मालिक और नौकरानी की बीएफ

छवि स्रोत,इंग्लिश फिल्म हिंदी में सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

नंगा चुदाई दिखाओ: मालिक और नौकरानी की बीएफ, तो मैं डर गया कि कहीं मुझे झांकते हुए देख तो नहीं लिया गया, मैं जल्दी से आंख बंद करके सोने का ड्रामा करने लगा.

मणिपूर सत्ता मटका

आंटी के हाथ से मैंने कपड़े ले लिये और अपना नागराज उसके हाथ में पकड़ा दिया. कंबल मंगा दे ओ बेदर्दीमैं बोला- एक बार मुझसे मरवा कर देखो मम्मी?वो बोली- नहीं, मैं नहीं ले पाऊंगी पीछे.

ये कह कर भाभी ने अपनी साड़ी वहीं खोल दी … और चोली और पेटीकोट में ही अपने कपड़े लेकर बाथरूम में चली गईं. कुत्ते पकड़ने वालों का नंबर delhiउसने भी बोल दिया- साले चुतियों, भैन के लौड़ों … आ जाओ मैं भी खेल ही लेती हूँ चुदाई का खेल.

सुरेश और मीता की चुदाई के साथ उस लड़के के साथ किस तरह का इलाज हुआ और सुरेश ने मीता को किस तरह से चोदा.मालिक और नौकरानी की बीएफ: मैं जल्दी से उठा और कपड़े-वपड़े पैक किए और हम बिना शादी अटेंड किए ही वहां से वापस आ गए.

फिर मेरे पति उससे बोले- यार मेरे पास पैसे नहीं थे … और बाहर भी उधार हो चुका है, कैसे आता!धीरज बोला- अरे अजय क्या यार, हम तेरे दोस्त हैं.मैं तेज तेज धक्के लगाने लगा।लगभग 10 मिनट बाद पुनः सीधा लेटाकर चोदने लगा।मैंने धक्कों की रफ्तार और बढ़ा दी और लगभग 10 मिनट के बाद उनका शरीर अकड़ने लगा और तेज़ी से अपने चूतड़ों को उछालने लगी।और वे स्खलित हो गई।अब मुझे झेलना भारी पड़ रहा था। क्योंकि स्खलन के बाद चूत बहुत संवेदी हो जाती है.

আদিবাসী সেক্সি ভিডিও - मालिक और नौकरानी की बीएफ

बीच बीच में मैं सांस लेने के लिए लंड मुंह से बाहर निकालती फिर मौसा जी की ओर देख कर लंड को चूम लेती और फिर गप्प से मुंह में भर लेती.कालू- मालिक … वो शम्भू की बेटी आज काम पर नहीं आई … उसकी तबीयत ठीक नहीं है.

रिचा और आयुषी बाहर मामी के साथ थीं। फिर मामी वहीं पर चक्कर काटने लगी. मालिक और नौकरानी की बीएफ संगीता दरवाजे की ओर बढ़ी और धीमे से बोल रही थी कि शायद कान्ता होगी, लेकिन इतनी देर से तो वो कभी नहीं आती.

उसकी पैंटी को मुंह से लगाकर मैं जोर जोर से चाटने लगा और फिर मैंने लंड भी बाहर निकाल लिया.

मालिक और नौकरानी की बीएफ?

आखिर थे तो मर्द ही न … कब तक मेरी कामुक अदाओं, मेरे काम कटाक्षों को अनदेखा करते. कहानी शुरू करने से पहले मैं आपको अपनी मां के बारे में बता देती हूं. कई बार मेरी चुदाई करते हुए वो थ्रीसम सेक्स के बारे में भी बात करते थे.

मेरा स्वभाव बचपन से ही कुछ लड़कियों जैसा था, जिस वजह से लोग मुझे चिढ़ाया भी करते थे. सुबह होते ही मैंने अवनी से कहा कि वाशरूम में जा और अपनी ब्रा-पैंटी उतार ले. मैं उससे अलग हुआ और मैंने अपने सारे कपड़े निकाल दिए, बस अंडरवियर में हो गया.

