामने वाले घर में रहती थी और रोज अपने घर की बालकनी में गांड हिला-हिला के झाड़ू लगाया करती थी.

फिर मैं नहाने चला गया लेकिन सोच रहा था कि बहुत दिन से किया भी नहीं है.

न्यू सेक्सी मूवी वीडियो

आगे की कहानी सुनाते हुए मैं मेरी बहन के शब्दों में और अपने शब्दों में कहानी लिखूँगा ताकि आपको हम दोनों का अनुभव अच्छी तरह से समझ आ सके. काजल एकदम से सकपका गई और वो मोबाइल वापस देने के लिए मुझसे कहने लगी. मैंने उसके मुँह से गिरी वाईन, जोकि उसके गालों पर लग कर टपक रही थी, उसी अवस्था उसके गालों को चाटना शुरू कर दिया.

चूचों को मसाज देने के बाद वो बेकाबू हो गई और उसने खुद को मेरे हवाले कर दिया. कुछ ही देर की चूत चुसाई से मैं मूतने लगी, तो वरुण मेरी चूत का पानी चाटने लगा. भाभी ने बेड पर लेटते ही सेक्स के लिए अपनी बांहें मेरी तरफ फैला दीं.

बंध्या के लिए भी यह लॉज एकदम से सुरक्षित है और जिसे चाहे यहां पर लेकर आ सकती है और अपनी चुदाई करवा सकती है.

वो बोले- हमने सब सुन लिया है कि तुम बाप-बेटी यहां पर चुदाई कर रहे थे. भाभी ने अपने हाथ से मेरे लंड को पकड़ा और पीछे से अपनी चूत मेरे लंड के पास लाकर पीछे से मेरे लंड को अपनी चूत में घुसा लिया. अब हमने अपनी सेक्स स्थिति बदलने की सोची।वीणा ने अपनी गीली चूत में से सना हुआ मेरा लंड बाहर निकाला और कमरे की स्टडी टेबल पर अपने स्तनों को टिका दिया। वीणा अपने पांव पर खड़ी होकर अपने पूरे शरीर को टेबल पर लेटा चुकी थी.

उसके शरीर से हल्के हल्के पसीने की महक आ रही थी, जो मुझे बहुत सेक्सी फील करवा रही थी. उनमें से एक लड़के ने मेरे सूट के ऊपर से ही मेरी चूचियों को दबाना शुरू कर दिया. इस कहानी को पढ़ कर आपको खुद के कुछ किस्से याद आए या नहीं, ये भी लिखना.

उसकी चूत से चिकना सा पदार्थ निकल कर उसकी पूरी चूत को चिकना कर रहा था. मुझे क्या पता था कि घर में ही इतना मस्त लंड मिल जायेगा मुझे!मानसी की टांगों को अपने हाथों से फैला कर मैंने उसकी चूत को चोदना शुरू कर दिया.

तभी सेलिना का फोन आया और उसने पूछा- आप आ रहे हो न?वो भी शायद मुझमें उतनी ही रुचि ले रही थी जितनी कि मैं उसमें दिखा रहा था. लण्ड का टोपा या सुपारा चमड़ी से ढका हुआ गेंद की तरह जुड़ा हुआ लग रहा था जो मेरे मन में दहशत सी पैदा कर रहा था. वंश ने एक ब्लैक डॉग की बोतल लाने की कह दिया, जोकि वो कुछ ही देर में ले आया.

तेरा रुकना-खाना सब फ्री … आज के बाद कभी भी तू आ सकती है, ये मेरी गारंटी है। मैं रहूं ना रहूं, बस मेरा नाम बता देना.

वो जोर से चिल्लाने लगी- पंकज इसको बाहर निकालो प्लीज़ … दर्द हो रहा है. मुझे नहीं पता वो दोनों कब से इस तरह एक-दूसरे की प्यास बुझा रहे थे लेकिन दोनों के अंदर सेक्स जैसे कूट-कूट कर भरा हुआ है. मैंने उनके खुले मुँह में लंड डाल दिया और उनका मुँह पकड़ कर धकाधक लंड देने लगा.

