ब्लू फिल्म हिंदी में सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,मराठी सेक्सी गप्पा

तस्वीर का शीर्षक ,

ससुर के बीएफ: ब्लू फिल्म हिंदी में सेक्सी बीएफ, ज़ेबा के लगातार विरोध करने और ये कहने कि ‘भाई प्लीज़ … ऐसा नहीं करो.

हिंदी सेक्सी बाप विडिओ

इस समय हम दोनों नग्न अवस्था में थे, जबकि दीदी और जीजा जी ने कपड़े पहने हुए थे. आर्केस्ट्रा सेक्सी आर्केस्ट्रा सेक्सीअचानक ही वसुंधरा का जिस्म कुर्सी पर एक सीध में पूरी तन गया और वसुंधरा की आँखे बंद हो गयी, सर कुर्सी के पीछे की ओर झूल गया, दोनों हाथ कुर्सी के दोनों हत्थों पर कस गए, दोनों नितम्ब कुर्सी से ऊपर उठ गए, टांगे और दोनों पैर बिल्कुल सीधे हो गए.

इतना कह कर मैं कस कर विवेक के बालों को खींचने लगी और उसका मुंह अपनी चूत में दबाने लगी. हिंदी सेक्सी वीडियो नंबर वनलंड को उसकी चूत से बाहर निकाला तो उसकी चूत के खून से लंड लाल हो गया था.

मैंने जरा मूड में आकर पूछा थ, तो मालकिन फिर से सीधी होकर लेट गईं और साड़ी को नीचे लाते हुए झट से उठ कर बैठ गईं.ब्लू फिल्म हिंदी में सेक्सी बीएफ: जीजा जी- बात तुम सही कह रहे हो, पता नहीं आगे और कितना परेशान करेंगी.

एकदम से मेरे लंड से वीर्य निकलने लगा और मैंने अपना माल उसके मुंह में गिराना शुरू कर दिया.मैं बिस्किट मुँह में लेकर आधी उसे खिलाई, अपने मुँह में पानी भर कर उसे पिलाया.

सेक्सी स्कूल सेक्सी - ब्लू फिल्म हिंदी में सेक्सी बीएफ

पूरा लंड साफ करके भाभी उठी और बोली- देखा, पिला दिया ना इसने अपना पानी मुझे.अब मेरी दोनों चूचियां आज़ाद थी। मेरे दोनों नंगे बूब्ज़ को देख कर सामने वाला तो जैसे पागल हो गया और उसने मेरा एक निप्पल अपने मुख में ले लिया.

मैंने आह आह आह आह करके जोर जोर से धक्के मार कर अपने वीर्य की पिचकारी उसकी चूत में छोड़ दी और उसके ऊपर ही लेट गया. ब्लू फिल्म हिंदी में सेक्सी बीएफ अपनी पिछली कहानीटीचर से गांड मरवाकर नम्बर लिएमें मैंने आपको बताया था कि कैसे मेरे टीचर ने मेरी गांड मार ली थी.

पूर्णिमा भाभी की चूत में जरा जरा से बाल थे जो उसकी चूत को और आकर्षक बना रहे थे.

ब्लू फिल्म हिंदी में सेक्सी बीएफ?

मैंने जल्दी से परमीत के कपड़े उठाए और उसे खींचते हुए लेकर उसके रूम में घुस गई. आपने अब तक की मेरी इस सेक्स कहानी में पढ़ा था कि साकेत भैया मेरी दीदी का पहला बुर चोदन करने की पूरी तैयारी कर चुके थे. मुझे मोटे चूचे और पीछे की ओर निकली हुई गांड वाली भाभी और चाची बहुत पसंद आती हैं.

सुनो खाना खाने के बाद तुम दोनों, हमारा रूम में इन्तजार करना … हम दोनों अपना आखिरी काम करके जल्द ही आ जाएंगे. फिर भी नवयौवना की चूत का मुँह चाहे जितनी भी फूली हो, पर खुली नहीं रहती. अचानक ही वसुंधरा का जिस्म कुर्सी पर एक सीध में पूरी तन गया और वसुंधरा की आँखे बंद हो गयी, सर कुर्सी के पीछे की ओर झूल गया, दोनों हाथ कुर्सी के दोनों हत्थों पर कस गए, दोनों नितम्ब कुर्सी से ऊपर उठ गए, टांगे और दोनों पैर बिल्कुल सीधे हो गए.