मेरा मन कर रहा था कि सर अगर मेरे मुंह में एक बार झड़ जायें तो मैं उनका सारा माल पी लूं. अब राहुल थोड़ा गाली की शुरूआत करते हुए बोला- बोल साली, लेगी मेरा लौड़ा!मैं तो पहले से ही भट्टी सी तप रही थी मैंने कहा- साले दे दे, जो देना है … क्यों मेरी फुद्दी को तड़पा कर पाप कर रहा है. भाभी- तू बड़ा बेशर्म हो गया है, चाची को तेरी शादी के बारे में बोलना पड़ेगा.

उधर पहुंच कर मैंने भाभी को कॉल किया, तो भाभी ने बताया कि वो रास्ते में हैं, दस मिनट में पहुंच जाएंगी. शुरुआत में मेरी उससे कोई बात नहीं होती थी, लेकिन दो पांच दिनों में उसकी और मेरे रूममेट की अच्छी खासी दोस्ती हो गई.

एक दिन रात को जब मैं पेशाब करके अपने कमरे में आ रही थी, तब अम्मी अब्बू के कमरे की लाइट चल रही थी.

उसने भी बोल दिया- साले चुतियों, भैन के लौड़ों … आ जाओ मैं भी खेल ही लेती हूँ चुदाई का खेल.

एक कमसिन काली के मुलायम हाथ लंड के इतने करीब हो … और वो उसको महसूस करके खड़ा ना हो, ऐसा हो ही नहीं सकता. अब मैं अपनी आज की कहानी शुरू करता हूं जो कि मेरी भाभी की चुदाई की कहानी है. आंटी आंख चमका कर बोलीं- वो कैसे?अम्मी ने आंटी से कहा- यार, यहां पर कुछ लड़के ऐसे हैं, जो एक बार का एक हजार रुपए देते हैं.

वो कराहते हुए मीठी आवाज में कहने लगीं- आह … रुको रुको!मैंने उनकी एक ना सुनी, क्योंकि मैं झड़ने वाला था. मुखिया अपने मुनीम के साथ कोई जरूरी बातें कर रहा था, तभी सन्नो और मुनिया उनके पास चली गईं. बड़े भाई की बेटी यानि की अपनीभतीजी की चुदाईकी कहानी वभाभी की चूत चुदाईमैं आपको पहले ही बता चुका हूं.

धीरे से मैंने नज़र को तरछी करके देखा तो रजिया की मैक्सी जांघों के ऊपर तक आ गयी थी.

कालू वहां से सीधा जंगल के रास्ते निकल गया और वहां उसको खबर मिली कि आज फिर कोई लड़की गायब हो गई. मैंने देखा कि मां के हाथ उसके लंड पर लगते ही उसका लौड़ा और ज्यादा टाइट हो गया. वो बोली- सारा तुम ही पी जाओगे तो मैं अपनी बच्ची को क्या पिलाऊंगी?फिर मैंने दोबारा से उनके होंठों को चूमना शुरू किया और चूसता रहा.

दोस्तो, मैं जीत फिर से हाजिर हूं अपनी लाइफ का एक ख़ास पल लेकर। जैसा कि मैंने पिछली स्टोरीऔलाद की चाह में चुद गयीमें बताया था कि कैसे मैंने बंगाली भाभी की चुदाई की. मैंने मन में सोचने लगा कि इसका मतलब ये हुआ कि या तो मेरी अम्मी या बहन को ही ये रंडी कह रहा है. उसने आगे हाथ लाकर मेरी दोनों चूचियों को पकड़ लिया और मेरी गांड में नीचे से धक्के लगाने लगा.

अब मैं उसकी मैक्सी को उतारने लगा और उसके हाथ ऊपर करवाकर मैंने उसकी मैक्सी को सिर के ऊपर से निकाल कर उसके जिस्म से अलग कर दिया.

मैं- आंह जान मैं अपने लंड को आपके चूत के मुँह पर रख कर धीरे धीरे अन्दर पेल रहा हूँ. साली शिखा ने पहली बार मेरी चूत तो चाटी थी, लेकिन मेरे बोबों को जो स्पर्श आज मिला, वैसा उसने नहीं दिया था.