वो काले रंग की ब्रा में इतनी सुंदर लग रही थी कि क्या बताऊं दोस्तो … मैं वो पल बयान ही नहीं कर पा रहा हूँ. पति- देख नम्रता ऐसी बात मत कर, नहीं तो मैं सब छोड़-छाड़ कर आ जाऊँगा और तुझे पटक-पटक कर चोदूंगा.

उन्होंने मेरा काम तुरंत कर दिया और बोले- तुम्हें कोई भी काम हुआ करे, तो तुम सीधे मेरे पास आ जाया करो. मैंने सोनल से पूछा- सोनल, मजा आया न?सोनल- बहुत ज्यादा, लेकिन दर्द हो रहा है. वो भी ये देख कर मस्त हो गई और खुद अपने मम्मे को दबवा कर मेरे लंड को दूध से भीगते हुए देखने लगी.

सेक्सी वीडियो कुत्तों के साथ

”तभी बगल के कमरे से नीना आई, तो उसे देख मेरे बदन में बिजली सी दौड़ गई.

माँ रोती हुई लेकिन चुदासी आवाज में बोलीं- तुम तो हैवान हो … आआह … उम्म्मह … इस्स … आह … अब रुको मत … अअ अआ … चोदो मेरी कली को … म्म्मह … पीस डालो ऐसे ही … यसस्स!फिर मैंने दस मिनट तक ऊपर से चोदा और बाद में मैंने उनके मम्मों पे चाटें मारना शुरू की. मैंने अंतर्वासना पर बहुत सारी कहानियाँ पढ़ी हैं। आज मैं भी आप लोगों को अपनी आपबीती बताना चाहती हूँ. वो चीखते हुए बोली- हटा क्यों लिया … डाल भी दो ना अब!मैं अब भी कुछ नहीं कर रहा था.

उसके बाद मैं उसे स्मूच करते हुए उसके सीने के भाग पर किस करते हुए बोबों की तरफ बढ़ा। उसके बोबे एकदम कड़क थे। उठे हुए सुडौल, जैसे किसी पॉर्न स्टार के होते हैं। मैं उसके दूधों को पीने लगा। वो आह्ह-आह्ह करती हुई कह रही थी ‘चोद दो भाई मुझे प्लीज … चोद दो मुझे. मामी के साथ दूसरी रात की चुदाई कैसे हुई, ये भी काफी रंगीन कहानी है. बैंजो डाउनलोडिंगउससे मेरी बातें फोन पर होती रहती हैं, मैंने उसको कमोड पर बैठते समय अपनी गांड में उंगली करने की सलाह दी है.

उनका लंड इतना गर्म था कि क्या बताऊँ … उनके लंड का सामने का भाग काफी मोटा था. मैं उसकी गुलाबी सी चुत को देख रहा था तो बोली- देखते ही रहोगे क्या, अब कुछ करो ना … नहीं तो मैं मर जाऊँगी.

लेकिन कंपनी वालों ने परेशान करने के लिए उसे किसी काम से मुंबई जाने को कहा. वो जोश में मुझे गालियाँ दे रहा था।करीब 8-10 मिनट तक मैं उछलती रही, फिर वो झड़ गया और मैं उसके ऊपर लेट गयी।इतना चुदने के बाद मुझमें और चुदने की हिम्मत नहीं थी. एक हम और एक शर्मा अंकल की फैमिली। शर्मा अंकल की बेटी की डेस्टिनेशन वेडिंग हो रही थी तो वो एक महीने के लिए शहर से बाहर गये हुए थे। ये बात मुझे पता थी। लेकिन शायद मेरी बहन को ये बात नहीं पता थी।पूरे फ्लोर पर मैं और मेरी नंगी बहन ही थे। मैंने सामान वहीं रखा.