शैली ने मेरा लण्ड पकड़कर अपनी बुर के लबों पर रखा और उस पर बैठकर फुदकने लगी. मेरी टांगें उनकी कमर पर झूल रही थी, उनका साथ दे रही थी।उन्होंने मुझे फिर से घोड़ी बना दिया और मेरी चूत में लंड डालकर मुझे चोदने लगे. वो बोली- हां सच्ची यार, जब भी मेरे मामा विदेश से आते हैं तो वो दोनों मुझे किसी न किसी बहाने से घर के बाहर भेज देते हैं.

मैंने सपना के मम्मों को दबाना शुरू किया, तो वो भी गर्म होने लगी और सीधे बोली- यहीं चोदेगा क्या … अन्दर चल मेरी चुत की खुजली ठीक से मिटा. यह कोई झूठी कहानी नहीं है, ये सब मेरे परिवार में हुआ है और होली के बाद से तो किसी को भी किसी तरह की रोक टोक नहीं है.

उनके बहुत ज़ोर देने पर मैंने उन्हें कमरे में चलने का कहा और हम दोनों कमरे में आ गए.

फिर मैंने उसका सिर पीछे से पकड़ कर अपना लंड उसके मुँह में दे दिया और उसके गले तक पेल दिया, जिससे उसकी आंखें फट गईं.

अब मैंने भाभी को लिटाते हुए उनकी टांगों की तरफ अपना मुंह कर लिया और मेरे होंठ भाभी की चूत पर जा सटे. आदी- नहीं … मैं बता दूंगा … तुम मेरे लिए कुछ नहीं कर रही हो … और न ही मुझे बाहर कुछ करने दे रही हो. दो कॉफ़ी के बड़े-बड़े मग्गों में उबलती-उफ़नती कॉफ़ी डाल कर और दोनों मग्गों को एक ट्रे में रखकर आगे-आगे वसुंधरा और पीछे-पीछे मैं … बैडरूम में पहुँचे.

मैं समझ गया कि अब अंकल का वीर्य दीदी की चुत में गिरने वाला हो गया है क्योंकि वो दीदी की चुत में जोर जोर से झटके मार रहे थे. भाभी के गर्म मुंह में लंड गया तो मुझे भी चैन सा मिला और मेरी आह्ह … निकल गई. [emailprotected]कहानी का अगला भाग:क्रॉस ड्रेसर की सुहागरात की गे स्टोरी-2.

हाँ यह जरूर था कि अक्सर राजन अपना टिफ़िन ममता के साथ ही डिनर पर खोल लेता और शेयर कर लेते.

उसका लंड कभी मेरी जांघों पर लग रहा था तो कभी मेरी पैंटी के ऊपर से टच हो रहा था. इसके बाद मैंने अपना कुर्ता उतार दिया और पूछा- मर्दों की छाती में बाल क्यों होते हैं?पता नही, दादू. उनके बालों को प्यार से खींच कर एक ही झटके में लंड को उनकी चूत में पेल दिया.

ये बोल कर उसने अपने बैग से टॉवल निकाला और बाथरूम में जाने लगी, तो मैंने उसे रोका और अपना शॉर्ट्स उतार कर उसे गोद में उठाया और बाथरूम में ले गया. ड्राइवर भी शायद इन्ही खयालों में खोया हुया था और चुपचाप धीरे धीरे ऑटो चलाए जा रहा था. और चला गया।उस दिन मैं दोनों के लिये सेक्स पॉवर की गोली लेकर गया था जिसके खाने से औऱ भी ज्यादा मजा आया.

जब उससे बर्दाश्त नहीं हुआ तो वो बोली- बस जानू, अब कर दो कुछ, नहीं तो मैं मर जाऊंगी.

कुछ देर बाद संजू उठी और लाईट बंद करके उसने ब्लू कलर का जीरो वाट का बल्ब जला दिया. मीना बोली- संगीता गणित में बहुत कमजोर है, तुम अगर थोड़ा समय दे दो तो अबकी बार पास हो जाये.

ब्लू फिल्म हिंदी में सेक्सी बीएफ थोड़ी देर में मेरे रूम की बेल बजी और जिसका मुझे इंतज़ार था वो मेरे सामने थी. मैंने कहा- तो क्या आप कॉल गर्ल का काम करती हो?वो बोली- नहीं, मैं किसी के बुलाने पर नहीं जाती.

ब्लू फिल्म हिंदी में सेक्सी बीएफ इससे पहले कि मैं उसके लंड को चूसने के लिए नीचे झुकती उसने मेरे दूधों को ब्लाउज के ऊपर से दबाना शुरू कर दिया. वो मेरी ताबड़तोड़ चुदाई कर रहा था और मैं उसकी दमदार चुदाई का मज़ा ले रही थी.