मालिक और नौकरानी की बीएफ मैं- भाभी, आप किसी को बताओगी क्या?रुक्मणी- मैं क्यों बताऊंगी?मैं- मैं तो बताने से रहा. कसम से सिमरन और उसकी दीदी एकदम दूध सी गोरी और कमसिन ऐसी, जैसे कि कोई कली हों.

मालिक और नौकरानी की बीएफ किस करते हुए वो नीचे पहुंच गयी और मेरी फ्रेंची के ऊपर से मेरे तने हुए लौड़े को चूम लिया. आपको यह सेक्स विद रोमांस स्टोरी कैसी लगी, इस पर भी आप मेल जरूर कीजिएगा.

फिर हम सब घर में शौहर बीवी की तरह रहेंगे और तेरी मां और दोनों बहनें तेरी और मेरी बीवी होंगी.

देवर भाभी को

उसने चिल्लाते हुए मुझसे पूछा- कौन हो तुम? इस तरह कोई कैसे किसी के घर में घुस जाता है भला?मैं- जी मेरी गलती है, मुझे माफ कर दो लेकिन मैंने 3 बार डोरबेल बजायी थी, लेकिन जवाब ना मिलने पर मैंने दरवाजे पर दस्तक दी. मगर मैंने उनको और ज्याद जोर से दबोच लिया और कसकर उनके होंठों पर अपने होंठों को चिपका दिया. उसकी कुंवारी चूत में चुदाई करते हुए लंड के अंदर बाहर होने की आवाज कमरे में सुनी जा सकती थी जो पच … पच … की ध्वनि के साथ निकल रही थी.

फिर उसने बाथरूम में रखी अपनी शेव करने वाले रेजर से मेरी चूत साफ की और मुझे लेकर फिर से बिस्तर पर आ गया. मैंने सोचा कि लौंडिया चुदने को राजी हो तो मजा ठोकने में ज्यादा मजा आता है. मैंने उनके पास कॉल करने के लिए कहा तो वो बोली कि वो खुद ही कॉल करेगी.

उसने लाकर वो बैग एक तरफ रख दिया और हाथ मुंह धोने अंदर वॉशरूम में चला गया.

इंडियन हॉट भाभी स्टोरी में पढ़ें कि सामने वाली भाभी हमें देखती थी जब मैं अपनी गर्लफ्रेंड की चुदाई करने उसे दोस्त के फ्लैट में ले जाता था. इतना ही नहीं, मैंने और मेरे पति सोनू ने मिल कर कैसे सर की इज्जत लूटी वो वाकया भी बड़ा मजेदार है. मैंने अपने हाथ भाभी के मम्मों पर रख दिए और उन्हें सहलाने लगा, जिससे भाभी भी गर्म होने लगी थीं.

अगर तुम उसमें पास हो गए, तो हम तुम्हें अपना दामाद स्वीकार कर लेंगे. मैं पूर्णतः तृप्त, संतृप्त होकर मौसा जी के बाजू में लेट गयी और उन्होंने भी मुझे अपनी छाती से चिपटा लिया. अब मौसी भी परेशान हो गयी कि मुझे इतनी ज्यादा ठंड कैसे लग रही है! वो उठ कर मेरे पास आयी और मेरे बदन को छूकर देखा.

पहली चूत चोदने के बाद दोबारा भी कोशिश करता रहा कि दूसरी चूत कैसे मिले लेकिन मुझे सफलता नहीं मिली. वहां क्या हुआ?हैलो, मेरा नाम राजा है और मैं आज अपनी एक सच्ची जंगल सेक्स स्टोरी सुनाने जा रहा हूँ.

फिर हम दोनों ने अपने बाल ठीक किये और कपड़े भी ठीक करके चुपके से वहां से निकल आये और अपनी सीट पर आकर बैठ गये. वैसे भी जब इन्सान इस तरह से अपने ही घर में अकेला होता है तो मजा लेने के बारे में ही सोचता है. गांव में मुझे भांग खाने की आदत पड़ गई थी, तो मैं अपने साथ गांव से भरपूर मात्रा में भांग लाया था.

ये थी मेरी स्टोरी, आपको मेरी पड़ोसन देसी गर्ल की चुदाई की ये कहानी कैसी लगी मुझे जरूर बताना.