मैं भी बोलने लगी- आअह्ह डाल दे अपना रस मेरी चूत में … और बना ले आआ अह्ह्ह मुझे अपने बच्चे की माँ … आज से मैं तेरी लुगाई बन गयी हूँ … आआअह्ह्ह … चोद दे मुझे मेरे पतिदेव … फाड़ डाल मेरी चूत को आआअह. दीदी जीजाजी की चुदाई की कामुक आवाजें सुनकर वैसे मैं भी गर्म होना शुरू हो गई थी. उसको पता था कि मैं कितनी चालाक हूँ, बाहर ध्यान दे सकती हूँ, इसलिए वो मेरे जिस्म के उभार के मजे ले रहा था.

इतना होने के बाद मेरी गांड फट गयी थी कि बुआ जग कर गुस्सा ना करें, मैं ऐसे ही सो गया.

तुम्हारा घर तो पास में ही है इसलिए सोचा कि यह काम तुम्हें ही दे दूँ. इस बीच नम्रता अपने आपको हिलडुल कर एडजस्ट करते हुए बातें करती जा रही थी.

वसुन्धरा और वो लड़का, दोनों साथ-साथ पढ़े भी हुए हैं लेकिन वसुन्धरा तो शादी वाली बात सुनने को भी तैयार नहीं!”राज जी! अगर आप चाहो तो हमारी मदद कर सकते हो. हैलो फ्रेंड्स, ये मेरी पहली और सच्ची कहानी है और मैं ये सच्ची कहानी सबसे पहले आप लोगों के साथ साझा करना चाहता हूँ. मगर जैसे ही पायलों की आवाज मेरे कानों तक पहुंची मैं तपाक से उठ कर बैठ गया।दिन में तो मैंने मन बना लिया था कि रात को अगर आवाज आई तो गौशाला में देखने जरूर जाऊंगा लेकिन जब रात 12 बजे वही आवाज आई तो मेरी सिट्टी-पिट्टी गुम होने लगी.

मोनी की उत्तेजना मुझसे भी ज्यादा तेज थी जो उससे बर्दाश्त नहीं हो रही थी इसलिये वह एक तरफ मुड़ कर मेरे चंगुल से छूटने का प्रयास करने लगी थी. मैंने कहा- क्यूं, सुमिना आपकी सहेली नहीं है क्या? आप हमारे साथ भी तो शॉपिंग कर सकती हैं. मैं- हां तुम्हें तो मजा आ रहा था लेकिन मेरी हालत खराब हो रही थी, एक अजीब सी गुदगुदी सी पेट में हो रही थी.

हिंदी सेक्सी बीएफ वीडियो चुदाई जीजा जी उसी दिन मेरी चूत की चुदाई करना चाहते थे मगर उस पड़ोसन ने आकर सारा खेल खराब कर दिया. फिर बातों बातों मैं मेरे भाई ने, जो मेरे से छोटा है, मुझसे कहा कि तू अभी तक इस बात को लेकर वर्जिन है कि भाभी से अपनी शुरुआत करेगा.

छोटे बच्चे का सेक्स

उस रात बस कुछ देर के लिये ही सुबह के समय ही मेरी हल्की सी आँख लगी होगी, नहीं तो मैंने वो सारी रात लगभग जाग कर ही निकाली। अगले दिन सुबह भी मैं जल्दी ही उठ गया. शीतल भाभी ने मुझसे पूछा- मुझको यहां क्यों लाए हो?मैंने उसे आँख मारते हुए बोला- तुमने मुझको क्यों बुलाया है. उसके बाद मैंने उसकी गांड में पहले अपनी अनामिका उंगली को डाला और अन्दर बाहर करने लगा.