हमारे यहां एक कहावत है ना चमड़े की जूती और चूत का कुछ नहीं बिगड़ता, जितनी घिसती है, उतनी लाल निकलती आती है.

ब्लू इंग्लिश फिल्म सेक्स

मम्मी बोलीं- मैंने सुना है आपका अपनी बीवी से तलाक हो गया?अंकल बोले- हां भाभी जी, उससे मेरा तलाक हो गया. धन की कोई कमी नहीं, हस्बैंड भी सचिवालय में जॉब में हैं।मैम अच्छी कद काठी की है और मॉडर्न भी हैं. उसने मुझे कमोड पर हाथ रख कर झुकने का कहा और वो पीछे से लंड डाल कर मुझे चोदने लगा.

कभी मैं उसकी चूचियों को सहलाता, तो वो और मचलने लगती और मुझे कस कर पकड़ लेती. उसमें लिखा हुआ था- हाँ बोलो?मैंने बोला- आपने मेरी बात का जवाब नहीं दिया?उसने बोला कि उसके हसबेंड आ गए थे तो नेट ऑफ कर दी थी, अभी नहीं हैं तो मेसेज किया. मनु ने आंख मार कर मुझसे धीरे से कहा- तू काम पर लग जा, मैं दो तीन घंटे से पहले वापस नहीं आऊंगी.

तभी वो चारों लेडीज आ गईं और उनको इस तरह से देखकर हमारा लंड खड़ा हो गया.

गालों पर, माथे पर, कंधे पर, गले पर, पता नहीं … हम एक दूसरे को कितना दबाना चूमना चाह रहे थे. दीदी- अर्णव मुझे अब नींद आ रही है, मैं सोऊंगी … तुम भी अपने कमरे में जाकर सो जाओ … बाकी पढ़ाई शाम में कर लेंगे. उसने मुझे अलग अलग पोज़ में करीब 20 मिनट तक चोदा और मेरे अन्दर ही झड़ गया.

मैं लगातार उनकी चूचियों को दबा रहा था और चूत को रगड़ रहा था … जिसे उनको डबल मजा आ रहा था. ओये सदके जावां …” उसकी शर्माने पर!और सच कहें तो यही शर्म एक स्त्री का गहना होता है. मनु को देखते हुए उसने कहा- ये रखो … अगर इस उपहार से भी वो ना पटे, तो ये मुझे दे देना … मैं जरूर पट जाऊंगा.

उसकी अमृतधार की पहुंच मेरी चूत के ऊपर से होते हुए सपाट पेट और लाल हो चुके मम्मों तक थी. मेरी पत्नी को मैं सहमति से चुदवा चुका था, इसलिए वो भी मेरी एहसानमन्द थी.

प्रीति को जैसे परम सुख का आनंद मिल रहा हो!दोस्तो, इससे पहले कभी भी प्रीति ने ऐसा काम नहीं किया था. जैसे ही मैंने पढ़ा कि नायक ने नायिका की दोनों टांगें अपने कंधे पर रख लीं और लंड को चूत में जड़ तक पेल दिया. इससे पहले कि मैं लंड को अन्दर डालता आंटी ने कहा- आराम से डालना … और आराम से करना … कोई जल्दी नहीं है.

मैं अपनी कमर को उसके झटकों के साथ मिला कर हिला रही थी और एक आनंद के सागर में डूबती जा रही थी.

अपने कमरे से बाहर आकर देखा तो सास ससुर जी के कमरे का दरवाजा बंद था. मैं पेंटी लाइन पर आकर जीभ से पूरी चुत के इर्द गिर्द के भाग को जितना चूम रहा था … वो उतना ही तड़प रही थी. डिनर-टेबल पर ऊँचे कैंडल-स्टैंड में तीन बड़ी-बड़ी मोमबत्तियां जल रही थी और कॉटेज की तमाम दूसरी फालतू लाइट्स बंद कर दी गयी थी.

पर मैं पूरे जोश में था, मेरा मूड अभी उसको छोड़ने का नहीं था। मैंने उसको थोड़ा किस किया और बूब्स दबा के गर्म किया और सोफे के पास घोड़ी बना लिया।ये तो यारो … मेरी सबसे पसंद की पोजीशन है. बेडरूम में जाते ही उन्होंने मुझे पलंग पर धकेल दिया और मेरे तने हुए लंड पर टूट पड़ीं.

मुझे डर था कि कहीं मेरी वजह से उसको कोई दिक्कत हुई, तो मैं अपने आपको कभी माफ नहीं कर पाऊंगा. उसी के रस को उंगलियों में भिगो कर मैं उसकी योनि के चारों तरफ फैला रहा था. मैंने चालाकी से उसके दोनों मम्मों की तारीफ की, तो बेध्यानी में चुत से हथेलियों को हटा कर उसने अपने दोनों हाथों से चुचियों को छिपा लिया.