तभी मैंने देखा कि अम्मी एक टाईट लैगी और कुर्ती पहने हुए घर में काम कर रही थीं. उसके बाद मैंने उसे घोड़ी बना लिया और अपना लौड़ा उसकी गांड में घुसा दिया. शादी में से वापस आने के बाद सुजाता का ख्याल मेरे दिमाग से निकल ही नहीं रहा था.

ऊपर ब्लैक शर्ट के साथ लाल पैंटी में गजब की माल लग रही थी वो। मैंने थोड़ा और इंतजार करना ठीक समझा।अब मैंने भी अपनी टीशर्ट उतार दी और उसकी शर्ट भी अपने हाथों से उतार दी. लंड को पूरा घुसाने के बाद वो रुका नहीं और ताबड़तोड़ लन्ड मेरी गांड में पेलने लगा.

सुरेश- एक बात पर ध्यान देना रघु, ये खेल कामक्रीड़ा है, तो इसमें मुझे मीनू के सभी अंगों को छूना चूसना मसलना ये सब करना होगा. फिर मैं अपनी मदनमणि रगड़ने लगी और फिर चूत के छेद में दो उंगलियां घुसा कर जल्दी जल्दी अन्दर बाहर करने लगी. शीशे में अपनी योनि देख कर मैं मन ही यह सोच के लजा उठती कि इसी के भीतर मेरे पति का लिंग प्रवेश करेगा, मेरी सील टूटेगी, मुझे दर्द सहना पड़ेगा फिर मज़ा भी मिलेगा और नमन कितने खुश होंगे मेरी योनि की सील तोड़ कर.

ब्लू फिल्म चुदाई दिखाओ

उसने जब अन्दर से रूम देखा, तो कहा- अरे ये तो हमारे घर से भी बड़ा है.

वासना की कहानी में पढ़ें कि कैसे डॉक्टर अपनी बीवी की चूत चुदाई की तैयारी में था कि गाँव का मुखिया आ गया. मैं कल तुझे अपने खेत दिखाने के बहाने ले चलूंगा, तेरी मौसी से भी मैं बोल दूंगा कि रूपांगी को हमारे खेत देखना है. अब वो बहुत उत्तेजित हो गयी थीं और किसी भूखी शेरनी की तरह मुझ पर टूट पड़ीं.

धीरज बोला- हां आंटी, अभी आपकी चुत में कुछ बार घुसेगा … तो बड़ा और मोटा हो जाएगा. मुझे मेल भेजते रहिये, इस सेक्स कहानी को आगे लिखने के लिए आपके मेल मुझे टॉनिक देते हैं. ओड़िया सेक्स मूवीउसने कुछ देर सोचा और कहा- ठीक है, लेकिन कल मुझे होटल में रूम दिला देना.

मेरी पनियाई चूत का रस मिक्स होने के कारण यह एक अलग दर्जे का स्वाद आ रहा था. मैं कंपनी में ही उनसे चुदवाने की प्लानिंग सोचने लगी लेकिन ऑफिस में चुदाई होना संभव नहीं था.

कहीं मामी ने देख न लिया हो?अवनी अपना राग सुना रही थी और मुझे अपने लंड को शांत करने की पड़ी थी. उसकी कोहनी महेश की जांघों के जोड़ यानि लंड के बिल्कुल पास लगी और उसकी कोहनी टच होने से महेश की चीख निकल गई. अब मेरा हाथ एक हाथ मौसी की चूत को सहला रहा था और दूसरे हाथ से मैं एक एक करके उनके बोबों को दबा रहा था.

बाद में पता चला कि साली लंड का दर्द सहन ही नहीं कर पाई और …सुमन- क्क्क. अभी भी मैं उसको चोदता रहता हूं और हमारा ये प्यार अब और ज्यादा गहरा होता जा रहा है. मैंने कहा- लस्सी की क्या जरूरत है?वो बोली- आज हमारी इतनी लस्सी निकलेगी, तो हमको इसकी जरूरत पड़ेगी.

कल आपने कहा था कि आप मेरी दोस्त हो, तो क्या मैं आपको हग कर सकता हूँ.