हम रात को ट्रेन से जा रहे थे, ग़लती से ट्रेन में लेडीज कोच में चढ़ गए, उस डिब्बे के गेट पर कई औरतें खड़ी थीं, उन्होंने मुझे रोक लिया. मैं एक हाथ से उसके एक चुच्चे को दबा रहा था और एक चुच्चे का रसपान कर रहा था, हालांकि उसके चुच्चे थोड़े छोटे थे, लेकिन उनसे खेलने में बहुत मजा आ रहा था. বেঙ্গলি এক্স এক্স এক্স ভিডিও!!अस्तु!!!इति श्री पुरानी-कथा पुराण!ख़ुशगवार अहसासों के जादुई रेशमी स्पर्श के बाद, हक़ीक़त की ख़ुरदरी सच्चाइयों का सामना करना वाकई में बहुत ही बेचैनी भरा होता है लेकिन इन सब के बीच जिंदगी मुतवातर अपने रास्ते पर आगे बढ़ती रहती है, मेरी भी बढ़ रही थी.

उसके बाद मैंने कई चूतों की चुदाई की मगर अंजलि की देसी कुंवारी चूत को चोदने का वो अहसास आज भी भुलाये नहीं भूलता मैं.

रात के समय खाना खाने के बाद जब मेरी बहन पढ़ने के लिए बाहर चली गई, तो मैं अपने रूम में जाकर अपने कम्प्यूटर पर ब्लू मूवी देखने लगा. दीगर तौर पर महीने, डेढ़ महीने बाद वो शिमला चक्कर मार तो लेती थी लेकिन रहती डगशाई में ही थी … वो भी अकेली.

मैंने उसको देखा और उसको ऐसे देख कर यही सोच रहा था कि ये खुद टॉवल खोल दे या मैं खोल दूँ. उनके चूचों के निप्पल को मैंने बहुत काटा, जिससे उनको दर्द होने लगा, पर उनको मजा भी बहुत आ रहा था. राधिका के दोनों हाथ मेरे हाथ पर आ गए और वो अपने मम्मों को मसलवाने का मजा लेते हुए बीच-बीच में अपनी आंखों को बंद कर ले रही थी.

मेरी आयु 23 साल है। मेरे घर में चार सदस्य हैं- मेरी मां और पापा, एक बहन और मैं.

अब उसने कहा- आशना अब तुम ज़न्नत के नज़ारे देखने के लिए तैयार हो जाओ. उसने दरवाजा खोला तो मेरी नजर सीधी उसके चूचों की दरार पर जाकर ही अटक गई. इसके बाद पहले व्हाट्सअप मैसेज से बात होना शुरू हुईं … फिर कॉल पर बहुत देर देर तक बातें होने लगीं.

तमन्ना भाटिया xxxफिर अंकल मेरे मम्मों को देख कर बोले- मस्त लाल टमाटर लग रहे हैं और आज तो मैं गांड में भी लंड डालूंगा. मैंने सुमिना के कमरे की तरफ कदम बढ़ाने शुरू किये तो आवाजें और तेज होती जा रही थीं.

सेक्सी मूवी अंग्रेजी

वह छटपटाई उम्म्ह… अहह… हय… याह… लेकिन मेरी पकड़ मज़बूत थी।पूरा मेरा पूरा सात इंच लंबा, ढाई इंच मोटा लंड उनकी चूत में जगह बना चुका था. तभी मैंने अलका की तारीफ करते हुए कहा कि शाम को तुम खूबसूरत लग रही थी. मैं भी मौसी को पूरी तरह तड़पाना चाहता था, इसलिए बीच बीच में लंड को चूत के छेद पर रखता और धीरे से धक्का देता और फिर पीछे करके फांकों में ऊपर नीचे करने लगता.

पर उन्होंने मौसी के कपड़े और बैग फेंक दिए थे तो उन्होंने मेरे कपड़े और एक वाइट सूट सलवार दिया, जो बहुत चुस्त था, जिसे पहन कर मौसी की हर चीज़ दिख रही थी. हम लोग पहले साथ में काम कर चुके थे, लेकिन मैं बाद में वहां से काम छोड़कर चला गया था. ये बात रवींद्र को वनिता पहले ही बता चुकी थी कि उसका पति बाहर जाने वाला है.