कंडोम से चुदाई

उसने भी कहा- मुझे भी चरम सुख प्राप्त हुआ संजय … मैंने तुम्हारी आभारी रहूंगी.

वो बड़ी तेज तेज स्वर में सिसकारियां लेने लगी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… आआआ मज़ा आ रहा है. मैंने भी अपने दोनों हाथों से उनकी कोली भर ली और अपनी गर्म चूत में लंड का अहसास करने लगी. फिर कुछ देर के बाद उनका फोन आया- वो बोले, बंध्या मैं तेरे पास बहुत जल्द ऐसे ही 3-4 रईस लोगों को लेकर आने वाला हूं.

वैसे शर्म लिहाज़ तो मैं त्याग ही चुकी थी, पर फिर भी पता नहीं क्यों … मैं ये सब करने से खुद को रोक नहीं पायी. शायद कल्पना में मैंने अपनी चूत को कुछ ज्यादा ही जोर से रगड़ दिया था. कुत्ते और लड़कियों की सेक्सी पिक्चर”मुझे सहन नहीं हो पा रहा था तो मेरे पेशाब की एक मोटी धार मेरी फुद्दी से निकल गई.

आपने मेरी पिछली कहानीगीत मेरे होठों परपढ़ी और आपके हजारों की तादाद में ईमेल आए. परमीत ने कहा- हां यार मैं मजे तो कर ही रही हूँ, लेकिन सोचती हूँ उस दिन वाला संजय का लंड फिर मिल जाता, तो कितना मजा आता.

मां बोली- कोई बात नहीं, अब तेरे जीजा जी जैसे बोल रहे हैं वैसा ही कर. मैं भी अपने कमरे में चला गया और पलंग पर कुर्सी लगा कर अन्दर झांकने लगा. ड्राइवर ने भी मेरी कमर को पकड़ते हुए नीचे से एक झटका लगा दिया जिससे उसका मोटा और विशाल लंड मेरी फुदी के भीतर तक समा गया.

बीच रात में चाची मेरे लंड से खेलने लगी और हम दोनों ने ओरल सेक्स के बाद चूत चुदाई की. और चला गया।उस दिन मैं दोनों के लिये सेक्स पॉवर की गोली लेकर गया था जिसके खाने से औऱ भी ज्यादा मजा आया. मैंने भी उनकी चूची के निप्पल को अपने होंठों में दबाया और चूचे चूसने में लग गया.

राजन ने उससे बहुत अपनेपन से पूछा- तुम दोनों के बीच क्या अनबन है?ममता बोली- कुछ नहीं, मेरा नसीब ही ऐसा है.

हम लगभग आधे रास्ते तक ही पहुंचे थे। तभी तेज हवा के साथ बारिश होने लगी. फिर थोड़ी देर बाद विक्की का फ्रेंड बोला- विक्की तू यहां रुक … मुझे लाइब्रेरी जाना है.

यह कहकर उन्होंने जल्दी से अपना नाश्ता ख़त्म किया और वो ऑफिस चली गईं. वसुंधरा! यह यह … मैं! कैसे … क्यों …??” सेंटर-टेबल पर कॉफ़ी का करीब-करीब खाली कप रखते हुए मैं हकलाया. मुझे मालूम था कि अब मैं अगर उसको लंड चूसने को बोलूंगा, तो ये मना नहीं करेगी.

तो वह मेरे चेहरे को पीछे घुमा कर मेरे मुंह में अपनी जीभ घुसा देता था. स्नेहा भाभी और मेरी, हम दोनों की आवाजों से रूम में मदहोश कर देने वाली आवाजें गूंज रही थीं. कहानी के पिछले भाग में मैंने बताया था कि दोनों सेठ जो जीजा के दोस्त थे वो दोनों के दोनों ही नंगे होकर मेरे जिस्म से लिपटने लगे थे.

ब्लू फिल्म हिंदी में सेक्सी बीएफ मुँह से लंड चुसाई के बाद मामी ने अपने हाथ से मेरे लंड को सहलाना जारी रखा. आज मैं अपनी कोशिश के बाद स्वीटी आंटी की सेक्सी कमर, रसीली चूत, लाजवाब चूचे … के पूरे मज़े ले रहा था.