मैं कुछ कह पाता, इसके पहले ही उसने मेरी गांड में दोबारा से लंड पेल दिया. मामी ने मुझे कसकर पकड़ लिया और मेरा 7 इंची लंड मामी की चूत में अंदर बाहर होने लगा.

मुखिया- लेकिन वो जाग गया, तो क्या होगा!सुमन- आप भी ना बहुत सवाल करते हो. फिर उन्होंने मुझे अपने से चिपटा लिया और झड़ने लगे साथ ही मेरी चूत ने भी रस की नदिया सी बहा दी. उसका गला भी काफी खुला था, जिससे सुमन की चूचियों की क्लीवेज साफ नज़र आ रही थी.

यहां इस पुराने से घर में अच्छा नहीं लगता था, इसलिए मुखिया जी ने हवेली में हमको शिफ्ट कर दिया है. अधेड़ उम्र में भी उसने अपने जिस्म को ऐसे मेंटेन करके रखा हुआ था जैसे कि किसी जवान लड़की का जिस्म हो. कालू ने इशारे से पूछा कि वो लड़की कौन थी?अमित- वो लड़की गांव की ही थी … मगर उसकी शक्ल नहीं देख पाया.

मालिक और नौकरानी की बीएफ ये कह कर भाभी ने अपनी साड़ी वहीं खोल दी … और चोली और पेटीकोट में ही अपने कपड़े लेकर बाथरूम में चली गईं. मेरी उंगलियां उनकी चूत में अंदर बाहर चल रही थीं और मामी चुदाई के लिए गर्म होने लगी थी.

रानी के सेक्सी

सुरेश- अरे सच्ची … तुम्हें तो पता है कि सोने के बाद मैं मुश्किल से ही उठता हूँ. इन्हीं किनारों के बीच में एक लम्बी सी झील थी जिसमें पानी की बूंदें चमक रही थीं।चूत की झील के आस पास घनी झाड़ियों का जंगल था जो पूरी झील को चारों ओर से घेरे हुए था। मेरे मुंह में पानी आ गया और मैं एकदम से भाभी चूत पर मुंह देकर जीभ से उसको चूसने लगा. अब ये बात तुम खुद बताओ कि क्या तुमको मुझमें कोई कमी दिखती है या मैं तुम्हें पसंद नहीं हूँ?कालू- कैसी बातें कर रही हो मैडम जी.

मगर कहते हैं कि मनचाहा लंड मिल जाये तो चूत और मन दोनों ही ज्यादा देर तक शांत नहीं रह सकते. उसके बाद मैंने उनको बाय करते हुए एक किस किया और फिर वहां से मधुराज जी के साथ निकल लिया. चार भाई की कहानीमैं उम्मीद करता हूं कि पाठिकाओं की चूत और चूचियों की मालिश हो रही होगी.

वो कभी इधर करवट लेती, कभी उधर … फिर ऐसे ही पता नहीं कब उसकी आंख लग गई और वो सो गई.

इस तरह से मैंने भी उसकी सामने से खुलने वाली शर्ट के बदन खोले और अन्दर से बिना ब्रा के तनी हुई उसकी रसीली चूचियों को चूसने लगा. मैं तो लार टपकाते हुए उनको देखने लगा और वो अलमारी से दूसरी ब्रा निकाल लायीं.

सुमन के चेहरे पर एक क़ातिल मुस्कान आ गई थी, जिसको कालू भी अच्छी तरह समझ गया था. हर रोज वो पी कर घर आता है और इतना नशे में होता है कि कभी कभी उसके शू और कपड़े भी मुझे निकालकर उसे सुलाना पड़ता है. वो लंड चूसने में एकदम एक्सपर्ट थी यार … बता नहीं सकता कि कितना मजा मिल रहा था.

नीचे से मैंने अपनी फेवरेट ब्रा और पैंटी पहनी थी जिसमें मैं किसी ब्लू फिल्म की हिरोइन से कम नहीं लगती थी.