इतना सुनते ही काजल की आंख शर्म से बंद हो गईं और वो फिर से बोली- प्लीज ननदोई जी, छोड़ दो मुझे. वो परिवार बहुत ही मिलनसार था, तो थोड़े ही दिन में मेरी मम्मी से उन आंटी की दोस्ती हो गई और हमारा एक दूसरे के घर आना जाना चालू हो गया. मैं उनकी बांहों से छुड़ाने की कोशिश करने लगी पर वो और जोर से मुझे अपने पास चिपकाकर मेरे होंठों को चूसने लगे.

मगर मैं यह दावे के साथ कह सकती हूं कि उस वक्त सुमन को बहुत मजा आने लगा था. उस रिश्तेदार ने ट्रेन में बैठाने से पहले उनसे ये भी नहीं पूछा था कि वो लोग कहाँ पर उतरने वाले हैं.

फिर मैं ऐसे ही ज़ोरदार धक्के लगाता रहा और फिर 15 मिनट तक ऐसे ही चोदता रहा.

मेरा लंड उसकी चूत में घुस गया था और मैंने दीवार की तरफ धक्के देते हुए उसकी चूत को चोदना शुरू कर दिया. लडकी के नबरजैसे ही मैंने बहन की चुत की दरार से अपना लंड रगड़ा, उसने अपनी चुत को फ़ैला दिया. सेक्सी फिल्म मूवी पिक्चरपर मेरे हाव भाव से वो भी समझ गया था कि अन्दर ही अन्दर मुझे भी चुदवाने की चुल्ल है. आदाब दोस्तो, आपने मेरी कहानी ‘आपा का हलाला’ पर आप सब की ढेर सारी ईमेल भेजी, आप सबका इस प्यार के लिए बहुत शुक्रिया.

मुझे जो हल्की थकान महसूस हो रही थी, वो भी वाइन के नशे से गायब हो चुकी थी.

उन्होंने मुझे अपनी बांहों में भर लिया और फिर एकदम से शांत होकर मेरे ऊपर लेट गये. उसने मुझे खींच कर अपने करीब किया और अपने होंठ मेरे होंठ पर रख कर किस करने लगी. इसके बाद मैंने मिशी भाभी को पलटा और ऊपर आ कर धक्के देते हुए उसकी चुत में झड़ने लगा.

वो सब मुझे चिढ़ा रहे थे कि यार तेरी तो आज रात को दीवाली ही दीवाली है. ऐसे में अपने परिवार को यहाँ रखना क्या ठीक रहेगा?मैं बोली- तो तुम्हारा मन नहीं करता क्या ये सब देख कर?क्या मेमसाब?” उसने हिचकिचाते हुए बोला. तब भी भाभी को ये नहीं मालूम चल सका था कि मैं अपनी बीवी शालू की गांड में लंड पेल रहा था.

ब्लैक सेक्स एचडी

वो तो खुद यही चाहते थे कि इसके बारे में किसी पता ना चले तो झट से मान गए. उसने थोड़ी देर मेरे मम्मों को दबाने के बाद मुझे बेड पर उठाया और अपने हाथों से मेरा ड्रेस निकाल दिया. उसने भी मेरी जिप खोल कर मेर लंड पर कब्ज़ा कर लिया और उसे नापने की कोशिश करने लगी.

मुझे फिर से बेइंतहा दर्द शुरु हो गया जैसे जैसे लंड अंदर जाता गया मेरी चीख तेज होती गई.

मैं एमजी रोड मेट्रो स्टेशन पर पहुंचा और वहां से मैं सर्विस सेंटर पर चला गया.

उसके बाद बुआ ने मेरे से पूछा- तेरी कोई गर्लफ्रेंड है या नहीं?पहले तो मैं डर गया कि ये क्या पूछ रही हैं. लगभग 5 मिनट के बाद मेरा दर्द कम हो गया और मजा आने लगा, जिसकी वजह से मैं गांड उठा उठा के चुदने लगी. सेक्स वीडियो सेक्स इंग्लिशलंड चुसाई की मस्ती से जोश में आ कर मैं उसके सिर को अपने लंड पे दबाने लगा.