झांसी की राजधानी कहां है

वैसे तो यहां काम करने के लिए एक मेड आती थी, लेकिन वो एक महीने की दो हफ्ते की छुट्टी लेकर अपने गांव गयी थी. फिर अचानक से दीदी ने उनका हाथ वहां से वापस खींचा और वो बोली- श्वेता अब चलो. फिर मेरे सामने जो आदमी खड़ा था, उसकी पीठ मेरी ओर थी, वो थोड़ा पीछे हुआ तो अब उसकी पीठ मेरे बूब्स को टच हो रही थी। मैं अब भी समझ गयी कि इस साले को पता है कि पीछे लड़की खड़ी है, इस लिए पीछे होकर मजा ले रहा है.

मैंने उसके मुंह में पूरा लंड धकेलते हुए उसके मुंह को चोदना शुरू कर दिया. फिर मैंने अगला धक्का लगाया उसकी चूत में और उसने मेरा पूरा लण्ड अपने अंदर समा लिया. lali सेक्सीमैंने रेशमा के सुर में सुर मिलाते हुए कहा- हां पूनम, तुम काम खत्म कर लो.

जेठजी भी मेरी तड़प समझ गए और बिना देरी किए ही लंड को चूत के मुहाने पर सैट करके एक ही झटके में मेरी चूत में अपना पूरा लंड घुसा दिया.

और जब ऐसा करता तो सिल्क का बंदन कांप जाता- उफ्फ्फ आह अउ ईश आउच … उम्म्ह… अहह… हय… याह… आआह्ह!वो मेरे सर के बालों को जोर से खींच लेती. मैंने फिर से अपनी कमर को उचकाकर एक धक्का लगा दिया। पिंकी तो पहले से तैयार थी, उसने भी अपनी कमर को लय में उचका दिया, उसकी चूत भी कामरस से लबालब थी और एक बार में लगभग मेरा पूरा ही लण्ड उसकी चूत में उतर गया।पिंकी के मुंह से एक बार फिर से ‘आह्ह्ह्ह …’ की एक मीठी सी कराह निकल‌ गयी।पिंकी ने मुझे अब तुरन्त ही अपनी अपनी दोनों जाँघों के बीच अपनी टांगों से जकड़ सा लिया.

मुझे गुदगुदी और मजा दोनों आ रहे थे।उन्होंने उन दोनों को बिल्कुल गीली कर दिया ताकि उनका लंड आसानी से उनमें चला जाए. फिर मैंने चाची को अपने ऊपर लिया और मेरा लंड उनकी चूत में डाला और चोदता रहा। फिर मैं उनके पीछे से गया और एक पैर ऊपर किया और चुदाई करता रहा।इस तरह हमने बहुत सारी स्टाइल और पोजीशन में चुदाई की और करीब 20 मिनट तक हम चुदाई करते रहे।चाची को बहुत मजा आ रहा था और मुझे भी चाची की चूत चुदाई करने में बहुत मजा आ रहा था. मनोज के श्वेता की चूत में धक्के मारते हुए कहा- आह्ह … आह्ह … स्स्स … याह … ओह्ह … उफ्फ … हाय री श्वेता, मुझे नहीं पता था कि मेरी साली की चूत इतनी गर्म और चुदासी है.

’इससे पहले हम दोनों उठ कर वहां से चलते वो पूछने लगा- कुछ काम करते हो या पढ़ाई कर रहे हो?दोनों के मुंह से एक साथ निकला- पढ़ाई.

फिर वो मजाक के लिए माफी मांगने लगा, तो मैंने कहा- छोड़ो सारी बात और ये बताओ कि तुमने मुझे क्यों रोका है?तो संदीप ने एक गहरी सांस ली और कहा- मुझे पता है तुम्हारा बर्थडे अगले महीने की दस तारीख को आएगा, पर मेरा बर्थडे तो कल ही है. ये कहते हुए मैंने परमीत का लोवर खींचा, पर परमीत ने लोवर पूरा उतरने से बचा लिया. स्वीटी आंटी ने कहा- सिर्फ सुंदर … सेक्सी नहीं?मैंने कहा- सेक्सी नहीं, बल्कि सेक्स करने लायक लग रही हो.

कुत्ता घोड़ा वाली सेक्सी वीडियोलगभग 10 मिनट तक जांघें सहलाने के बाद सर ने मेरी पैंटी उतारी और अपनी 2 उंगली मेरी चूत में चलाने लगे. मैंने प्लेट में खाना परोसा और बहुत हौले से एक कौर तोड़ कर बहुत प्यार से वसुंधरा के दोनों होंठों के बीच रख दिया.