उसका मूत नमकीन था।यही कहानी लड़की की वासना भरी आवाज में सुनें!फिर उसने अपनी धार मेरे चेहरे और चूचियों पर मारी. उनकी गांड को मैंने थोड़ा सा ऊपर उठाया और साड़ी को खोल कर उतार दिया. सुरेश ने लंड को चुत पर सैट किया और धीरे से धक्का लगाया, तो आधा लंड चुत में घुस गया.

सट्टा 786 किंगआपको मेरी यह कॉलेज गर्ल लव सेक्स स्टोरी कैसी लगी मुझे इसके बारे में अपने विचार जरूर बतायें. अब जो नजारा मेरी आंखों के सामने था उसे देखकर मेरी आंखें फटी रह गयीं.

सेक्सी फिल्म नंगी हिंदी में

मैं कुछ देर रुका और जब उसे राहत हुई लंड आहिस्ता आहिस्ता पूरा अंदर डाल दिया. सबसे बड़ी बात ये थी कि सुमन भाभी की खूबसूरत जवानी उनके एक बच्चे होने पर भी कहर बरपाती थी. भाभी ने पहले तो आखें बंद कर लीं, पर फिर अपना मुँह खोल दिया और लंड अन्दर बाहर करने लगीं.

सुरेश बाथरूम से बाहर आया और सुमन को जगाकर कहा कि मैं तो रात देर से आया था, इसलिए मेरी आंख जल्दी नहीं खुली, मगर तुम क्यों ऐसे घोड़े बेच कर सो रही हो?इस बात पर सुमन ने बहाना बना दिया कि अकेले उसको भी रात को देर से नींद आई थी. मगर उसकी आवाज दब कर रह जाती क्योंकि मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ जमा रखे थे. भाभी की चुदाई का सिलसिला दस मिनट तक चलता रहा और दस मिनट के बाद में तेज धक्के के साथ झड़ गया.

वो बोली- क्या कर रहा है हरामी?मैं बोला- बस भाभी … मन कर गया है … मेरा तना हुआ है … प्लीज रोको मत. हॉट सेक्सी मॉम स्टोरी में पढ़ें कि मैं अपनी मां के साथ बाइक पर घर आ रहा था. मैं फिर से भाभी के गुलाबी होंठों को चूसने लगा। अब वो भी पूरी शिद्दत से मेरे होंठों का रस पीने में लग गयी थी.

अगर तुम उसमें पास हो गए, तो हम तुम्हें अपना दामाद स्वीकार कर लेंगे. एक दिन मैं हिसार बस स्टैंड से बैंक जाने के लिए ऑटो का इंतजार कर रहा था.

लेकिन फिर मुझे लगा कि शायद इस मजबूरी में कोई भी लड़की ऐसा ही जवाब देती.

हम एक बिजनेस हाई कॉलोनी अपार्टमेंट में रहते हैं, जहां दसवीं मजिंल पर हमारा बड़ा फ्लैट है. वीडियो सेक्सी अंग्रेजफिर हमने सर को चाय पानी कराया और उसके बाद मैं खाना बनाने में व्यस्त हो गयी. हॉट सेक्स भाभीमेरी कामुक नजरें दीदी के बदन पर पड़ी तो …नमस्कार दोस्तो, मैं राज, उत्तर प्रदेश का रहने वाला हूं. बड़ी मुश्किल से ये मौका हाथ लगा था और मैं इस मौके को किसी भी कीमत पर अपने हाथ से जाने नहीं दे सकता था.

एक तरफ में केवल गेहूं के खेत लहलहा रहे थे तो दूसरी तरफ नदी में औरतों की जवानी.

जब तक मुखिया उस हरी के पास पहुंचता है तब तक हम सुरेश के क्लिनिक चलते हैं. उसने मेरे मुंह को अपनी चूत पर दबा लिया और जोर से सिसकारते हुए बोली- आह्ह … चोद दो राज … मुझे चोद दो … फक मी राज … फक मी प्लीज!अब मैं भी नहीं रुक सकता था. थोड़ी देर में मेरे लंड ने तेज पिचकारी मारी और उसके मुंह को पूरा वीर्य से भर दिया।रोबीना मेरे लंड के पानी को थूकना चाहती थी लेकिन मैंने उसके मुंह से लंड को नहीं निकाला और फिर उस पर जीभ चलाते हुए उसको वो अंदर ही अंदर पेट में ले गयी.