जिस दिन भाभी से मेरी बात नहीं होती, उस दिन मुझे लगता था, जैसे कोई बहुत दूर चला गया हूँ. मेरे मुँह से सिसकारियां निकल रही थीं और मैं ज़ोर ज़ोर से भाई को सुनाने के लिए बोलने लगी- आऽऽऽह, फ़क मी बेबी, उफ़्फ़ मुझे तुम्हारा लंड चूसना है … आह मेरी चूत लंड के लिए तड़प रही है … मेरी चूचियों से खेलो … मेरी प्यास बुझा दो … चोद दो मुझे … आऽऽऽह!कुछ तो अपनी चूत से खेलने और कुछ ये सब अपने भाई को दिखाने की सोच कर मैं बहुत गर्म हो रही थी. जब एक औरत एक जवान लौंडे के लंड पर अपना हाथ चलाएगी तो लौंडे को तो मजा आना पक्का ही समझिए, सो बस मैं भी गर्म हो गया, मेरा लंड तन गया, जो 7 इंच लम्बा 3 इंच मोटा था.

दोस्तों आपकी मेरी पिछली कहानीमौसेरी बहन की कुँवारी चूतकी सराहना से प्रेरित हो कर मैं फिर हाज़िर हूं एक और मदमस्त आपबीती ले कर. मैंने आंटी के चूचों को हाथों में भर कर उनके निप्पलों को पीना शुरू कर दिया.

उसकी चूत को चोदते हुए मैं उसके सूट के ऊपर से उसके चूचों को दबाने लगा.

मैंने खुद को घुटनों के बल कर लिया और देखा कि नंगी रानी तौलिये पर खड़ी है. एक और दिन रानी की झांटों से होती हुई झांट-सुरा का स्वाद मिला तो एक दिन रानी ने अमृत धारा मारते हुए स्वर्ण-सुरा का ज़ायका दिया. मगर एक समस्या थी कि उसकी ये जो शर्म और शराफत थी वो मेरे लंड के आगे आ रहा थी.

puja सेक्स वीडियो अब तक मैं भी नंगा हो चुका था तो मैंने भी अपना लंड उसके मुँह के पास किया. तुम्हारा घर तो पास में ही है इसलिए सोचा कि यह काम तुम्हें ही दे दूँ.

फिरधीरे से मैंने पहले तो अपना एक पैर मोनी के पैरों पर रखा और फिर अपना एक हाथ भी मोनी के बदन पर रख कर मैं धीरे-धीरे आज फिर मोनी के मखमली बदन से चिपक गया।उसके मखमली बदन से चिपक कर मैं अब फिर से कुछ देर ऐसे ही लेटा रहा और मोनी की हरकत का इन्तजार करने लगा. सरिता और नीना की कामुकता से भरी ये मस्ती को देखकर मेरा मन भी बेकरार हो गया. चूंकि मेरे जीजा मुझे अधूरा छोड़ कर चले गये थे इसलिए अब मेरे अंदर भी चुदास जगने लगी थी.

सेक्सी व्हिडिओ मे सेक्सी

उस रात मैंने अपनी अच्छी को 3 बार चोदा था और उन्हीं के साथ नंगा सो गया था. मैंने अपने हाथ से अपनी चड्डी नीचे सरका दी और बोली- जरा यहाँ भी कर दो प्लीज! मुझे बहुत आराम मिल रहा है. उसकी पतली पतली टांगें, उसकी पतली कमर थी … और हां उसकी उम्र भी बहुत कम थी.

सोनम बेटा, जरा पकड़ो इसे!” अंकल जी ने मेरे सिर पर प्यार से हाथ फेरते हुए कहा. मेरे हाथ अपने आप उनकी पीठ पर चले गए और मैंने अपने नाख़ून पीठ पे गड़ा दिए.