कीनर सेकस

मुझे चिल्लाती देख एक बार फिर से वो मेरी चूत में झड़ गया और मैंने उसे अपने सीने से चिपका लिया. वो मेरी तरफ देखकर संतुष्टि के भाव में बोली- ये आपने क्या करवा दिया, अपने ही भाई से. संगीता 19 साल की हो गई है लेकिन कक्षा 12 में पढ़ती है क्योंकि एक बार सातवीं में और एक बार दसवीं में फेल हो चुकी है.

लेकिन एक दो दिनों बाद चूत की खुजली फिर से बढ़ने लगी और मुझे लंड की याद आने लगी. हम दोनों सुबह करीब 9 बजे घर से निकले और गुड़गांव के ही एक कॉम्प्लेक्स में गए. पूरा लंड मेरी फुदी में घुस गया और मेरी बच्चेदानी को टक्कर मारने लगा.

जब उसने अपना लंड बाहर निकाला तो उसका वीर्य मेरी चूत से निकलकर मेरी जाँघों पर बहने लगा. उसके लंड पर हाथ फेरते ही मैंने उसको सोफे पर ही लेटा लिया और उसको किस करने लगा. धीरे धीरे 10-12 झटके के बाद प्रीति की चूत में मेरा आधा लंड घुस चुका था.

मैं लंड को धीरे धीरे अन्दर बाहर करने लगा और दोनों हाथों से चाची के मम्मों को दबाने लगा. मैंने कहा- तो मैं इसमें क्या कर सकती हूँ?ये बोले- तुमको मेरे सीनियर से सेक्स करना पड़ेगा.

पांच मिनट तक आहिस्ता आहिस्ता से वो मेरी चूत में लंड को अंदर-बाहर करते रहे.

स्वीटी आंटी ने मादक आवाज निकालते हुए कहा- आह आह रॉकी … मार ही डालोगे क्या. एच एच सेक्सीमैंने दूध निकाल दिया है, मैं आ रहा हूँ दूध डालने।वो ऊपर आने लगा तो मेरी नजर उसके लंड पर थी और वहाँ पर कुछ गीला था. सेक्सी पलंगतोड़इसलिए उसके लंड को रास्ता मिलते ही उसने अपनी पूरी ताकत लगा दी और मेरी झूठी चीख वाली नौटंकी असल हो गई. उसने दस मिनट तक मेरी चूत की चुदाई की और फिर मुझे सीधी होने के लिए कहा.

मैं विक्की से बोली- बेबी खाना ला दो … मैं बहुत थक गई हूं … अब मैं घर पर नहीं बनाऊंगी.

मैं सोच रहा था कि हम सब कल ही उन दोनों के बारे में बात कर रहे थे और आज वो हमारे साथ हैं. जिस दोस्त ने ये बात कही थी, उसकी ये बात सुनकर मुझे कुछ अज़ीब सा लगा. वो कुछ बोल नहीं रही थीं … लेकिन अपने होंठ दबाते हुए मेरी हरकतों का पूरा मजा ले रही थीं और सीत्कार रही थीं.

”तो जल्दी डिस्चार्ज करो चाचा जी … ऊई मर गई चाचा जी … आह आह … ऊई मां, ऊई मां!”रेखा जितना बोल रही थी उससे मेरी रफ्तार भी बढ़ती जा रही थी और मेरे लण्ड का मतवालापन भी. ग़ुस्से में मैं ऊपर वाले को भी कोसने लगा कि उसने मुझे एक मौका भी नहीं दिया. वो बहुत अच्छा लगा तो मैंने उसकी सारी बातें मानी सेक्स के दौरान!मैं जानती हूँ कि आज के टाइम में किसी गैर इंसान पर भरोसा करना मुश्किल है.

फुल डेकोरेशन

उस पर कब से नजर है मेरी जान?मैंने कहा- प्लीज, एक बार सैट करा दो ना!वो हंसकर बोली- अरे वो आपको सह भी पाएगी … कहां आप 78 किलो के और कहां वो बेचारी मुश्किल से 40 किलो की. हाँ यह जरूर था कि अक्सर राजन अपना टिफ़िन ममता के साथ ही डिनर पर खोल लेता और शेयर कर लेते. मैं बाहर गई और देखा तो पूरा घर खाली था केवल वह नौकर और हम तीन लड़कियां ही बची थी.

लेकिन मैं तुम्हें अपने जिस्म से एक बार प्यार करने का मौका जरूर दूँगी.

राजन बाहर आंगन में घूमते हुए सिगरेट पी रहा था इसलिए राजन को सब सुनाई दिया.