वो कराहते हुए मीठी आवाज में कहने लगीं- आह … रुको रुको!मैंने उनकी एक ना सुनी, क्योंकि मैं झड़ने वाला था. अब हमारे होंठ आ मिले और हम दोनों एक दूसरे के होंठों को रस अपने अपने मुंह में खींचने लगे. मन कर रहा था कि इसकी टीशर्ट को निकाल दूं लेकिन वहां पर आसपास में लोगों के देखने का डर था.

ब्लू सेक्सी बिहारी

अब्बू, अम्मी के सिर के तरफ अपने चेहरा लाए और एक दूध हाथ में लेकर मसलने लगे. अब मुझे सिर्फ मौका देख कर सबकी नज़रें बचा कर चुपचाप ऊपर कमरे में जाना था ताकि मुझे कोई टोके न!और फिर अपने पूरे कपड़े उतार के निर्वस्त्र होकर अपनी मनमानी करना था. मेरे अंडरवियर के पांयचे से शायद उन्हें मेरे लंड के दोनों तरफ का हिस्सा नजर आ रहा था.

देखते देखते कब उन दोनों के होंठ एक दूसरे से मिल गए, कुछ पता ही नहीं चला.

थोड़ी ही देर में सात-आठ पिचकारियां मेरे लंड से निकलीं, जो सीधे उनके गले के अन्दर चली गईं.

कहानी में मैं बताऊंगा कि कैसे मैंने अपनी बहन की चूत की आग को ठंडा किया. फिर बाथरूम में जाकर हम दोनों बारी बारी से फ्रेश हुए, हमने लंच किया. सेक्सी पिक्चर व्हिडिओ फुल एचडीइतने में इकबाल बोला- क्या भोसड़ी की, साली गांड में पहली बार ले रही है क्या, तेरे मर्द ने गांड का मजा नहीं दिया तुझे?मैं बोली- नहीं.

भाभी की चूत Xxx चुदाई कहानी में पढ़ें कि मैंने अपने अफसर की बीवी को सेट कर रखा था. तभी न जाने कैसे मेरी अचानक से नींद खुल गई, तो मैंने धीरे से करवट बदली. सेक्स कहानी में आपको विभिन्न किस्म की चुदाईयों का रस मिल रहा है, जिसको लेकर आपके मेल भी काफी संख्या में मिल रहे हैं.

खाने के बाद मैंने नताशा को बालकनी में भेज दिया और इंतजार करने को कहा. धीरे-धीरे मैं उनकी पैन्टी के किनारे से हाथ डालकर उनकी चूत सहलाने लगा.

उनके होंठों की छुअन से मेरा भी मूड बन गया और मैंने भी उनके कपड़े उतार फेंके.

अब वो बहुत उत्तेजित हो गयी थीं और किसी भूखी शेरनी की तरह मुझ पर टूट पड़ीं. मैं इसके लिए आपको भूतकाल में ले जाती हूं क्योंकि जो मैंने अपनी मां के बारे में सुना था वो आपको भी बताना जरूरी है. 10 मिनट तक मैंने पूरे जोश में मां की गांड मारी और फिर उनकी गांड में ही झड़ गया.

हॉट इंग्लिश पिक्चर कुछ देर बाद बस चल दी, तो मैंने अपने सीट के पर्दे डाल दिए और भाभी का हाथ पकड़ कर चूम लिया. मई का महीना आ गया था और 12 तारीख को वो मुझे वहां से अपने साथ ले गये.

मैंने खिड़की की ओर अपनी पीठ कर ली थी और भाभी बर्थ के दूसरे कोने पर बैठी थी. मैं भाभी की गांड को चाटने लगा। मुझे भाभी की गांड को चाटने में बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था। फिर उनके दोनों चूतड़ों पर किस करने लगा। वो चुपचाप होकर गांड चटवा रही थी। अब मैं भाभी की गांड के छेद में किस करने लगा।वो सिसकारियां भरने लगी। उसको भी गांड चटवाने में मजा आ रहा था. मैं गांड मारने वाला होने के बावजूद उसनेमुझे कैसे चोदा, अगर आप ये जानना चाहते हैं तो प्लीज़ मुझे मेल करें … बॉटम गे लव स्टोरी के नीचे कमेंट करें.