सोनल- भाई अगर आप दोनों की चुदाई का खेल हो गया हो, तो नाश्ता तैयार है.

मैंने देर न करते हुए उनकी चूत में हाथ से लंड सटाया और एक ही झटके में चूत में उतार दिया. मुझे उम्मीद है कि यह कहानी भी आपको बहुत पसंद आएगी।अपने बारे में मैं पिछली कहानी में बता चुकी हूं जिन्होंने नहीं पढ़ा वो जरूर पढ़ें।कहानी कुछ दिन पहले की ही है मैंने कंप्यूटर कोर्स किया था. आपकी राय के बाद मुझे आगे भी आपके लिए कहानी लिखने के लिए प्रेरणा मिलेगी.

अगली कहानी में मैं आपको बताऊँगा कि कैसे मैंने दीदी के साथ हनीमून प्लान किया. इसलिये मैं अब उससे दूर ही रहने लगा।दो-चार दिन तो मोनी भी मुझसे अलग-अलग सी रही मगर फिर धीरे-धीरे उसने भी मुझसे‌ थोड़ा बहुत बात करना शुरु कर दिया। वैसे भी वहाँ घर में हम दोनों ही थे और लगभग दिन-रात एक साथ ही रहते थे।आप भी इस बात का अंदाजा लगा सकते हैं कि एक ही घर में दिन‌ रात एक साथ रहेंगे तो एक-दूसरे से बात किये बिना‌ कब तक‌ रह सकते थे. उसका लगभग रोज का काम था कि शराब पीने के बाद हमेशा घर पर आकर झगड़ा करना.

मेरा अपने नये पाठकों से विनम्र निवेदन है कि कहानी से ठीक से तारतम्य बिठाने के लिए पहले मेरी पुरानी कहानियों को एक बार पढ़ लें.

हिंदी सेक्सी बीएफ वीडियो चुदाई: तो गुस्ताखी की पेशगी माफ़ी की गर्ज़ के साथ अर्ज़ है कि इस फ्रंट पर इस से ज्यादा सुधार की कोई गुंजाईश … अभी तो नज़र नहीं आती. कोई 5 मिनट के बाद वो नार्मल हुई और गांड उठा उठा के मज़े से लंड लेने लगी.

यदि मेरी योनि से रक्त न निकला तो क्या मेरा पति मुझे शक भरी निगाह से देखेगा? और क्या हस्तमैथुन करना सही है?जवाब: नीलिमा जी, सच कहूँ तो ये सब भ्रम जाल है और कुछ नहीं। योनि में एक झिल्ली होती है जो कई बार खेल-कूद करने या साईकिल चलाने या उछल-कूद करते वक्त भी टूट क्षतिग्रस्त हो जाती है. मैं आगे की तरफ जाकर आंटी के चूचों को दबाने लगा और वरूण ने आंटी की चूत की चुदाई शुरू कर दी. उसने मुझे दीवार के साथ खडी होने को कहा तो मैं फिर दीवार के सहारे खड़ी हो गयी और उसने गांड पे लंड रख कर धक्का लगाया और मैं मज़े में आ गयी.

पापा बोले- फिर मैं भी चल पड़ता हूँ!मां ने भी तपाक से कहा- हाँ चलिये, आप यहां घर पर अकेले बैठ कर क्या करेंगे.

मैंने धीरे से उसकी चूत पर लंड को लगाया एक झटके से लंड को अंदर घुसा दिया. मैं दिन भर बहुत चुद चुकी थी तो नींद आ गयी और वो भी सो गया।घण्टे भर बाद राकेश आया और उसने मुझे साइड में लिया तो मैंने उसे थोड़ा रुकने को कहा. अजय ने मेरी चुचियों पे बैठ कर मेरे मुँह में अपना लौड़ा दे दिया और नीचे से वरुण मेरी चूत चूसने लगा.