ये बोल कर उसने अपने बैग से टॉवल निकाला और बाथरूम में जाने लगी, तो मैंने उसे रोका और अपना शॉर्ट्स उतार कर उसे गोद में उठाया और बाथरूम में ले गया. अन्तर्वासना से मिला मुझे मेरा वह दोस्त मुझे सेक्स के बहुत मजे दे रहा था।बहुत देर तक मेरी चूत को ऐसे ही चोदने के बाद मेरी चूत लाल हो गई थी और अब मुझे दर्द भी होने लगा था तो मैंने उससे कहा- प्लीज बेबी, अब जल्दी कर लो! अब मुझसे और नहीं हो रहा. लड़की की सेक्सी पिक्चरवो थोड़ी सिहर उठी, उसने अपने हाथ से मेरे सर को पकड़ लिया मैं समझ गया कि वो मुझे वहीं चूमने बोल रही है, मैं उसे चूमता रहा.

प्रीत ने कहा- तुम्हारे भाई की कोई गर्लफ्रेंड है क्या?मैं बोली- नहीं है … तुम क्यों पूछ रहे हो?प्रीत- बस यूं ही … उसकी गर्लफ्रेंड होगी भी कैसे … उसे तो गांड माराने का शौक है न!प्रीत के मुँह से ये सुन कर मैं डर गई कि इसे कैसे पता चल गया. अब आगे:मैं हड़बड़ाते हुई बोली- तुम ये क्या बोल रहे हो?प्रीत मेरे बूब्स दबाते हुए बोला- तुम्हें दुपट्टा अच्छे से बांधना चाहिए था. हम दोनों सुबह करीब 9 बजे घर से निकले और गुड़गांव के ही एक कॉम्प्लेक्स में गए.

उधर आलिया भी किलकिला रही थी- ओह मर गई आह राज … धीरे चोदो … मुझे दर्द हो रहा है … आंह राज तुम्हारा बहुत बड़ा है. वो मेरे इस हमले हड़बड़ा गईं और जोर जोर से ‘आहह … ओह्ह!’ की आवाज़ें करने लगीं.

वो लंड अन्दर बाहर करते हुए लगातार बोले जा रहा था- आह … ले साली और अन्दर ले …मैं भी उसे ललकारने लगी- उन्हह … और जोर से चोद … आह … और जोर से … कुछ नहीं हो रहा तुम्हारे लंड से मुझे … साले गांडू … बस इतनी ही दम थी … चोद भोसड़ी के …अपनी गांड उठा उठा कर मैं भी पूरी ताकत से चुदवा रही थी.

अब मेरा लंड स्वीटी आंटी के चुत में अंडरवियर के ऊपर से ही सट रहा था. उनमें से में एक स्ट्राबेरी फ्लेवर्स का कंडोम लेकर लंड पर चढ़ाया और वापस दीदी के ऊपर चढ़ गया. वह बस मुझे चोदना चाह रहा था … वह भी बहुत ही बेदर्दी के साथ।कुछ देर बाद वो उठा और मुझे बिस्तर से बाहर खींच लिया और मुझे अपनी गोद में उठा कर लंड को मेरी गांड में डाल दिया और मेरे दोनों पैरों को कमर में फंसा कर मुझे जोर-जोर से उछालने लगा।तब भी उसका मन नहीं भरा तो उसने मुझे खड़ा कर दिया और खड़ा करके सामने से मेरी चूत में लंड घुसा दिया.

एक्स एक्स सेक्सी फिल्म वीडियो में उस शाम को खाना खा कर भैया अपने रूम में चले गए और मॉम डैड अपने रूम में घुस गए. मैं कार के पास जाकर उसमें छुपाया गुलाब बाहर निकाल लाया और पीछे करते हुए अन्दर आ गया.

मैं पापा की बात सुनकर अन्दर से बहुत खुश हो गया क्योंकि हमारे घर में मैं और पापा ही रहते थे. मोनिका- उम्म्ह… अहह… हय… याह… आराम से बेबी, जल्दी में हो क्या … जन्नत जाने के रास्ते में मस्ती करते हुए चलते हैं ना … आराम से चोदो न राजा. जब उससे भी रहा न गया तो वो धीरे से मेरे कान में सिसकारते हुए बोली- बस शरद, अब मेरी चूत में अपना हथियार डाल दो!मैंने अपनी पैंट को खोल कर थोड़ा नीचे किया और अपने लंड को अंडरवियर के ऊपर से बाहर कर लिया.