देवर भाभी की सेक्सी वीडियो भोजपुरी

साली मादरचोद को कब से चोदने की इच्छा थी मेरी … आज इस पर मैं और मेरा लंड जरा भी दया नहीं दिखाएंगे. मैंने अपनी बहन से कहा कि मेरे पेट में दर्द हो रहा है … और मैं सो रहा हूं. ये सुनकर मैंने भाबी की टांगों को उठाया और जोर जोर से उसकी चूत में ताबड़तोड़ धक्के मारने लगा.

कालू- मैं रुकूं या जाऊं मालिक!मुखिया- रुक कर क्या मेरी रासलीला देखेगा तू! जा … जाकर जो मैंने बताया वो हरी को बोल दे और हां पहले मैडम के पास होकर जाना. मेरा हाथ भाभी की चूत पर पहुंच गया था लेकिन फिर वो छुड़ाकर भाग गयी और मैं भाभी को चोद नहीं पाया.

आपका चुदने का बहुत मन होता होगा, तो कैसे करती हो?वो बोलीं- मैं क्या कर सकती हूँ.

मैं समझ गया कि ये सब सामान अपने बैग में लाई थी और बंदी मुझसे क्या चाहती है. अगर आपको इस एडल्ट सेक्सी चैट में मज़ा आए, तो फिर हम लोग आगे की सोचेंगे कि क्या करना है. इस बार मैंने उसे घोड़ी बनाया और थूक लगा कर उसकी गांड में लंड डालने लगा.

मेरी गांड इतनी टाइट थी कि अगले 5 मिनट में ही उसका पानी मेरी गांड में निकल गया. मैंने दीक्षा को जगाने लगा, तो समीक्षा कहने लगी- नहीं, दीदी को मत बताओ. मेरे चाटते चाटते हुए ही उसकी चुत ने गर्मागर्म लावा मेरे मुँह पर छोड़ दिया.

उसकी रंगत दूध से भी ज्यादा सफेद थी और रोने की वजह से उसका मुँह पूरा लाल हो चुका था.

मालिक और नौकरानी की बीएफ: सुरेश जब घर पहुंचा, तो सुमन ने रेड कलर की बहुत ही सेक्सी नाइटी पहनी हुई थी, जिसको देखकर सुरेश खुश हो गया. फिर धीमे से भाभी की आवाज आई- राजा और!मैंने कहा- भाभी आप मुड़ोगी क्या?उन्होंने हां कर दिया, तो मैंने उन्हें सीधा कर दिया और उनके स्तनों पर अपनी छाती रख कर लेट गया.

मुखिया जी पहली बार हमारे घर आए हैं हम आज इनको अच्छी तरह खीर खिलाएंगे. वैसे भी सुबह मुझे हवेली में सामान शिफ्ट करना है, तो काम ज़्यादा है. मेरे साथ ऐसी हरकत कैसे कर सकता है तू?मैं बोला- देखो मामी, आप सबसे पहले एक चूत हो और मैं एक लंड हूं.

मेरा पूरा रोम-रोम उसके सेक्स के आनंद में डूब गया।मैंने इसके पहले कभी भी गांव की लड़की की जवानी का भोग नहीं किया था। गांव की लड़कियों में शहर की लड़कियों की अपेक्षा ज्यादा सहन शक्ति होती है.

मुखिया ने सुमन को अपनी बांहों में समेटा और उसकी तनी हुई चूचियों का मजा महसूस करने लगा- अरे क्या हुआ सुमन रानी, इतनी डरी हुई क्यों हो तुम?सुमन ने मुखिया को पूरी बात बताई, तो मुखिया के चेहरे पर मुस्कान आ गई. खेतों में कपड़े ना खराब हो जाएं … क्योंकि खेतों में कोई बिस्तर तो होता नहीं था, मिट्टी लग कर चुगली कर देती थी कि चुदाई हुई है. इकबाल भी मेरी चुत का रस पीकर बोला- आह सच में रे इसकी चुत का तो बड़ा मस्त पानी है रे.