इंग्लिश वीडियो चोदा चोदी वाला

जेठजी अपने लंड पर और मेरी चूत पर थूक लगाया और एक ही झटके में पूरा लंड पेल दिया. मैं खुद को इतना दर्द क्यों पहुंचा रही थी, ये मैं खुद समझ नहीं पा रही थी, लेकिन कुछ पलों में ही मुझे मेरा उत्तर मिल गया. अभी पढ़ाते हुए 15 दिन ही हुए थे और संगीता के साथ मेरा रिश्ता झप्पी और चुम्बन तक आ गया था.

चाची मुझसे मिलने के लिए बहाने से अलीगढ़ में अपने किसी रिलेशन के यहां आ गई थीं. मैंने कहा- मेरी परीक्षा शाम 5 बजे खत्म हो जाएगी और मैं वहीं से गांव के लिए ट्रेन ले लूंगा.

ऐसा उन्होंने तीन चार बार किया और आधा गलास वाइन मुझे पिलाई और आधा खुद पी गये।फिर उन्होंने मुझे बेड के कोने पर लिटाया और ऊपर की तरफ मुँह करने को कहा। मुझे उनके आँड और नौ इंच का लंड दिखाई दे रहा था। उन्होंने दूसरे ग्लास में अपने लोड़े को डुबोया और मेरे मुँह में डाल दिया।टेस्ट वनीला आइसक्रीम का था.

मुझे भी मजा आ रहा था कि वो भारी भरकम मर्द मेरी गांड को चुदते हुए देख रहा है. दोस्तो, चूत मारते समय जब आप चुत को उंगली से रगड़ते हो, तो लड़की को डबल मजा आता है. शाम को दीदी कोचिंग चली गई … मैं जल्दी से उनके कमरे में गया और उनकी किताब से उस कागज को निकाल कर पढ़ने लगा.

लगता था जैसे भगवान ने बड़े प्यार से बहुत ही समय देकर उसके एक एक अंग को तराशा हो. उसकी इस इमेजिनेशन को देखते हुए आज मैं भी संजू के साथ साथ उसकी चूत में झड़ने लगा. मैंने कहा- यह तो मैंने कभी देखा ही नहीं?उन्होंने कहा- क्या कभी देखा भी नहीं है?मैंने पूछा- पति-पत्नी वाला प्यार … उसमें ऐसा क्या देखने वाली बात होती है?उन्होंने कहा- यह प्राइवेट मामला होता है.

मेरे मुंह से कामुक आवाजें निकलने लगीं- आह्ह … आह्ह … कमल … आऊ … आह्ह … करके मैं अपने दूध उसको पिलाने लगी.

ब्लू फिल्म हिंदी में सेक्सी बीएफ: कुछ ही देर में मैं भी काम से फ्री हो गयी … स्लैब के सहारे खड़ी होकर जेठजी की तरफ देखा, तो वो मुझे ऐसे देख रहे थे, जैसे पूछना चाह रहे हों कि और कौन सा काम बाकी है?जेठजी का चेहरा देख कर मेरे चेहरे पर अपने आप ही मुस्कुराहट आ गयी, जिसे जेठजी ने अपने लिए ग्रीन सिग्नल समझ लिया. विक्की- अच्छा … लेते आऊंगा, पर ये तुम लेती जाओ … नहीं तो रात में नहीं मिले, तो प्रॉब्लम हो जाएगी.

सुबह उठकर मैं घर पर सामान्य थी और कल की पार्टी के कारण आज हम लोगों ने कॉलेज जाना भी कैंसल कर दिया था. मेरे कमरे में आकर उसने मुझसे कहा- मेरे कॉलेज में मुझे एक प्रेजेंटेशन बनाने के लिए बोला गया है और मुझे बनाना नहीं आता … तो क्या आप मेरी हेल्प कर दोगे?मैंने उससे बोला- हां कर दूंगा. जब उसने अपना लंड बाहर निकाला तो उसका वीर्य मेरी चूत से निकलकर मेरी जाँघों पर बहने लगा.

उसके मुंह से मादक सी सिसकारियां निकलने लगीं- आह्ह … आह्ह … श्शस्स … करके वो अपने लंड को चुसवाने लगा.

जब मुझे उन्होंने इस बारे में बताया तो पहले मुझे बहुत गुस्सा आया लेकिन एक बार चुद गयी तो फिर मुझे भी रोमांच पैदा होने लगा. थोड़ी देर बाद मुझे बहुत मजा आने लगा तो सर पूरे जोर से अपना लन्ड मेरी चूत में डालने लगे. अब विशाल के शब्दों में:मौसम आज सुबह से ही खराब था। सुबह से ही बारिश हो रही थी। रास्ता लम्बा था। मैं धीरे धीरे कार चला रहा था। ट्रेन और बस के चक्कर में हमने काफी लेट कर दिया था। अन्धेरा होने को आया था.